लाइव टीवी

Delhi Fire: मैनेजर ने बाहर से जड़ दिया था फैक्ट्री पर ताला, आग लगने के बाद नहीं निकल सके मजदूर

shankar Anand | News18Hindi
Updated: December 9, 2019, 4:57 PM IST
Delhi Fire: मैनेजर ने बाहर से जड़ दिया था फैक्ट्री पर ताला, आग लगने के बाद नहीं निकल सके मजदूर
अनाज मंडी अग्निकांड में 43 लोगों की मौत हो गई थी. (PTI)

Delhi Fire: जैसे-जैसे मामले की जांच आगे बढ़ रही है, कई खुलासे हो रहे हैं. इसी दौरान पता चला है कि मैनेजर ने फैक्ट्री के मुख्य गेट पर ताला लगा दिया था, जिससे लोग निकल नहीं सके और फैक्‍ट्री कब्रगाह बन गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 9, 2019, 4:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी (New Delhi) के रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी (Anaj Mandi) में रविवार सुबह लगी भीषण आग से 43 लोगों की मौत हो गई. हादसे में घायल हुए कई लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है. आग एक बैग बनाने की अवैध फैक्ट्री में लगी थी. दिल्ली पुलिस ने फैक्ट्री के मालिक और मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया है. जैसे-जैसे इसकी जांच आगे बढ़ रही है, कई खुलासे भी हो रहे हैं. इसी दौरान पता चला है कि मैनेजर ने फैक्ट्री के मुख्य गेट पर बाहर से ताला लगा दिया था, जिससे यहां सो रहे लोग आग लगने के बाद बाहर नहीं निकल सके और फैक्ट्री इन मजदूरों के लिए कब्रगाह बन गई.

कैसे हुआ हादसा?
बताया जा रहा है कि हादसा शॉर्ट सर्किट के कारण हुआ और चिंगारी नीचे रखे केमिकल के बॉक्स पर जा गिरी. केमिकल पर गिरने के कारण चिंगारी काफी तैजी से फैल गई. देखते ही देखते चिंगारी ने आग का रूप ले लिया. रही सही कसर सामान पैकिंग करने वाले सुलेसन केमिकल ने पूरी कर दी. इसके संपर्क में आते ही आग भीषण हो गई और भारी मात्रा में धुआं उठने लगा. यह धुआं कई लोगों की मौत का जिम्मेदार बना.

फैक्‍ट्री में बाहर से लगा था ताला

हादसे वाली रात को फैक्ट्री में फुरकान नाम के मैनेजर ने एक ट्रक में सामान रखवाया. काफी रात तक यह काम चलता रहा. इसके बाद फुरकान सोने चला गया, लेकिन उससे पहले उसने एक बड़ी गलती कर दी और फैक्ट्री के मुख्य द्वार पर ताला लगा दिया. इस कारण कई मजदूर आग लगने के बाद बाहर नहीं निकल सके. फुकरान के ताला लगाकर जाने के कुछ ही समय बाद फैक्ट्री में आग लग गई और यह आग इमारत में फंसे मजदूरों के लिए कब्रगाह साबित हुई.

दिल्ली की आग का शिकार बने परिवार के सदस्य रानी झांसी रोड पर लोक नायक हॉस्पिटल के शवगृह के बाहर इंतजार करते हुए. (फोटो- PTI)


कौन है फैक्ट्री का मालिक?दिल्ली पुलिस की टीम ने हादसे के बाद कार्रवाई करते हुए एक FIR दर्ज कर रविवार शाम को ही रेहान नाम के शख्स को गिरफ्तार कर लिया. इसे बिल्डिंग का मालिक बताया जा रहा है. लेकिन मामले की पड़ताल के बाद यह जानकारी मिली कि रेहान के साथ-साथ कई लोग के पास उस बिल्डिंग का मालिकाना हक था. इस बिल्डिंग के मालिक- रेहान, सोहेल, तारिक, आसिफ और इमरान हैं. इन लोगों के बीच आपसी रिश्तों की अगर बात करें तो रेहान और इमरान आपस में भाई हैं, जबकि तारिक और आसिफ रेहान के साले हैं. इमारत का सबसे नीचे वाला फ्लोर यानी ग्राउंड फ्लोर इमरान का है. इसका इस विवाद से फिलहाल कोई वास्ता नहीं दिख रहा है, क्योंकि ये हादसा और लापरवाही सेकेंड फ्लोर पर हुई है.

इस बिल्डिंग में करीब 12 फैक्ट्री थीं
सोहेल नाम के शख़्स के बारे में पुलिस तफ़्तीश कर रही है, क्योंकि आग सेकेंड फ्लोर पर लगी थी. इस फ्लोर का मालिकाना हक मुरादाबाद के इकराम और सोहेल के नाम पर है. इसके साथ ही जिस केमिकल वाले डब्बे में आग लगी थी वह सामान इकराम नाम के एक कारोबारी का है. इसलिए पुलिस की टीम अब सोहेल को भी ढूंढ़ रही है. इस बिल्डिंग में करीब 12 फैक्ट्री थी. इनमें खिलौने बनाने, कैप बनाने से लेकर महिलाओं का पर्स बनाने सहित कई काम होते थे. हर फ्लोर पर 6 कमरे बने हुए हैं. इस बिल्डिंग के मालिक के मुताबिक, करीब 100 से ज्यादा कारीगर/मजदूर एक साथ यहां काम करते हैं.

ये भी पढ़ें-

दिल्ली आग की दर्दनाक दास्तां: 'एक साल पहले हुई है शादी, प्लीज मुझे बचा लो' कहते-कहते थम गई सांसें
Delhi Fire: भैया बच्चों का ध्यान रखना- मौत से पहले की ये बात सुनकर भर आएगा मन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 3:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर