लाइव टीवी

Delhi Fire: मेन गेट का शटर था बंद, अंदर सो रहे थे एक ही गांव के 30 लोग

News18Hindi
Updated: December 8, 2019, 3:25 PM IST
Delhi Fire: मेन गेट का शटर था बंद, अंदर सो रहे थे एक ही गांव के 30 लोग
आग बुझाने के लिए घटनास्‍थल पर बड़ी संख्‍या में दमकल की गाड़ि‍यां मौके पर पहुंचीं. (PTI)

Delhi Anaj Mandi Fire: जानकारी के मुताबिक, जिस समय आग लगी उस वक्त मुख्य दरवाजे का शटर बंद था. इसके चलते बैग बनाने वाली फैक्‍ट्री (Bag Factory) में सो रहे लोग बाहर नहीं निकल सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2019, 3:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राजधानी दिल्ली में रानी झांसी रोड (Rani Jhansi Road) स्थित अनाज मंडी (Anaj Mandi) अग्निकांड को लेकर परत दर परत खबरें सामने आने लगी हैं. जानकारी के मुताबिक, जिस चार मंजिला इमारत में आग लगी है, वह यामीन नाम के शख्‍स की है. उसने पूरी बिल्डिंग को किराए पर दे रखी थी. इस इमारत में फैक्ट्री बनी हुई है. इसमें प्लास्टिक से बैग बनाए जाते थे. इस मकान में बनी फैक्ट्री में बारह से पंद्रह मशीनें लगी हैं. सूत्रों की मानें तो यहां काम करने के बाद सभी मजदूर यहीं पर सो जाते थे. इमारत से बाहर निकलने के लिए एक ही रास्ता है.

सूत्रों के मुताबिक, आग शॉर्ट सर्किट की वजह से दूसरी मंजिल के मुख्य दरवाजे के पास लगी थी. जिस समय आग लगी उस वक्त मुख्य दरवाजे का शटर बंद था और अंदर लोग सो रहे थे. ऐसे में वे लोग भाग भी नहीं सके. ऐसे में दम घुटने से 43 लोगों की मौत हो गई और कई लोग गंभीर रूप से झुलस गए. सूचना के बाद मौके पर पहुंचे दमकलकर्मियों ने पीछे की खिड़की का जाल काटकर लोगों को रेस्क्यू किया. खास बात यह है कि फैक्ट्री में एक ही गांव के तकरीबन 30 लोग काम करने के बाद सो रहे थे.

आग लगने से कई चीजें जलकर खाक हो गईं.


तीन अस्‍पतालों में भर्ती हैं घायल लोग

पुलिस के अनुसार, घटनास्थल पर हृदय विदारक दृश्य पसरा हुआ था. फैक्ट्री में काम कर रहे लोगों के रिश्तेदार और स्थानीय लोग घटनास्थल की ओर भाग रहे थे. आग की चपेट में आए लोगों के परेशान परिवार विभिन्न अस्पतालों में अपने संबंधियों को खोज रहे थे. मृतकों और झुलसे लोगों को एलएनजेपी, हिंदू राव और राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया.

अपनों की तलाश में परिजन
बिहार के बेगूसराय के रहने वाले 23 वर्षीय मनोज ने बताया कि उनका 18 साल का भाई इस हैंडबैग बनाने वाली फैक्‍ट्री में काम करता है. मनोज ने कहा, 'मेरे भाई के दोस्त से मुझे जानकारी मिली कि वह इस घटना में झुलस गया है. मुझे कोई जानकारी नहीं है कि उसे किस अस्पताल में ले जाया गया है.' एक बुजुर्ग व्यक्ति ने बताया कि कम से कम इस इकाई में 12-15 मशीनें लगी हुई हैं. मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि फैक्ट्री मालिक कौन है. उन्होंने बताया कि उनके तीन रिश्तेदार इस फैक्ट्री में काम करते हैं. उन्‍होंने कहा, 'मेरे संबंधी मोहम्मद इमरान और इकरामुद्दीन फैक्ट्री के अंदर ही थे. मुझे इसकी जानकारी नहीं है कि वे लोग अब कहां हैं.'CM ने जताया दुख
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना पर दुख जताया है. उन्होंने कहा है कि बचाव अभियान चल रहा है. घायलों को अस्पतालों में ले जाया जा रहा है. दिल्ली सरकार में मंत्री इमरान हुसैन ने कहा है कि यह घटना (अग्निकांड) बहुत ही दुखद है. इसकी जांच की जाएगी और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. किसी को बख्शा नहीं जाएगा.


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 8, 2019, 11:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर