चांदनी चौक बवालः SIT के गठन संबंधी PIL हाईकोर्ट ने की खारिज

पीआईएल में मांग की गई थी कि मामले में स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम का गठन किया जाए और इस पर कोर्ट खुद अपनी पूरी नजर रखे. साथ ही यह पता लगावाया जाए कि इस घटना के पीछे किसी प्रकार की साजिश तो नहीं थी.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 2:14 PM IST
चांदनी चौक बवालः SIT के गठन संबंधी PIL हाईकोर्ट ने की खारिज
वारदात के बाद गंभीरता दिखाते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को तलब कर मामले में फटकार भी लगाई थी.
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 2:14 PM IST
दिल्ली के हौज काजी इलाके में रविवार को स्कूटर पार्किंग को लेकर उपजे तनाव और फिर मंदिर तोड़फोड़ के मामले में अब कोर्ट ने दखल देने से इनकार कर दिया है. दिल्ली हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका (पीआईएल) को खारिज कर दिया गया है. पीआईएल में मांग की गई थी कि मामले में स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम का गठन किया जाए और इस पर कोर्ट खुद अपनी पूरी नजर रखे. साथ ही यह पता लगावाया जाए कि इस घटना के पीछे किसी प्रकार की साजिश तो नहीं थी. लेकिन कोर्ट ने इस पीआईएल पर सुनवाई से शुक्रवार को इनकार करते हुए इसे खारिज कर दिया.

अमित शाह ने लगाई थी फटकार
वारदात के बाद गंभीरता दिखाते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को तलब कर मामले में फटकार भी लगाई थी. हालांकि शाह से मुलाकात के बाद पटनायक ने कहा था कि गृहमंत्री से यह एक सामान्य मुलाकात थी. शाह ने मामले में कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.


Loading...

मंत्री ने कहा था- एक दूसरे को गले लगा खत्म कर लिया था मामला
वहीं मामले में आम आदमी पार्टी के विधायक और दिल्ली के मंत्री इमरान हुसैन ने संकेत दिए थे यह मामला वारदात वाले दिन ही सुलझ गया था. हुसैन ने बताया था कि रविवार की रात को ही बवाल के बाद हमारे हिंदू और मुसलमान भाई एक साथ थाने में वार्ता करने पहुंचे थे. इस दौरान एक दूसरे को गले लगाया गया और मामला वहीं खत्म कर दिया गया. मैं भी वहीं मौजूद था. उन्होंने कहा कि हिंदू और मुसलमान दोनों ही किसी भी प्रकार का फसाद नहीं चाहते हैं.

क्या था मामला
प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, यह घटना रविवार देर रात उस समय हुई जब आस मोहम्मद नाम का युवक एक इमारत के बाहर अपना स्कूटर खड़ा कर रहा था. इसे लेकर वहां रहने वाले संजीव गुप्ता ने आपत्ति जताई. संजीव की पत्नी बबीता ने बताया कि जब उनके पति ने स्टॉल के पास स्कूटर खड़ा करने पर आपत्ति की तो उस वक्त आस मोहम्मद वहां से चला गया. लेकिन बाद में वो कुछ और लोगों के साथ आया और उसने तोड़फोड़ और मारपीट की. बताया जा रहा है कि जो लोग उसके आए थे, उन सबने शराब पी रखी थी.

दोनों तरफ से लगे आरोप
इस मामले में दोनों पक्ष अलग-अलग दावे कर रहे थे. 27 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर साकिब ने कहा कि जब मोहम्मद की पिटाई कर दी गई, तो उसने और उसके परिवार के अन्य सदस्यों ने थाने पहुंचकर मामला दर्ज कराया. इस घटना से जुड़े एक वीडियो में पार्किंग विवाद को लेकर कुछ लोग एक युवक की कथित रूप से पिटाई करते दिख रहे हैं.

इलाके में रहने वाले आकिब हसन ने कहा, ‘जब मोहम्मद ने अपना स्कूटर खड़ा किया तो संजीव गुप्ता ने उससे कहा कि वो अपना स्कूटर कहीं और ले जाए, नहीं तो वो उसे आग लगा देंगे. इसके बाद दोनों का झगड़ा हो गया, जिसमें गुप्ता और कुछ अन्य लोगों ने मोहम्मद को इमारत के अंदर खींचकर उसकी पिटाई कर दी.'

पुलिस दोनों पक्षों को ले गई थी थाने
झगड़ा बढ़ने पर स्थानीय लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम को फोन कर दिया. इसके बाद वहां पहुंची पुलिस मोहम्मद और संजीव गुप्ता दोनों को थाने ले गई थी. साकिब ने दावा किया, ‘जब मोहम्मद और गुप्ता पुलिस थाने में थे, कुछ अज्ञात व्यक्ति मंदिर के बाहर एकत्रित हो गए और उसमें तोड़फोड़ की. इससे क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया था.’

ये भी पढ़ें- रविकिशन ने की भोजपुरी को 8वीं अनुसूची में शामिल करने की मांग

आजम के बाद सपा सांसद एसटी हसन ने दिया आपत्तिजनक बयान
First published: July 5, 2019, 2:13 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...