केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को हाईकोर्ट का नोटिस, गलत जानकारी देने का आरोप

याचिका में कहा गया है कि डॉ. हर्षवर्धन ने अपनी पत्‍नी की आय का स्‍त्रोत हाउस रेंटल (मकान का किराया) बताया. इन्‍होंने 2014 में यह फ्लैट खरीदा. जिसकी कीमत एफिडेविट में 62 लाख 50 हज़ार रुपये बताई गई. जबकि 2019 के एफिडेविट में इसी फ्लैट की कीमत 70 लाख से ज्‍यादा की बताई गई.

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 12:28 PM IST
केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को हाईकोर्ट का नोटिस, गलत जानकारी देने का आरोप
केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को दिल्‍ली हाईकोर्ट का नोटिस.
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 12:28 PM IST
केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन को दिल्ली हाइकोर्ट ने नोटिस जारी किया है. डॉ. हर्षवर्धन पर चुनावी एफिडेविट में गलत जानकारी देने का आरोप लगाया गया है. केंद्रीय मंत्री के खिलाफ दायर की गई याचिका में कहा गया है कि इन्‍होंने 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में एक फ्लैट की कीमत अलग-अलग बताई है.

इतना ही नहीं डॉ. हर्षवर्धन ने अपनी पत्‍नी की आय का स्‍त्रोत हाउस रेंटल (मकान का किराया) बताया. इन्‍होंने 2014 में यह फ्लैट खरीदा. जिसकी कीमत एफिडेविट में 62 लाख 50 हज़ार रुपये बताई गई. जबकि 2019 के एफिडेविट में इसी फ्लैट की कीमत 70 लाख से ज्‍यादा की बताई गई. इसके अलावा 2014 में जब इन्‍होंने यह फ्लैट खरीदा, तब इसके लिए पैसा कहां से आया, इसकी जानकारी भी इन्‍होंने चुनाव आयोग को नहीं दी है.

गौरतलब है कि इस याचिका को हाईकोर्ट ने स्‍वीकार कर केंद्रीय मंत्री को नोटिस भेज दिया है. अब इसमें अगली सुनवाई 24 सितंबर को की जाएगी.

चमकी बुखार को लेकर भी घिरे थे डाॅ. हर्षवर्धन

बिहार में चमकी बुखार से हुई मौतों के बाद डॉ. हर्षवर्धन की मुश्किलें बढ़ गई थीं. उनके और बिहार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री के खिलाफ निचली अदालत में अर्जी दाखिल की गई थी. जिस पर कोर्ट ने संज्ञान लेने के बाद जांच के आदेश दिए थे.

ये भी पढें

केजरीवाल सरकार का फरमान, मीडिया से बात न करे कोई अधिकारी
Loading...

करोल बाग में रौब झाड़ रहा था दिल्‍ली पुलिस का नकली सब इंस्‍पेक्‍टर, गिरफ्तार
First published: July 11, 2019, 12:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...