लाइव टीवी

दिल्‍ली का आखिरी हाथी लापता, देशभर में अलर्ट, अब दो महीने बाद मिली ये खबर

News18Hindi
Updated: September 17, 2019, 1:16 PM IST
दिल्‍ली का आखिरी हाथी लापता, देशभर में अलर्ट, अब दो महीने बाद मिली ये खबर
लक्ष्‍मी को उसकी देखभाल करने वाले यूसुफ अली ने दिल्‍ली में ही छिपा रखा था.

दो महीने पहले दिल्‍ली से हाथी लक्ष्‍मी (Elephant Laxmi) के गायब होने की खबर आई थी, तब से इसकी खोज के लिए पूरे देश में अलर्ट था. दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) और वन विभाग के अधिकारी इसकी खोज कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2019, 1:16 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. दो महीने पहले दिल्‍ली से हाथी लक्ष्‍मी (Elephant Laxmi) के गायब होने की खबर आई थी, तब से इसकी खोज के लिए पूरे देश में अलर्ट था. दिल्‍ली पुलिस (Delhi Police) और वन विभाग के अधिकारी इसकी खोज कर रहे थे. वह दिल्‍ली में ही है. 6 जुलाई को खबर आई थी कि 30 वर्षीय हाथी आईटीओ के पास यमुना किनारे से गायब है. उसके साथ उसका महावत भी गायब था. इसके बाद वन अधिकारियों की लक्ष्‍मी की देखभाल करने वाले परिवार से झड़प भी हुई थी. वन विभाग के अधिकारी लक्ष्‍मी को अपने कब्‍जे में लेना चाहते थे.

इंडियन एक्‍सप्रेस के अनुसार, दो महीने बाद लक्ष्‍मी हाथी का केयरटेकर यूसुफ अली मिला है. अली का कहना है कि मैं और लक्ष्‍मी दिल्‍ली से कभी बाहर नहीं गए. 6 जुलाई की घटना के बाद मैंने लक्ष्‍मी को छिपा दिया था. मैंने यमुना के जंगल में कुछ दिनों के लिए लक्ष्‍मी को छिपा दिया था. इस दौरान मैंने अपना घर भी बदल लिया.

केयरटेकर ने ही लक्ष्‍मी को छिपाया
कुछ दिनों बाद मेरे एक दोस्‍त ने बताया कि उसके पास एक बड़ा फॉर्म हाउस है. जहां पर मैं लक्ष्‍मी रख सकता हूं. मैं उसे रोजाना शाम को लेकर जाता था. अली ने बताया कि उसने पिछले दो सप्‍ताह से पुलिस की नजरों से बचाने के लिए उसे छिपाया. इसके लिए उसने अपना फोन नंबर भी बदला. मेरे लिए ये मुश्‍किल वक्‍त था, लेकिन मैंने लक्ष्‍मी का पूरा ख्‍याल रखा. कई बार मेरे घर पर खाना नहीं होता था, लेकिन मैंने लक्ष्‍मी के लिए रोजाना खाने और पीने की व्‍यवस्‍था की. उसके लिए रोजाना 500 लीटर पानी गन्‍ना और ज्‍वार की व्‍यवस्‍था की.

अली के वकील शैलेंद्र बब्‍बर ने बताया कि अभी अली के खिलाफ गैर जमानती वारंट इश्‍यू किया गया है. अली का कहना है कि कोर्ट जो कहेगा मैं करूंगा. लेकिन ये हाथिनी मेरी है. इसके साथ हमारा भावनात्‍मक लगाव है. अगर फैसला वन विभाग के पक्ष में आता है तो मैं उन्‍हें लक्ष्‍मी को सौंप दूंगा. तब तक ये मेरे पास है. उससे पहले कोर्ट भी मेरा पक्ष सुनेगा. अगर वह लक्ष्‍मी को दिल्‍ली से बाहर भेजना चाहते हैं तो इसे मेरी देखरेख में रखना होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 17, 2019, 12:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...