दिल्‍ली में फ्लैट दिलाने के नाम फर्जीवाड़ा, 700 लोगों से करोड़ों की धोखाधड़ी

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 9:31 AM IST
दिल्‍ली में फ्लैट दिलाने के नाम फर्जीवाड़ा, 700 लोगों से करोड़ों की धोखाधड़ी
दिल्‍ली में फ्लैट दिलाने के नाम पर करोड़ों रुपये की ठगी.

आरोपी जय प्रकाश सैनी निवेशकों के पैसे लेकर दिल्‍ली से कोलकाता भाग गया और यहां नाम बदलकर रहने लगा. उसने अपना नया नाम त्रिलोक सिंह संधू रख लिया. लेकिन वो दिल्‍ली पुलिस की नजरों से बच नहीं सका. क्राइम ब्रांच ने उसे कोलकाता से धर दबोचा. फिलहाल उससे पूछताछ चल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2019, 9:31 AM IST
  • Share this:
बाहरी दिल्‍ली (Outer Delhi) में फ्लैट दिलाने (Flat Possesion) के नाम पर करोड़ाें रुपये की धोखाधड़ी (Fraud) का मामला सामने आया है. साउथ दिल्‍ली (South Delhi) और पश्चिमी दिल्‍ली (West Delhi) के करीब 700 लोगों को धोखा देकर फरार हुए आरोपी को पुलिस ने कोलकाता (Kolkata) से गिरफ्तार (Arrest) किया है. फिलहाल उसे न्‍यायिक हिरासत (Judicial Custody) में भेज दिया गया है.

बताया जा रहा है कि एम.कॉम ग्रेजुएट जय प्रकाश सैनी उर्फ त्रिलोक सिंह संधू दिल्‍ली के द्वारका में रियल एस्‍टेट कंसल्‍टेंट के रूप में काम करता था. उसने लोगों को बख्‍तावरपुर में फ्लैट दिलाने का भरोसा दिया था. उसने कहा कि उसके पास 30 एकड़ ज़मीन है जिसमें वेदांता वेलफेयर सोसायटी नाम से फ्लैट्स का निर्माण किया जा रहा है. इस दौरान उसके झांसे में आए सैकड़ों लोगों ने करोड़ों रुपये देकर यहां फ्लैट बुक कर लिए. लेकिन जैसे ही लोग बताई गई लोकेशन पर फ्लैट देखने पहुंचे तो वहां कोई भी निर्माण कार्य नहीं हो रहा था. और न ही जय प्रकाश सैनी की 30 एकड़ जमीन मिली. इसके बाद 2016 में सैनी के खिलाफ पहली एफआईआर दर्ज की गई. इसके बाद लगातार 47 लोगों ने सैनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई.

कोलकाता में नाम बदलकर रह रहा था आरोपी
आरोपी सैनी पैसे लेकर दिल्‍ली से कोलकाता भाग गया और यहां नाम बदलकर रहने लगा. उसने अपना नया नाम त्रिलोक सिंह संधू रख लिया. लेकिन वो दिल्‍ली पुलिस की नजरों से बच नहीं सका. क्राइम ब्रांच ने उसे कोलकाता से धर दबोचा. फिलहाल उससे पूछताछ चल रही है.

एक ही फ्लैट आवेदक को लगाया करीब साढ़े चार करोड़ रुपये का चूना
आरोपी के खिलाफ एफआईआर करने वाले पहले निवेशक ने बताया कि आरोपी जय सैनी ने उसे 4.4 करोड़ रुपये का चूना लगाया. निवेशक ने बताया कि उसने सैनी की बातों में आकर चार फ्लैट बुक कर दिए और उसे 34 लाख रुपये की पहली किश्‍त दे दी. जब तक उन्हें ठगे जाने का पता चलता तब तक वो उसे 4.4 करोड़ की रकम दे चुके थे.

लोगों ने बताया कि उन्‍होंने हाउसिंग प्रोजेक्‍ट की खूबियों को देखकर फ्लैट बुक किया था. अधिकांश ने दो से चार फ्लैट बुक किए. दिल्ली पुलिस के अतिरिक्‍त आयुक्‍त अपराध अजीत के सिंगला ने बताया कि एम.कॉम पास सैनी धोखाधड़ी के पांच मामलों में वॉन्टेड अपराधी था और कोर्ट ने भी इसे घोषित अपराधी करार दिया था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 9:02 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...