राजस्थान में धूल भरी आंधी के कारण 'खराब' हुई दिल्ली की हवा, UP में भी अलर्ट

यह जानकारी केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़े के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर इलाके में पीएम 10 (10 मिमी से कम व्यास वाले कण) का स्तर 778 पर अत्यंत गंभीर से ऊपर है. दिल्ली में यह विशेषकर 824 पर है. इसके कारण धुंध की स्थिति है, जिससे विजिबिलिटी का स्तर सीमित है.

News18Hindi
Updated: June 13, 2018, 11:51 PM IST
राजस्थान में धूल भरी आंधी के कारण 'खराब' हुई दिल्ली की हवा, UP में भी अलर्ट
(फोटो सोर्स-PTI)
News18Hindi
Updated: June 13, 2018, 11:51 PM IST
पश्चिम भारत में धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली में बुधवार हवा की गुणवत्ता गंभीर स्तर से अधिक बिगड़ गई. राजस्थान में धूल भरी आंधी के कारण दिल्ली की हवा खराब हुई है. राजधानी में आंधी के कारण हवा में मोटे कणों की बढ़ोतरी हुई है. वहीं, उत्तर प्रदेश में भी धूल भरी आंधी का अलर्ट जारी किया गया है.

यह जानकारी केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़े पर आधारित है. सीपीसीबी के आंकड़े के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर इलाके में पीएम 10 (10 मिमी से कम व्यास वाले कण) का स्तर 778 पर अत्यंत गंभीर से ऊपर है. दिल्ली में यह विशेषकर 824 पर है. इसके कारण धुंध की स्थिति है, जिससे विजिबिलिटी का स्तर सीमित है.

मंत्रालय की ओर से जारी आधिकारिक बयान में अगले तीन दिनों तक दिल्ली में यह स्थिति बरकरार रहने की आशंका व्यक्त की गई है. मंत्रालय ने इन दिनों दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर बढ़ने को अस्वाभाविक बताते हुए कहा कि इसकी मुख्य वजह राजस्थान में आने वाली धूल भरी आंधी है. इसके कारण दिल्ली-एनसीआर में हवा के कम दबाव का क्षेत्र बनने की वजह से हवा में मिले धूलकण जमीन के कुछ ऊंचाई पर जमा हो जाते हैं.


मौसम विशेषज्ञों की राय में इन दिनों भीषण गर्मी से जूझ रहे राजस्थान में तापमान की अधिकता के बीच पश्चिमी विक्षोभ के कारण धूल भरी आंधी चल रही है. इसका असर दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में धूलकणों के वायुमंडल में संघनित होने के रूप में दिखता है. इस साल भी 10 से 12 जून के बीच राजस्थान की धूल भरी आंधी का रुख दिल्ली की ओर रहा, जिसकी वजह से यह स्थिति पैदा हुई है.

मौसम विज्ञाग ने दिल्ली-एनसीआर में अगले तीन दिन धूल का गुबार बरकरार रहने का अनुमान व्यक्त किया है. इसके मद्देनजर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने राज्य यूनिट के माध्यम से स्थानीय निकायों और निर्माण क्षेत्र से जुड़ी एजेंसियों से लगातार पानी का छिड़काव करने को कहा है, जिससे धूल को उड़ने से रोका जा सके.


साथ ही दिल्ली के मुख्य सचिव को इस दिशा में सभी संबद्ध एजेंसियों को जरूरी दिशा-निर्देश जारी करने को कहा है. इस बीच प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने स्थिति से निपटने के लिए संबद्ध विभागों के साथ बैठक कर स्थिति से निपटने के लिए वायु प्रदूषण रोधी कदम उठाने को कहा है. साथ ही लोगों से अधिक समय तक खुले में निकलने से बचने का भी परामर्श जारी किया है. (एजेंसी इनपुट के साथ)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->