लोगों में जुर्माने का खौफ, लाइसेंस ऑफिस और प्रदूषण जांच केंद्रों पर उमड़ी भीड़

न्यूज18 की टीम ने जब प्रदूषण जांच केंद्र का रियलिटी चेक किया तो पाया कि पहले के मुकाबले प्रदूषण जांच केंद्र पर वाहनों के प्रदूषण जांच कराने वाले लोगों की संख्या में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है.

Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 4:20 PM IST
लोगों में जुर्माने का खौफ, लाइसेंस ऑफिस और प्रदूषण जांच केंद्रों पर उमड़ी भीड़
भारी जुर्माने की वजह से लाइसेंस ऑफिस और प्रदूषण जांच केंद्रों पर भारी भीड़ लगने लगी है.
Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 4:20 PM IST
दिल्ली. देश में 1 सितंबर से नया मोटर व्हीकल एक्ट (Moter Vehicle Act 2019) लागू हो गया है. इसके तहत ट्रैफिक नियमों (Traffic Rules) के उल्लंघन पर जुर्माने की दर में इजाफा किया गया है. वहीं, भारी जुर्माने से अब लोग डरने लगे हैं और लाइसेंस ऑफिस और प्रदूषण जांच केंद्रों (Pollution Checking Centres) पर भारी भीड़ लगने लगी है.

लाइसेंस ऑफिस में बड़ा वर्क प्रेशर
ट्रैफिक नियमों के चलते अब लाइसेंस बनवाने के लिए लाइसेंस ऑफिस में लोगों की भारी भीड़ लगने लगी है. दिल्ली में सराय काले खां पर बने आरटीओ (Regional Transport Office) ऑफिस के अधिकारी नंद गोपाल ने कहा कि लाइसेंस बनवाने के लिए पहले ऑनलाइन आवेदन कम आते थे. अब आवेदन भी बढ़ने लगे हैं. इसके साथ ही प्रतिदिन आरटीओ ऑफिस में 1000 से 1200 लोग अपनी समस्याओं को लेकर आ रहे हैं. उन्होंने यह भी बताया कि लोगों की समस्याओं का निराकरण करने के लिए हेल्पलाइन डेस्क भी बनाई गई है. इसके साथ ही कर्मचारियों की संख्या भी बढ़ाई गई है. उन्होंने बताया कि ट्रैफिक चालान की संख्या में कमी आई है. यातायात नियमों के कड़ाई से पालन के कारण जुर्माने की राशि में बढ़ोतरी हुई है जिससे पिछले महीने तक 16,788 प्रतिदिन औसतन कटे चालान की तुलना में अब यह संख्या 4,813 ही रह गई है.

आरटीओ ऑफिस में बनाया गया हेल्प डेस्क

नंद गोपाल ने बताया कि जिस तरीके से लगातार लाइसेंस बनवाने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है. ऐसे में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट भी ज्यादा से ज्यादा दिए जा रहे हैं ताकि जल्दी ही लोगों के अपॉइंटमेंट के बाद उनके लाइसेंस बनवाए जा सके. इसके साथ ही आरटीओ ऑफिस में हेल्पलाइन डेस्क भी बनाई गई है. जो लोग ऑनलाइन आवेदन नहीं करते, उन लोगों के लिए भी व्यवस्था की गई है ताकि लोगों को किसी तरीके की समस्या से जूझना न पड़े.

प्रदूषण जांच केंद्रों पर भी लगी लंबी कतार
1 सितंबर से यातायात नियमों में हुए बदलाव के चलते प्रदूषण जांच केंद्र पर लोगों की लंबी कतारें लगने लगी है. न्यूज18 की टीम ने जब प्रदूषण जांच केंद्र का रियलिटी चेक किया तो पाया कि पहले के मुकाबले प्रदूषण जांच केंद्र पर वाहनों के प्रदूषण जांच कराने वाले लोगों की संख्या में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है. प्रदूषण जांच केंद्र पर पहुंचे लोगों ने बताया कि लंबी कतार है. 1 से 2 घंटे का इंतजार करना पड़ रहा है लेकिन क्या करें जुर्माने से बचने के लिए प्रदूषण जांच कराना ही पड़ेगा और सरकार ने जो कदम उठाया है उसे उम्मीद है कि आने वाले समय में प्रदूषण का स्तर भी कम होगा और रोड एक्सीडेंट भी कम होंगे. कुछ लोगों ने बताया कि जुर्माने की राशि इतनी बढ़ गई है कि उसे देना मुमकिन नहीं है तो बेहतर है कि जो नियम बनाए गए हैं, उसका पालन किया जाए और जुर्माने के डर से बचा जाए.
Loading...

सड़कों पर ट्रैफिक में आई है कमी
आरटीओ ऑफिस के अधिकारी नंद गोपाल ने बताया कि जिस तरीके से ट्रैफिक नियमों में बदलाव के चलते अब सड़कों पर ट्रैफिक कम दिखाई दे रहा है. लोग अपनी कागजों को पूरा कराने में जुटे हुए हैं या फिर जुर्माने से बचने के लिए अब सार्वजनिक परिवहन बस या मेट्रो का ज्यादा प्रयोग कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

डेंगू के खिलाफ जंग में केजरीवाल को मिला इन सेलिब्रिटिज का साथ

दिल्ली की गीता कॉलोनी में गैंगवॉर, ताबड़तोड़ फायरिंग में 6 घायल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 4:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...