सुप्रीम कोर्ट के मानक निर्धारित आदेश के बाद भी दिवाली में दिल्ली का प्रदूषण आंकड़ा हुआ दोगुना

साल 2017 में दिवाली के अगले दिन एक्यूआई 367 के स्तर पर रिकार्ड किया गया. 2016 में यह 425 था. इस साल एक्यूआई 2017 से लगभग दोगुना था.

भाषा
Updated: November 9, 2018, 2:41 AM IST
सुप्रीम कोर्ट के मानक निर्धारित आदेश के बाद भी दिवाली में दिल्ली का प्रदूषण आंकड़ा हुआ दोगुना
फाइल फोटो
भाषा
Updated: November 9, 2018, 2:41 AM IST
दिवाली के बाद दिल्ली में प्रदूषण का स्तर पिछले साल की तुलना में करीब दोगुना हो गया है जहां लोगों ने उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्धारित रात आठ से दस बजे की समयसीमा से आगे पीछे भी आतिशबाजी चलाई.

केंद्र सरकार द्वारा संचालित वायु गुणवत्ता और मौसम पूर्वानुमान तथा अनुसंधान प्रणाली (सफर) के आंकड़ों के अनुसार गुरूवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 642 की ‘गंभीर और आपात’ श्रेणी में दर्ज किया गया.

साल 2017 में दिवाली के अगले दिन एक्यूआई 367 के स्तर पर रिकार्ड किया गया. 2016 में यह 425 था. इस साल एक्यूआई 2017 से लगभग दोगुना था.

ये भी पढ़ें: सुप्रीम आदेश के बावजूद इस बार दिल्ली ने जलाए 5 लाख किलो पटाखे, जहरीली हुई हवा

सफर के परामर्श के अनुसार ‘गंभीर और आपात’ एक्यूआई श्रेणी का मतलब है कि स्वस्थ लोग भी लंबे समय तक सांस लेने संबंधी समस्याओं से ग्रस्त हो सकते हैं. बीमार लोगों को यह हवा और भी अधिक प्रभावित करेगी.

उच्चतम न्यायालय ने दिवाली पर रात आठ से दस बजे के बीच ही पटाखे चलाने की अनुमति दी थी. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार सूक्ष्म कणों की सघनता इस दिवाली पर पिछले साल की तुलना में थोड़ी ज्यादा है.

ये भी पढ़ें: दिल्‍ली में प्रदूषण से लोगों को बचाने के लिए मेट्रो का नया फैसला
Loading...
सीपीसीबी ने कहा,‘पिछले साल दिवाली 19 अक्टूबर को मनाई गयी जबकि इस बार यह त्योहार सात नवंबर को मनाया गया. दोनों समय में मौसम की अलग अलग परिस्थितियां होती हैं.’

उसने स्वीकार किया कि आतिशबाजी से निकले प्रदूषणकारी तत्वों की वजह से बने प्रतिकूल हालात में वायु गुणवत्ता और ज्यादा खराब हो गयी.

ये भी पढ़ें: दिल्ली के 5 सबसे प्रदूषित इलाके, जहां हर सांस जहरीली
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर