लाइव टीवी

Delhi Police Protest: जो पुलिसकर्मी दोपहर को कमिश्नर के कहने पर भी नहीं माने, वह शाम को कैसे मान गए?

News18Hindi
Updated: November 5, 2019, 10:00 PM IST
Delhi Police Protest: जो पुलिसकर्मी दोपहर को कमिश्नर के कहने पर भी नहीं माने, वह शाम को कैसे मान गए?
दिल्ली पुलिस मुख्यालय में मंगलवार से सुबह से चल रहा पुलिसकर्मियों का धरना समाप्त हो गया है.

दिल्ली (Delhi) की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) में बीते 2 नवंबर को पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प (Clash) हुई थी, जिसमें 20 से ज्यादा वकील (lawyers) और पुलिसकर्मी (Police) घायल हो गए थे. उसके बाद वकीलों ने सोमवार को बंद का ऐलान किया था, जिसमें साकेत कोर्ट के सामने एक पुलिसकर्मी को वकीलों ने पीट दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 5, 2019, 10:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस मुख्यालय (Delhi Police Headquarters) में चल रहा पुलिसकर्मियों का धरना समाप्त हो गया है. मंगलवार सुबह से शुरू हुआ पुलिसकर्मियों का यह धरना समाप्त कराने में आलाधिकारियों को 10 घंटे तक मेहनत करनी पड़ी. आखिरकार शाम 7.30 बजे के आस-पास धरना को समाप्त करवाया गया. पुलिसकर्मियों का यह धरना, वकीलों (Lawyers) और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के बीच तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) में हुई हिंसक झड़प के बाद शुरू हुआ. बिना जांच के ही निलबंन और स्थांतरण से दिल्ली पुलिस के कुछ अधिकारी नाराज थे. सोमवार को साकेत कोर्ट की घटना ने इसमें आग में घी डालने का काम किया. मंगलवार को पुलिसकर्मियों ने अपनी कई मांगों को लेकर धरना शुरू किया था. धरना कर रहे पुलिसकर्मियों ने धरना समाप्त कराने के एवज में 10 मांगें रखी थीं, लेकिन आलाधिकारियों ने कुछ मांगें ही मानी हैं. पुलिसकर्मियों की इन मांगों में से एक मांग यह भी थी कि दोषी वकीलों के खिलाफ एक्शन लिया जाए.

दिल्ली पुलिस की कुछ मांगें मानी गईं

प्रदर्शनकारी पुलिस की कई मांगें मानी गई हैं
प्रदर्शनकारी पुलिस की कई मांगें मानी गई हैं


'काला कोट हाय-हाय' के नारे लगे


बता दें कि मंगलवार सुबह से ही दिल्ली पुलिस के मुख्यालय के बाहर सैकड़ों की संख्या में जवान जुटने लगे थे और 'काला कोट हाय-हाय' के नारे लगा रहे थे. पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने भी जवानों से प्रदर्शन वापस लेने के लिए कहा, लेकिन जवानों ने इसे मानने से इनकार कर दिया.

पुलिसकर्मी की पिटाई से खफा हुए गृह मंत्री
Loading...


दिल्ली पुलिस के एक रिटायर्ड ज्वाइंट कमिश्नर न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, 'देश के गृह मंत्री अमित शाह के आश्वासन के बाद धरना समाप्त किया गया है. अमित शाह भी सोमवार को साकेत कोर्ट के सामने एक वकीलों के द्वारा एक पुलिसकर्मी की पिटाई से खफा हैं. इस मामले में गृह मंत्रालय ने दिल्ली हाईकोर्ट से स्पष्टीकरण मांगा है. मंत्रालय ने हाईकोर्ट से वकीलों पर कार्रवाई न करने के आदेश पर सफाई देने के लिए कहा है.'

मंगलवार सुबह से ही दिल्ली पुलिस के मुख्यालय के बाहर सैकड़ों की संख्या में जवान जुटने लगे थे
मंगलवार सुबह से ही दिल्ली पुलिस के मुख्यालय के बाहर सैकड़ों की संख्या में जवान जुटने लगे थे


इस्तीफा देने के लिए तैयार थे पुलिसकर्मी

बता दें कि मंगलवार सुबह से लेकर शाम तक दिल्ली पुलिस मुख्यालय में पूर्व आईपीएस अधिकारी किरण बेदी को लेकर खूब नारे लगे. पुलिसकर्मियों ने नारे लगाए कि 'दिल्ली की सीपी कैसा हो किरण वेदी जैसा हो' कुछ पुलिसकर्मी अपना आईकार्ड तक दिखा कर न्याय नहीं मिलने पर इस्तीफा देने के लिए तैयार थे. पुलिसवालों की पत्नियां भी अपने पति का हौसला बढ़ाने आईटीओ मुख्यालय पहुंची थीं. कई महिलाएं दिल्ली पुलिसकर्मियों के लिए पानी का बोतल और कैन लेकर पहुंची थीं.

10 घंटे के बाद प्रोटेस्ट वापस

मंगलवार दिनभर पुलिसवालों के प्रदर्शन को मीडिया ने प्रमुखता से उठाया. दिल्ली के एलजी अनिल बैजल लगातार दिल्ली के पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक से संपर्क में रहे. एलजी ने सलाह दी कि वरिष्ठ अधिकारियों को घायल पुलिसकर्मियों के यहां दौरा करना चाहिए, ताकि उनका मनोबल बना रहे. शाम 7 बजे के आसपास दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर देवेश श्रीवास्तव ने पुलिसकर्मियों से कहा कि आपकी सभी मांगे मान ली गई हैं. साकेत और तीस हजारी कोर्ट के मामले में भी एफआईआर दर्ज कर लिए गए हैं. साथ ही जो पुलिसकर्मी यहां पर प्रदर्शन कर रहे हैं, उनके खिलाफ कोई विभागीय कार्रवाई नहीं की जाएगी.

मंगलवार दिनभर पुलिसवालों के प्रदर्शन को मीडिया ने प्रमुखता से उठाया
मंगलवार दिनभर पुलिसवालों के प्रदर्शन को मीडिया ने प्रमुखता से उठाया


पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प
दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में बीते 2 नवंबर को पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसमें 20 से ज्यादा वकील और पुलिसकर्मी घायल हो गए थे. उसके बाद वकीलों ने सोमवार को बंद का ऐलान किया था, जिसमें साकेत कोर्ट के सामने एक पुलिसकर्मी को वकीलों ने पीटा था. इस पुलिसकर्मी की पिटाई का वीडियो सोशल मीचिया पर वायरल होने के बाद दिल्ली पुलिस के जवानों का गुस्सा चरम पर पहुंच गया और मंगलवार को उन्होंने भी आंदोलन का रुख किया.

दिल्ली पुलिस के सूत्रों का कहना है कि ऊपर से लेकर नीचे तक सभी अधिकारियों में साकेत कोर्ट के सामने जो घटना हुई थी, उसको लेकर नाराजगी थी. अमित शाह ने गृह सचिव अजय भल्ला और दिल्ली के एलजी अनिल वैजल और दिल्ली के सीपी अमूल्य पटनायक से बात की. इससे पहले गृह सचिव अजय भल्ला ने मामले की पूरी जानकारी अमित शाह को दी थी. साथ ही दिल्ली पुलिस मुख्यालय के सामने दिल्ली पुलिस के जवानों और उनके परिवारवालों द्वारा चल रहे प्रदर्शन के बारे में भी अवगत कराया था.

ये भी पढ़ें: 

प्रदूषण पर किसने कहा कि 'अब सबकुछ भगवान भरोसे'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 5, 2019, 9:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...