दिल्ली: दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने किया राज्यव्यापी 'मेडिकल बंद' का आह्वान

दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (DMA) ने पं. बंगाल के जूनियर डॉक्टरों पर हमले के विरोध में राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है. डीएमए के कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि अस्पतालों में हिंसा के खिलाफ सख्त कानून बनाने के लिए वह आंदोलन करने को तैयार हैं.

News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 9:37 AM IST
दिल्ली: दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने किया राज्यव्यापी 'मेडिकल बंद' का आह्वान
दिल्ली में DMA ने किया राज्यव्यापी 'मेडिकल बंद' का आह्वान.
News18Hindi
Updated: June 14, 2019, 9:37 AM IST
पश्चिम बंगाल से शुरू हुई जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल महाराष्ट्र से होते हुए दिल्ली तक पहुंच गई है. जबकि इसके देश के अन्य हिस्सों में भी फैलने की आशंका जताई जा रही है. दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (DMA) ने पं. बंगाल के जूनियर डॉक्टरों पर हमले के विरोध में राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है. डीएमए के कार्यकारी अधिकारी ने कहा कि अस्पतालों में हिंसा के खिलाफ सख्त कानून बनाने के लिए वह आंदोलन करने को तैयार हैं. डीएमए ने शुक्रवार को 'मेडिकल बंद' रखने का फैसला किया है. डीएमए ने एनआरएस मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों पर हमले की कड़ी निंदा की है और घायलों के प्रति मेडिकल कर्मियों की एकजुटता प्रदर्शित की है. यह आह्वान डीएमए के अध्यक्ष डॉ. गिरिश त्यागी ने किया है.

ये सेवाएं रहेंगी बंद


दिल्ली की चिकित्सा संस्थाओं के अनुसार अस्पतालों में आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर ओपीडी, नियमित ओटी सेवाएं पूरी तरह बंद रहेंगी. एम्स और सफदरजंग जैसे बड़े अस्पताल के रेजीडेंट डॉक्टरों ने गुरुवार को भी सांकेतिक प्रदर्शन करते हुए अपने सिर पर पट्टी बांधकर काम किया और कोलकाता में हिंसा की घटना के विरोध में 14 जून को ओपीडी समेत सभी गैर-आपातकालीन सेवाओं को बंद रखने का आह्वान किया. कई डॉक्टरों ने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन भी किया.उधर, महाराष्‍ट्र के रेजिडेंट डॉक्‍टरों ने भी शुक्रवार शाम 5 बजे तक सांकेतिक हड़ताल पर रहने का फैसला किया है. आशंका जताई जा रही है कि देश भर में डॉक्टर इस हड़ताल में शामिल हो सकते हैं. हड़ताल के चलते मरीजों और तीमारदारों को संकट का सामना करना पड़ रहा है और इलाज ठीक तरह से न मिलने से मरीजों की तबीयत भी बिगड़ रही है.

कोलकाता में जूनियर डॉक्टरों पर 200 लोगों के हमले के विरोध में शुरू हुई हड़ताल

कोलकाता स्थित एनआरएस मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान एक 75 वर्षीय बुजुर्ग की मौत हो गई, तो बुजुर्ग के परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया और दो डॉक्टरों की पिटाई कर दी थी. आरोपों के मुताबिक करीब 200 लोग ट्रकों में भरकर आए थे और अस्पताल पर हमला बोल दिया. इस हमले में दो जूनियर डॉक्टर बुरी तरह घायल हो गए थे.

ये भी पढ़ें- 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...