दिल्ली में ऑटो किराया बढ़ाने के पीछे केजरीवाल का बड़ा प्लान!

दिल्‍ली में ऑटो किराया बढ़ने के बाद लोगों के जेहन में तीन प्रमुख सवाल उठ रहे हैं...

प्रिया गौतम | News18Hindi
Updated: June 13, 2019, 4:58 PM IST
दिल्ली में ऑटो किराया बढ़ाने के पीछे केजरीवाल का बड़ा प्लान!
दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्‍ली में ऑटो के किराए में बढ़ोत्‍तरी को मंजूरी दी है.
प्रिया गौतम | News18Hindi
Updated: June 13, 2019, 4:58 PM IST
दिल्‍ली में ऑटो का किराया बढ़ने के बाद एक बार फिर सियासी बहस ने जन्‍म ले लिया है. ऑटो किराए में की गई करीब 18 फीसदी की बढ़ोतरी को लोग दिल्‍ली में होने जा रहे आगामी विधानसभा चुनावों से जोड़कर देख रहे हैं.

जहां एक तरफ इसे केजरीवाल सरकार की ओर से चुनावों में ऑटोवालों का साथ हासिल करने के लिए उठाया गया कदम बताया जा रहा है. वहीं दूसरी ओर दिल्‍ली में परिवहन के मेट्रो-डीटीसी-ओला-उबर आदि साधनों को देखते हुए ऑटो किराया बढ़ने से ऑटोचालकों को होने वाले नुकसान की भी बात कही जा रही है.



यहां ध्‍यान देने वाली बात है कि दिल्‍ली में ऑटो किराया बढ़ने के बाद तीन प्रमुख सवाल लोगों के जेहन में उठ रहे हैं.

>>क्‍या ऑटो किराया बढ़ाकर अरविंद केजरीवाल दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में ऑटोवालों को दोबारा पार्टी से जोड़ना चाहते हैं ?

>> एक तरफ मेट्रो और बस में महिलाओं को फ्री राइड, दूसरी ओर ऑटो का किराया बढ़ाने से ऑटोवालों को नुकसान होगा या फायदा ?

>> ऑटो फेयर बढ़ाने से विधानसभा चुनावों में क्‍या होगा असर?

दिल्‍ली में ऑटो का किराया 18 फीसदी तक बढ़ाने को मंजूरी दी गई है.
दिल्‍ली में ऑटो का किराया 18 फीसदी तक बढ़ाने को मंजूरी दी गई है.

Loading...

ऑटो किराए में करीब 18 फीसदी की बढ़ोतरी की गई
छह साल में यह दूसरा मौका है जब ऑटो का किराया बढ़ाया गया है. अब से प्रति किलोमीटर पर ऑटो किराया 8.50 की जगह 9.50 रुपये देना होगा. इसके साथ ही पहले दो किमी की जगह अब पहले डेढ़ किमी के लिए 25 रुपये चुकाने होंगे.

आखिर ऑटो किराये में इस इजाफे की क्‍या जरूरत थी? इस सवाल पर दिल्‍ली सरकार की ओर से कहा गया कि इसके लिए बाकायदा सर्वे किया गया और फीडबैक लिया गया. ऑटो चालकों और यूनियनों की लंबे समय की मांग और जरूरत को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

वहीं इस बारे में वरिष्‍ठ पत्रकार निर्मल यादव कहते हैं कि अरविंद केजरीवाल सरकार की ओर से ऑटाे का किराया बढ़ाने को कई नजरियों से देखा जा सकता है. इस फैसले के पीछे राजनीतिक पहलू यह है पिछले दोनों विधानसभा चुनावों में ऑटोचालकों ने आम आदमी पार्टी पर भरोसा जताया और अरविंद केजरीवाल का साथ दिया. दिल्‍ली में 90 हजार रजिस्‍टर्ड ऑटो चालक हैं. ऐसे में वोट बैंक के लिहाज से औसत देखें तो इनके परिवारों को मिलाकर वाेटरों की संख्‍या करीब 3 लाख 20 हजार हो गई. इनमें भी पूर्वांचल के लोग ज्‍यादा हैं, जो कि आम आदमी पार्टी का कोर वोट बैंक है. ऐसे में केजरीवाल ने चुनावों से पहले किराया बढ़ाने का फैसला करके निश्चित ही ऑटो चालकों को अपने पक्ष में करने का काम किया है.

औसत 60 प्रतिशत महिलाएं ऑटो का करती हैं सफर

यादव कहते हैं कि जहां तक दूसरे सवाल की बात है ताे औसत देखें तो 60 फीसदी महिलाएं ही ऑटो का सफर करती हैं. मेट्रो और बसों में फ्री राइड के बाद निश्चित ही महिलाएं ऑटो से स्विच कर जाएंगी. ऐसे में ऑटो चालकों के पास जो यात्री बचेंगे, उसके हिसाब से किराया बढ़ने से उन्‍हें नुकसान के बजाय फायदा होगा. दिल्‍ली में सार्वजिनक परिवहन में सबसे ज्‍यादा सुलभ ऑटो और मेट्रो ही है. ऑटो मिडिल क्‍लास का साधन है. वहीं जहां लोअर क्‍लास डीटीसी बस में और अपर क्‍लास और अपर मिडिल क्‍लास ओला-उबर का इस्‍तेमाल करती है. लिहाजा किराया बढ़ने से ऑटो चालकों के लिए कोई खास संकट नहीं रहेगा.

केजरीवाल महिलाओं के लिए डीटीसी और मेट्रो में फ्री राइड की भी घोषणा कर चुके हैं. हालांकि उस प्रस्‍ताव पर अभी बातचीत चल रही है.
केजरीवाल महिलाओं के लिए डीटीसी और मेट्रो में फ्री राइड की भी घोषणा कर चुके हैं. हालांकि उस प्रस्‍ताव पर अभी बातचीत चल रही है.


विधानसभा चुनावों पर निश्‍चित ही इस फैसले का असर पड़ना है. चूंकि सरकार कोई भी फैसला करती है तो उसके सकारात्‍मक और नकारात्‍मक दोनों ही पहलू हाेते हैं लेकिन यह तय है कि केजरीवाल से रूठा ऑटो चालक समुदाय इस फैसले के बाद आम आदमी पार्टी में वापस आएगा.

आम आदमी पार्टी और ऑटोचालकों का रहा है गहरा रिश्‍ता
ऑटो चालकों और आम आदमी पार्टी का शुरुआत से ही गहरा रिश्‍ता रहा है. केजरीवाल की सरकार बनने में भी ऑटो चालकों की अहम भूमिका रही. लेकिन ऑटो चालक के केजरीवाल को थप्‍पड़ मारने के बाद इस रिश्‍ते में तल्‍खी आ गई थी. इसके साथ ही 2013 से की जा रही ऑटो किराया बढ़ाने की मांग पर भी फैसला न होने से यह पक्ष नाराज था.

ये भी पढ़ें- दिल्ली में बढ़ा ऑटो का किराया, जानिए क्या है नया रेट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...