मनी लांड्रिंग मामला: ED ने रॉबर्ट वाड्रा के सहयोगियों के ठिकानों पर की छापेमारी

बीकानेर भूमि घोटाले में ईडी ने वाड्रा से जुड़ी कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी और इसके अधिकारियों से पूछताछ की है.

भाषा
Updated: December 9, 2018, 3:33 PM IST
भाषा
Updated: December 9, 2018, 3:33 PM IST
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा से जुड़े तीन व्यक्तियों के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छानबीन और जांच शनिवार को भी जारी रही. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि एजेंसी द्वारा दायर दो आपराधिक एफआईआर के आधार पर यह कार्रवाई की गई है.

उन्होंने कहा कि छापेमारी के दूसरे दिन केंद्रीय जांच एजेंसी ने कम से कम चार लोगों से पूछताछ कर रही है. सूत्रों का कहना है कि एजेंसी मनी लांड्रिंग निरोधक कानून (पीएमएलए) के तहत इन लोगों के बयान दर्ज कर रही है. हालांकि, इन लोगों की पहचान अब तक सार्वजनिक नहीं की गई है.

ये भी पढ़ें- सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ड वाड्रा को है इन चीजों का शौक, जानिये उनके बारे में

उन्होंने कहा कि ये छापे एजेंसी द्वारा बीकानेर भूमि घोटाले मामले और लापता हथियार सौदागर संजय भंडारी से जुड़े मामले में दायर मनी लांड्रिंग एफआईआर के सिलसिले में मारे गए हैं.

बीकानेर भूमि घोटाले में ईडी ने वाड्रा से जुड़ी कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटलिटी और इसके अधिकारियों से पूछताछ की है. वहीं, एजेंसी ने वाड्रा को पेश होने के लिए दो बार समन भेजा है.

ये भी पढ़ें- रॉबर्ट वाड्रा के सहयोगियों के ठिकानों पर छापेमारी खत्म, शनिवार तड़के दस्तावेज लेकर निकली ED

वहीं, विवादित हथियार सौदागर भंडारी के खिलाफ ईडी ने 2016 में मामला दर्ज किया था. यह मामला आयकर विभाग और संदिग्ध रक्षा सौदों में संलिप्तता को लेकर दिल्ली पुलिस की शिकायत के आधार पर दर्ज किया गया.
Loading...

भंडारी का मामला पहली बार तब प्रकाश में आया जब आयकर विभाग ने उसके खिलाफ अप्रैल 2016 में तलाशी अभियान चलाया. इस दौरान उसके परिसरों से ‘‘संवेदनशील’’ आधिकारिक रक्षा दस्तावेज बरामद किये गए.

तलाशी के दौरान कुछ ईमेल भी आयकर विभाग के हाथ लगे जिनमें 2010 में लंदन में एक कीमती अपार्टमेंट की मरम्मत कार्य का उल्लेख किया गया है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर