लाइव टीवी

चुनावी सीजन में किसानों की बल्ले-बल्ले, हरियाणा और झारखंड सरकार ने खेती-किसानी के लिए खोला खजाना!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 20, 2019, 10:10 AM IST
चुनावी सीजन में किसानों की बल्ले-बल्ले, हरियाणा और झारखंड सरकार ने खेती-किसानी के लिए खोला खजाना!
चुनाव आते ही किसानों पर क्यों मेहरबान हो जाती हैं सरकारें! (File Photo)

मनोहर लाल सरकार (Government of Haryana) ने राज्य के 10 लाख किसानों (Farmers) को तोहफा दिया है तो वहीं रघुवर दास ने भी झारखंड के 35 लाख किसानों पर दांव खेला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2019, 10:10 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. चुनाव आयोग (Election Commission ) अगले एक-दो दिन में तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव (Assembly Election) घोषित कर सकता है. जिन तीन राज्यों में चुनाव होने हैं वहां की सरकारें किसानों के लिए दिल खोलकर पैसा खर्च कर रही हैं. क्योंकि उन्हें पता है कि यही सबसे बड़े वोटर हैं. हरियाणा (Haryana) और झारखंड (Jharkhand) की सरकारों ने किसानों (Farmers) के लिए अपना खजाना खोल दिया है. हरियाणा में 10 लाख किसानों को चुपचाप कर्ज के ब्याज माफी (Debt waiver) का तोहफा दे दिया गया है. तो झारखंड में 35 लाख किसानों को सालाना 25 हजार रुपये तक देकर मालामाल करने का दांव खेला गया है. देखना ये है कि क्या इस तोहफे से बीजेपी (BJP) पहले की तरह वोट बटोर पाने में सफल हो पाएगी?

झारखंड की रघुवर दास सरकार ने पिछले महीने ही सबसे ज्यादा पैसा देने वाली मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना (Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana) शुरू की है. इसके तहत पांच एकड़ जोत वाले किसानों को सालाना 25 हजार रुपये मिलेंगे. इससे करीब 35 लाख किसानों (Kisan) को 3 हजार करोड़ रुपए की मदद मिलेगी. पहले चरण में करीब 15 लाख किसान इसमें कवर होंगे. राज्य सरकार की कोशिश है कि किसानों को खाद, बीज और कीटनाशक आदि के लिए किसी साहूकार और बैंक से कर्ज न लेना पड़े.

Assembly Election, विधानसभा चुनाव, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम, PM-kisan Samman Nidhi Scheme, मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना, Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana, किसान, Farmers,Kisan, कर्जमाफी, Debt waiver, बीजेपी, BJP, Haryana cm manohar lal, हरियाणा के सीएम मनोहरलाल, Jharkhand cm raghubar das, झारखंड के सीएम रघुवर दास
कहीं हुई ब्याजमाफी तो कहीं 25 हजार रुपये नगद सहायता (File Photo)


हर साल मिलेंगे 31 हजार रुपये

खास बात है कि यह स्कीम सिर्फ झारखंड के मूल निवासियों, छोटे और सीमांत किसानों के लिए ही है. दूसरे राज्य से यहां आकर जमीन खरीदने वालों को भी इसका लाभ नहीं मिलेगा. इस तरह यहां के हर किसान को सालाना 31 हजार रुपये नकद मिलेंगे क्योंकि 6,000 रुपये पीएम किसान सम्मान निधि के तहत पहले से ही मिल रहे हैं.

हरियाणा में कर्ज का ब्याजमाफी दांव

उधर, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने भी प्रदेश के करीब 10 लाख किसानों को विधानसभा चुनाव से पहले बड़ा तोहफा दिया है. उन्होंने सहकारी बैंकों के कर्जदार किसानों के लिए एकमुश्त समाधान योजना का एलान किया. इसके तहत कर्ज के ब्याज और जुर्माने की करीब 4,750 करोड़ की राशि माफ की जाएगी. किसानों को 30 नवंबर तक सहकारी बैंकों से लिए गए कर्ज की मूल राशि जमा करानी होगी. प्राथमिक कृषि और सहकारी समितियों से लगभग 13 लाख किसानों ने कर्ज लिया हुआ है. जिनमें से 8.25 लाख किसानों के खाते एनपीए घोषित हो चुके हैं.
Loading...

Assembly Election, विधानसभा चुनाव, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम, PM-kisan Samman Nidhi Scheme, मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना, Mukhyamantri Krishi Ashirwad Yojana, किसान, Farmers,Kisan, कर्जमाफी, Debt waiver, बीजेपी, BJP, Haryana cm manohar lal, हरियाणा के सीएम मनोहरलाल, Jharkhand cm raghubar das, झारखंड के सीएम रघुवर दास
किसानों को लुभाने की कोशिश कितनी कामयाब होगी? (File Photo)


यहां मिलेंगे 12 हजार रुपये सालाना! 

यही नहीं अब यहां किसानों को सालाना 12 हजार रुपये की सहायता मिलेगी. प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (PM-kisan Samman Nidhi Scheme)  के तहत 6,000 रुपये मिल रहे हैं और इतनी ही रकम पेंशन के रूप में राज्य सरकार देगी. इसके लिए 1,500 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं. तय हुआ है कि पांच एकड़ तक की भूमि वाले किसान परिवारों को पेंशन दी जाएगी.

ये भी पढ़ें:

रामविलास पासवान ने खरीदा 420 रुपये किलो सेब, मिला खतरनाक वैक्स

किसानों के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के बड़े काम, सहयोग, सम्मान और दाम!        

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 20, 2019, 9:35 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...