हौज काजी मामला: आप नेता इमरान ने भड़काई हिंसा, पुलिस कमिश्नर को सौंपे सबूत- बीजेपी

चांदनी चौक के चावड़ी बाजार स्थित हौज काजी में पार्किंग के विवाद के बाद हुई हिंसा के मामले में सांसद विजय गोयल, हंसराज हंस और मंजीत सिंह सिरसा दिल्ली पुलिस मुख्यालय में पुलिस कमिश्नर से मिलने पहुंचे. उन्होंने पुलिस कमिश्नर को सीडी में सबूत सौंपे हैं.

News18Hindi
Updated: July 4, 2019, 8:34 PM IST
हौज काजी मामला: आप नेता इमरान ने भड़काई हिंसा, पुलिस कमिश्नर को सौंपे सबूत- बीजेपी
हौज काजी मामला: सांसद विजय गोयल, हंसराज हंस और मंजीत सिंह सिरसा ने पुलिस कमिश्नर को सीडी में सौंपे सबूत.
News18Hindi
Updated: July 4, 2019, 8:34 PM IST
चांदनी चौक के चावड़ी बाजार स्थित हौज काजी में पार्किंग के विवाद के बाद हुई हिंसा के मामले में सांसद विजय गोयल, हंसराज हंस और मंजीत सिंह सिरसा दिल्ली पुलिस मुख्यालय में पुलिस कमिश्नर से मिलने पहुंचे. उन्होंने पुलिस कमिश्नर को सीडी में सबूत सौंपे हैं. तीनों भाजपा सांसदों ने पुलिस कमिश्नर को हौज काजी मामले से जुड़े कुछ वीडियो और CD सौंपे. इन तीनों नेताओं ने इस मामले में राजनीतिक साजिश की आशंका जाहिर की है.

सांसद विजय गोयल ने कहा कि उन्होंने हौज काजी मामले में शिकायत दर्ज कराई है और एक सीडी पुलिस कमिश्नर को सौंपी है. उन्होंने आरोप लगाया है कि सीडी में देखा जा सकता है कि दिल्ली के एक मंत्री और आप नेता इमरान हुसैन ने किस तरह पार्किंग के विवाद को सांप्रदायिक तनाव का रूप दे दिया था.

पिछले रविवार की रात को हौज काजी थाने के बाहर हुई नारेबाजी के बाद अराजक तत्वों ने एक मंदिर की कई मूर्तियों में तोड़फोड़ कर दी थी. इस मामले में आगे की विशेष तफ्तीश के लिए बीजेपी के तीनों सांसद कुछ वीडियो सबूतों के साथ गुरुवार को पुलिस कमिश्नर से मिलने आए थे.



दिल्ली सरकार के मंत्री की भूमिका की जांच हो
दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष विजय गोयल ने बुधवार को मांग की थी कि, 'इस घटना पर दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन की भूमिका की जांच होनी चाहिए. गोयल ने इस मामले में दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से बात की है. मां दुर्गा के मंदिर में तोड़फोड़ की घटना बर्दाश्त नहीं की जाएगी. इससे ज्यादा दुख इस बात का है कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस घटना पर अब तक चुप्पी साध रखी है. केजरीवाल को डर है कि इस घटना के बाद उनका वोटबैंक खिसक सकता है इसलिए उन्होंने इस घटना पर चुप्पी साध रखी है. मेरी लोगों से अपील है कि वह शांति और सदभाव बनाए रखें.'

हम नहीं चाहते कोई बवाल
Loading...

इस मसले पर इमरान हुसैन ने कहा था कि, “रविवार की रात को ही बवाल के बाद हमारे हिंदू और मुसलमान भाई एक साथ थाने में वार्ता करने पहुंचे. इस दौरान एक दूसरे को गले लगाया गया और मामला वहीं खत्म कर दिया गया. मैं भी वहीं मौजूद था. उन्होंने कहा कि न हिंदू और न ही मुसलमान, किसी भी तरह का दंगा हमारे इलाके में चाहते हैं.”

आपको बता दें कि बुधवार को दिल्ली के हौज काजी विवाद में उस समय नया मोड़ आ गया जब दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन को एक वीडियो में थाने के बाहर देखा गया. हालांकि, दिल्ली पुलिस का कहना है कि यह वीडियो घटना से कुछ ही घंटे पहले का लग रहा है. इस वीडियो की पुलिस जांच कर रही है. सिर्फ वीडियो देख कर इमरान हुसैन पर किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं बनती. इमरान हुसैन जहां खड़े थे वहां पर सीसीटीवी भी लगी हुई है और हमलोग उस सीसीटीवी की जांच कर रहे हैं. इसके बाद ही इस मामले में कुछ निर्णय लिया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें - 
First published: July 4, 2019, 6:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...