लाइव टीवी

Delhi-NCR में पब्लिक हेल्‍थ इमरजेंसी घोषित, सर्दी के मौसम तक पटाखे जलाने पर रोक

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 3:37 PM IST
Delhi-NCR में पब्लिक हेल्‍थ इमरजेंसी घोषित, सर्दी के मौसम तक पटाखे जलाने पर रोक
दिल्ली में प्रदूषण बेहद खतरनाक स्तर पर बढ़ गया है. इससे लोगों को सांस लेने में तकलीफ हो रही है साथ ही वो बीमारियों के शिकार हो रहे हैं (फोटो: पीटीआई)

दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर 'ज्यादा गंभीर' श्रेणी में प्रवेश कर गया है. यही कारण है कि पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम और नियंत्रण) प्राधिकरण ने सर्दियों के मौसम में पटाखे फोड़ने पर भी प्रतिबंध लगा दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 3:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के एक पैनल ने दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है. दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण (Air Pollution) के स्तर को सीवीयर प्लस कैटेगरी में रखा गया है. पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण (EPCA) ने हेल्थ इमरजेंसी घोषित होने पर सर्दियों के पूरे मौसम पटाखे (crackers) जलाने पर बैन लगा दिया है. वहीं कंस्ट्रक्शन (construction) पर लगी रोक को 5 नंवबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है.

दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा के हालात को देखते हुए उठाए कदम
दिल्ली के लोधी रोड, मेजर ध्यानचंद स्टेडियम इलाके में वायु प्रदूषण में PM 2.5 का लेवल एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार 500 के खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. गाजियाबाद में ये आंकड़ा 487 पर है. वहीं नोएडा में भी ये आंकड़ा 500 को छूने की ओर बढ़ रहा है. यूपी के 8 शहर खतरनाक वायु प्रदुषण की चपेट में हैं. गुरुग्राम और सिरसा में भी हालात अच्छे नहीं हैं.


Loading...

pollution
दिल्ली और आसपास के इलाकों में दूषित हवा के लिए जिम्मेदार कारकों में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं का 27 प्रतिशत योगदान है.


क्या कहती है CPCB की रिपोर्ट?
वायु प्रदूषण में किस कारक का कितना योगदान है इसके आंकड़े रोज बदलते रहते हैं. इसकी निगरानी करने वाली पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की एक संस्था है सफर (SAFAR), जिसका पूरा नाम है इंडिया सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च. इसके मुताबिक दिल्ली और आसपास के इलाकों में दूषित हवा के लिए जिम्मेदार कारकों में पंजाब और हरियाणा में पराली जलाने की घटनाओं का 27 प्रतिशत योगदान है.

दिल्ली में बंद हुए कक्षा 5 तक के सभी स्कूल

दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजैंसी घोषित होने के बाद से दिल्ली के सभी कक्षा 5 तक के स्कूल बंद करने की घोषणा कर दी गई है. बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक ट्वीट कर ये जानकारी दी है. स्कूलों में खुले मैदान में बच्चों के खेलकूद पर भी रोक लगा दी गई है. किसी भी तरह की आउटडोर एक्टीविटी भी बंद रहेगी.

5 नवंबर की सुबह तक बंद रहेंगे

दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद, गुरुग्राम, गाजियाबाद में हॉट मिक्स प्लांट और स्टोन क्रशर 5 नवंबर तक पूरी तरह से बंद रहेंगे. कोयले और तेल से चलने वाली फैक्ट्रियां बंद रहेंगी. कंस्ट्रक्शन पर शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक रोक रहेगी. ये रोक 5 नंवबर तक के लिए बढ़ा दी गई है.

प्रदूषण से आप पर यह हो सकता है ये असर

>> प्रदूषण के चलते आंखों की रोशनी, फेफड़ाें में परेशानी, सिर दर्द, त्वचा में इंफेक्‍शन यहां तक की नर्वस सिस्टम की परेशानी भी हो सकती है.

>> ऐसे हालात में डायरिया होना एक सामान्य बीमारी है.

>> सांस के जरिए शरीर में पहुंचने वाले प्रदूषण के हानिकारक तत्व खून में मिलकर कई अन्य रोगों को जन्म देते हैं, जो काफी खतरनाक भी साबित हो सकते हैं.



डॉक्टरों की सलाह

>> सुबह और देर शाम की वॉक से बचें. यदि सुबह वॉक के लिए निकलते हैं तो कुछ खाकर बाहर जाएं.

>> पार्क में यदि ओस हो तो ही टहलें. ओस की वजह से प्रदूषण की एक परत साफ हो जाती है.

>> घर से बाहर निकलते वक्त मास्क लगाकर निकलें.

>> ज्यादा से ज्‍यादा पानी पीएं, इससे शरीर को हानि पहुंचाने वाले प्रदूषित तत्व असर कम करेंगे.

 

ये भी पढ़ें- भोपाल में 3 दिन के लिए इकट्ठा हो रहे हैं देशभर के 25 लाख से अधिक मुस्लिम, जानें वजह...

इस दिवाली पर 60 प्रतिशत कम बिका चाइनीज सामान, कैट के सर्वे में हुआ खुलासा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 1:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...