स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रेजिडेंट डॉक्टरों से की मुलाकात, हड़ताल जल्द खत्म होने की जताई उम्मीद

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने एनएमसी विधेयक के विरोध में प्रदर्शन कर रहे एम्स और सफदरजंग के रेजिडेंट डॉक्टरों से मुलाकात की और उम्मीद जताई कि राष्ट्रीय हित और मरीजों को हो रही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए वे अपनी हड़ताल वापस ले लेंगे.

News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 12:04 AM IST
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रेजिडेंट डॉक्टरों से की मुलाकात, हड़ताल जल्द खत्म होने की जताई उम्मीद
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने रेजिडेंट डॉक्टरों से की मुलाकात, हड़ताल जल्द खत्म होने की जताई उम्मीद. (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: August 5, 2019, 12:04 AM IST
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने एनएमसी विधेयक के कुछ प्रावधानों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे एम्स और सफदरजंग के रेजिडेंट डॉक्टरों से रविवार को मुलाकात की और उम्मीद जताई कि राष्ट्रीय हित और मरीजों को हो रही समस्याओं को ध्यान में रखते हुए वे अपनी हड़ताल वापस ले लेंगे. रेजिडेंट डॉक्टर लगातार चौथे दिन रविवार को भी अपनी हड़ताल जारी रखे हुए हैं.

हर्षवर्धन ने अपने आवास पर रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और कहा कि रेजिडेंट डॉक्टरों की गलतफहमियों को दूर कर दिया गया है. उन्होंने राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग (एनएमसी) विधेयक से संबंधित उनके सवालों के जवाब दिए. उन्होंने ट्वीट किया कि ‘‘रविवार सुबह अपने आवास पर एम्स आरडीए के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान मैंने एक बार फिर दोहराया कि राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग विधेयक” चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में बड़ा बदलाव है जो 130 करोड़ लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए वरदान साबित होगा.’’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘‘एम्स आरडीए के अलावा मैंने एसजेएच दिल्ली आरडीए के प्रतिनिधिमंडल से भी मुलाकात की है और एनएमसी विधेयक, 2019 के बारे में उनकी गलतफहमियों को दूर किया. पू्र्ण विश्वास है कि आंदोलनरत डॉक्टर, मरीजों की परेशानियों को देखते हुए जल्द ही राष्ट्रहित में अपनी हड़ताल वापस लेंगे.’’

एम्स और सफदरजंग समेत कुछ सरकारी अस्पतालों में रेजिडेंट डॉक्टरों द्वारा गैर-जरूरी सेवाओं का बहिष्कार करने से स्वास्थ्य सेवाएं लगातार प्रभावित हैं, हालांकि शनिवार को सभी अस्पतालों में आपात सेवाएं बहाल कर दी गईं हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 5, 2019, 12:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...