उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट पेश करने में नाकाम रहा एम्स तो कड़ा रुख अपनाएंगे: कोर्ट

भाषा
Updated: August 21, 2019, 11:15 PM IST
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट पेश करने में नाकाम रहा एम्स तो कड़ा रुख अपनाएंगे: कोर्ट
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के रोड एक्सीडेंट मामले की जांच पूरी करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को दो और हफ्ते का वक्त दिया है. (Demo Pic)

दिल्ली (Delhi) की एक अदालत (Court) ने कहा है कि अगर एम्स (AIIMS) ट्रॉमा सेंटर के चिकित्सा अधीक्षक उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) पीड़िता की हालत से जुड़ी रिपोर्ट पेश करने में नाकाम रहे तो संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया जाएगा.

  • Share this:
उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) पीड़िता पिछले महीने रायबरेली (Raebareilly) के पास हुई सड़क दुर्घटना (Accident) के बाद फिलहाल दिल्ली के एम्स (AIIMS) में भर्ती है, जहां उसका इलाज चल रहा है. लेकिन इसकी रिपोर्ट अभी तक कोर्ट में पेश नहीं की गई. इस पर दिल्ली (Delhi) की एक अदालत (Court) ने कहा है कि अगर एम्स ट्रॉमा सेंटर के चिकित्सा अधीक्षक उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की हालत से जुड़ी रिपोर्ट पेश करने में नाकाम रहे तो संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया जाएगा.

जिला न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने चिकित्सा अधीक्षक को 19 वर्षीय गैंगरेप पीड़िता का इलाज कर रहे चिकित्सकों से रिपोर्ट मांगकर उसे सीलबंद लिफाफे में अदालत में पेश करने का निर्देश दिया है. अदालत ने कहा, 'यह स्पष्ट किया जाता है कि अगर इस आदेश का पालन नहीं किया गया, तो कड़ा रुख अपनाया जाएगा.'

गैंगरेप मामले के जांच अधिकारी (आईओ) ने इस संबंध में प्रारंभिक निर्देश पारित किए जाने के 12 दिन बाद भी पीड़िता की हालत पर रिपोर्ट पेश नहीं की, जिसके मद्देनजर अदालत ने यह निर्देश दिया. जांच अधिकारी ने अदालत को बताया कि पीड़िता की देखरेख कर रहे चिकित्सकों ने अनुरोध किया है कि उसकी चिकित्सा स्थिति के बारे में सूचना देने के लिए उन्हें विशिष्ट निर्देश दिया जाए.

एक्सीडेंट में पीड़िता के दो रिश्तेदारों की हुई थी मौत

पीड़िता का 2017 में बीजेपी से निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने कथित रूप से गैंगरेप किया था, उस समय वह नाबालिग थी. पिछले महीने 28 तारीख को उत्तर प्रदेश के रायबरेली में एक ट्रक ने पीड़िता की कार को जोरदार टक्कर मार दी थी, जिसमें उसके दो संबंधियों की मौत हो गई थी. जबकि उसके वकील दुर्घटना में घायल हो गए थे.

जांच पूरी करने के लिए सीबीआई को दो और हफ्ते का वक्त
उन्नाव गैंगरेप पीड़िता के रोड एक्सीडेंट मामले की जांच पूरी करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को दो और हफ्ते का वक्त दिया है. दरअसल सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में इस केस की स्टेटस रिपोर्ट सौंपते हुए जांच के लिए अतिरिक्त समय की मांग की थी, जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया. शीर्ष अदालत ने इसके साथ ही योगी सरकार को इस हादसे में घायल पीड़िता के वकील को मेडिकल खर्च के रूप में 5 लाख रुपए की अंतरिम सहायता देने का निर्देश भी दिया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए उन्नाव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 11:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...