कम पैसे में भी आप बन सकते हैं अपने मां-बाप के श्रवण कुमार

अक्सर जानकारी की कमी या फिर सरकारी अधिकारियों के उदासीन रवैये के कारण कुछ योजनाओं की जानकारी आम आदमी तक सही तरीके से नहीं पहुंच पाती है.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 7:56 PM IST
कम पैसे में भी आप बन सकते हैं अपने मां-बाप के श्रवण कुमार
दिल्ली सरकार ने तो इसी साल से बुजुर्गों को तीर्थाटन पर भेजना भी शुरू कर दिया है.
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 22, 2019, 7:56 PM IST
मोदी सरकार के साथ-साथ कई राज्य सरकारें भी अब बुजुर्गों को ध्यान में रखते हुए नई-नई योजनाओं की शुरुआत की है. दिल्ली सरकार ने तो इस साल से बुजुर्गों को तीर्थाटन पर भेजना भी शुरू कर दिया है. मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा स्कीम है. यूपी में भी योगी सरकार ने इसकी शुरुआत की है. छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भी ऐसी स्कीम संचालित हो रही है. लेकिन, अक्सर जानकारी की कमी या फिर सरकारी अधिकारियों के उदासीन रवैये के कारण ऐसी योजनाओं की जानकारी आम आदमी तक नहीं पहुंच पातीं, जिससे फंड वापस हो जाता है.

केंद्र और राज्य सरकारों की कोशिश के बाद अब गरीब से गरीब और मध्यम वर्ग के लोग भी अपने मां-बाप को तीर्थ यात्रा पर ले जाने में सक्षम हैं. लेकिन, इसके लिए प्रखंड स्तर से लेकर जिला स्तर कुछ कागजी कार्रवाई पूरी करनी अनिवार्य है. कुछ राज्य सरकारों ने तो मुफ्त तीर्थयात्रा के लिए विशेष अभियान भी शुरू किया हुआ है, जिसका काफी फायदा भी हो रहा है. छत्तीसढ़ में तो इसके लिए पंचायत स्तर के अधिकारियों को विशेष दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. गरीब मां-बाप के संतान अब प्रखंड स्तर से लेकर जिला स्तर तक पहुंच कर इन स्कीमों के बारे में जानकारी हासिल कर सकते हैं.

बुजुर्गों के प्रति लोगों का भाव बदल रहा है

कई राज्य चला रहे हैं बुजुर्गों के लिए स्कीम


बता दें कि हाल के वर्षों में पीएम मोदी की मन की बात जैसे कार्यकर्मों के बाद बुजुर्गों के प्रति भी अब लोगों का भाव बदल रहा है. दिेल्ली, छत्तीसगढ़, केरल, राजस्थान की देखा-देखी कई और राज्य सरकारों ने भी अब बुजुर्गों के लिए फंड जारी करना शुरू कर दिया है. वैसे से हर सरकार पहले से ही इस योजना के अंतगर्त लोगों को तीर्थ पर भेजती थी, लेकिन वह सिर्फ गिनती के ही और कुछ खास लोग होते थे. अब ​​केंद्र या राज्य सरकार की कई योजनाओं में वरिष्ठ नागरिकों को तवज्जो दिया जाने लगा है.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी बुुजुर्गों के लिए स्कीम शुरू की है


भारतीय रेलवे बुजुर्गों को टिकट में रियायत देता है
Loading...

बता दें कि भारतीय रेलवे बुजुर्ग यात्रियों को टिकट में रियायत देता आ रहा है. छूट लेने के लिए पुरुष के लिए 60 साल की उम्र सीमा तय होनी चाहिए तो महिलाओं के लिए 58 साल की उम्र सीमा होनी चाहिए. पुरुष को सभी क्लास में 40 प्रतिशत तो बुजुर्ग महिलाओं को भी सभी क्लास की यात्रा करने में 50 प्रतिशत की छूट पहले से तय है. लेकिन, अगर आप तीर्थ यात्रा पर निकले हैं तो रेलवे आपकी आर्थिक स्थिति की जानकारी ले कर रियायत दे सकती है.

यही हाल हवाई यात्रा को लेकर भी है. हवाई यात्रा भी अब वरिष्ठ नागरिकों के लिए आसान हो गई है. सरकारी कंपनी एयर इंडिया 60 वर्ष से अधिक आयु वाले नागरिकों को टिकट दर में 50 फीसदी की रियायत देती है. यह छूट एयर इंडिया के विमान से विदेश जाने वाले वरिष्ठ नागरिकों को मिलती है.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी बुजुर्गों को लेकर कई स्कीम शुरू की है


वरिष्ठ नागरिकों को प्रॉपर्टी टैक्स में भी छूट मिलती

केंद्र सरकार के साथ-साथ कई राज्य सरकारें भी अब गरीबी रेखा के नीचे रह रहे वरिष्ठ या बुजुर्ग नागिरकों को मासिक पेंशन मुहैया कराती है. जिन वरिष्ठ नागरिकों के पास आय का श्रोत नहीं है या फिर कोई दूसरा विकल्प नहीं है उन वरिष्ठ नागरिकों को प्रॉपर्टी टैक्स में भी छूट मिलती है. साथ ही कई बीमा कंपनियां भी ऐसे लोगों के लिए विशेष मेडिकल प्लान लेकर आ रही हैं. कई बीमा कंपनियों ने भी जीवन बीमा की उम्र को बढ़ाकर 70 या 75 वर्ष कर दिया है, ताकि उम्र के उस पड़ाव पर भी उन्हें वित्तीय असुरक्षा का आभास न हो और वह सरकारी योजनाओं का आसानी से लाभ उठा सकें.

वरिष्ठ नागरिकों के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री वय वंदन योजना (PMVVY) हो या फिर सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम से लोगों को फायदा हो रहा है. भारतीय बैंक भी वरिष्ठ नागिरकों को सिर्फ कम ब्याज दरों पर ही लोन नहीं देते, बल्कि उनकी जमा राशि पर भी अब पहले से अधिक ब्याज देने लगे हैं. इससे बुजुर्ग किसी का सहारा न बन कर अपने बच्चों का सहारा बन गए हैं.

ये भी पढ़ें:

जेल में मटन-चिकन के साथ वोदका की डिमांड कर रहे हैं विदेशी कैदी 

आम कार्यकर्ता से लेकर नेता तक सबका ध्यान रखती थीं शीला दीक्षित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 22, 2019, 6:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...