क्या कांग्रेस में शुरु हो गई है राहुल की अनदेखी?

सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी पिछले एक साल से कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ना चाहते थे लेकिन उन्हे सही समय का इंतजार था. पिछले एक साल की कांग्रेस की राजनीति देखें तो राहुल गांधी के प्यादे हर चाल में मात खा रहे हैं.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:22 PM IST
क्या कांग्रेस में शुरु हो गई है राहुल की अनदेखी?
क्‍या कांग्रेस में राहुल गांधी की अनदेखी शुरू हो चुकी है?
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 1:22 PM IST
कांग्रेस आजादी के बाद के सबसे बुरे दौर में गुजर रही है. इसके पहले कांग्रेस की इतनी दशा कभी खराब नहीं थी. पांच दशक तक देश में सरकार चलाने वाली पार्टी लगातार दो लोकसभा में 10 फीसदी लोकसभा सीटें भी इकठ्ठा नहीं कर पाई ताकि उसे नेता विरोधी दल की कुर्सी मिल सके. इस हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया लेकिन करीब 2 महीने होने वाले हैं लेकिन राहुल का इस्तीफा अभी तक स्वीकार नहीं हुआ और न ही कांग्रेस का नया अध्यक्ष तलाशने की गंभीर कोशिश होती दिख रही है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या राहुल गांधी की कांग्रेस में वो हैसियत पहले भी रही है, जैसी कि गांधी परिवार के अन्य कांग्रेस अध्यक्षों की रही है या कांग्रेस नेता अपने ही राष्ट्रीय अध्यक्ष की अनदेखी कर रहे हैं.

प्रियंका पर राहुल की अनदेखी का आरोप
ये सवाल यूं हीं नहीं उठ रहा है. दरअसल ये सवाल प्रियंका गांधी वाड्रा के लगातार कांग्रेस अध्यक्ष बनाए जाने की मांग के बाद उठने लगा है. दरअसल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने इस्तीफे के बाद जो दो मुख्य बातें कहीं थीं उसमें हार की जिम्मेदारी लेते हुए संगठन के बड़े पदाधिकारियों को अपने पद से इस्तीफा देना और कांग्रेस अध्यक्ष का पद गांधी परिवार से बाहर जाना था लेकिन प्रियंका गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की पेशकश करने की बजाय हार का ठीकरा उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर पर फोड़ दिया और अब प्रमोद कृष्णम् और श्रीप्रकाश जायसवाल जैसे नेता प्रियंका को अध्यक्ष बनाने की मांग करने लगे हैं और प्रियंका इस पूरा मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं. यानि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की दोनों सलाहों को कोई कांग्रेसी दरकिनार कर रहा है तो वो हैं पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव और राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा.

लेकिन प्रियंका गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की पेशकश करने की बजाय हार का ठीकरा उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर पर फोड़ दिया और अब प्रमोद कृष्णम् और श्रीप्रकाश जायसवाल जैसे नेता प्रियंका को अध्यक्ष बनाने की मांग करने लगे हैं
लेकिन प्रियंका गांधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देने की पेशकश करने की बजाय हार का ठीकरा उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर पर फोड़ दिया और अब प्रमोद कृष्णम् और श्रीप्रकाश जायसवाल जैसे नेता प्रियंका को अध्यक्ष बनाने की मांग करने लगे हैं.


आखिर क्यों अध्यक्ष रहते भी घुटन महसूस कर रहे हैं राहुल
सूत्रों की मानें तो राहुल गांधी पिछले एक साल से कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ना चाहते थे लेकिन उन्हे सही समय का इंतजार था. पिछले एक साल की कांग्रेस की राजनीति देखें तो राहुल गांधी के प्यादे हर चाल में मात खा रहे हैं. लगातार कांग्रेस को युवा हाथों में ले जाने की वकालत करने वाले राहुल अपने युवा करीबियों को बचा नहीं पा रहे हैं. मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने युवा चेहरे ज्योतिरादित्य सिंधिया की बजाय कमलनाथ पर दांव लगाया. राजस्थान में राहुल के करीबी समझे जाने वाले सचिन पायलट की जगह अशोक गहलोत को कुर्सी मिली और इस पूरे राजनीतिक घटनाक्रम में प्रियंका युवा नेताओं को समझाने का जिम्मा संभालते हए एक महत्वूर्ण चेहरे के रुप में सामने आई. मतलब जो काम राहुल नहीं कर पाए वो प्रियंका ने कर दिया. पंजाब की राजनीति में भी राहुल के करीबी समझे जाने वाले नवजोत सिंह सिद्धू  को कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ऐसी पटकी मारी की पति-पत्नी दोनों पंजाब की राजनीति से बाहर जाते दिख रहे हैं.

किसके इशारे पर हो रही है राहुल की अनदेखी
Loading...

गांधी परिवार के युवराज की यदि कांग्रेस में अनदेखी हो रही है तो इसके पीछे कौन है. क्या प्रियंका गांधी वाड्रा सिर्फ अपनी मर्जी से कांग्रेस अध्यक्ष की राय को दरकिनार कर रही हैं या उनका साथ कोई और दे रहा है. कांग्रेस के करीबी सूत्रों की माने तो यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी नहीं चाहतीं कि कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी गांधी परिवार के बाहर जाए ऐसे में उन्होंने 2017 से प्रियंका को राजनाति में सक्रिय कर दिया था हालांकि सोनिया गांधी ने शुरुआत में प्रियंका को रोककर राहुल को राजनीति में सक्रिय किया था लेकिन राहुल को सफल होता न देख सोनिया गांधी ने अब प्रियंका गांधी पर दाव लगाया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2019, 1:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...