हिंदू-मुस्लिम एकता, सांप्रदायिक सद्भाव के बिना बड़ी ताकत नहीं बन सकता भारत: जमीयत प्रमुख

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 5:41 PM IST
हिंदू-मुस्लिम एकता, सांप्रदायिक सद्भाव के बिना बड़ी ताकत नहीं बन सकता भारत: जमीयत प्रमुख
जमीयत प्रमुख ने कहा है कि हिंदू-मुस्लिम एकता, सांप्रदायिक सद्भाव के बिना बड़ी ताकत नहीं बन सकता.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद (Jamiat Ulema-e-Hind) के प्रमुख मौलाना अरसद मदनी (Arsad Madni) ने नई दिल्ली में आरएसएस प्रमुख से कहा है कि हिंदू-मुस्लिम एकता और सांप्रदायिक सद्भाव के बिना हमारा देश बड़ी ताकत नहीं बन सकता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2019, 5:41 PM IST
  • Share this:
जमीयत उलेमा-ए-हिंद (Jamiat Ulema-e-Hind) के प्रमुख मौलाना अरसद मदनी (Arsad Madni) ने नई दिल्ली में आरएसएस प्रमुख से कहा है कि हिंदू-मुस्लिम एकता और सांप्रदायिक सद्भाव के बिना हमारा देश बड़ी ताकत नहीं बन सकता. उन्होंने भीड़ द्वारा हत्या, घृणा अपराधों की घटनाओं को रोकने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत पर भी जोर दिया. प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना अरशद मदनी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत से नई दिल्ली में मुलाकात के दौरान शुक्रवार को ये बातें कहीं.

एनआरसी और कुछ अन्य मुद्दों पर भी दोनों नेताओं ने लंबे समय से बात की. एक सूत्र ने बताया कि, दोनों नेताओं की मुलाकात की भूमिका लंबे समय से तैयार हो रही थी और इसके लिए मुख्य रूप से भाजपा के पूर्व संगठन महासचिव राम लाल लंबे समय से प्रयासरत थे. आखिरकार दोनों संगठनों के प्रमुख शुक्रवार रात को मिले.

दोनों नेताओं ने आरएसएस कार्यालय केशव कुंज में डेढ़ घंटे तक बात की
इस दौरान दोनों के बीच हिन्दू-मुस्लिम एकता को बढ़ावा देने और भीड़ द्वारा हत्या की घटनाओं (मॉब लिंचिंग) सहित कई मुद्दों पर बातचीत हुई. जमीयत से जुड़े सूत्रों के मुताबिक दोनों की यह मुलाकात शुक्रवार रात संघ के दिल्ली स्थित कार्यालय केशव कुंज में करीब डेढ़ घंटे तक चली. जमीयत के एक पदाधिकारी ने यह भी कहा, इस मुलाकात का यह कतई मतलब नहीं है कि हम आरएसएस के नजरिए का समर्थन करते हैं, लेकिन देश की एकजुटता और तरक्की के लिए हमें बातचीत करने से कोई परहेज नहीं है.

2004 में भी हुई थी केएस सुदर्शन और अरसद मदनी में बातचीत
गौरतलब है कि लंबे अरसे बाद जमीयत प्रमुख और आरएसएस के सरसंघचालक के बीच मुलकात हुई है. इससे पहले 2004 में तत्कालीन संघ प्रमुख केएस सुदर्शन और उस वक्त के जमीयत प्रमुख मौलाना अरसद मदनी के बीच इंडिया हैबिटेट सेंटर में एक कार्यक्रम के दौरान मुलाकात हुई थी.

भाषा के इनपुट के साथ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 5:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...