JNU: जिस हॉस्‍टल में रहता था नजीब, उसी में रहने वाले छात्र ने क्‍लासरूम में लगाई फांसी

स्‍कूल ऑफ लैंग्‍वेज के क्‍लासरूम में आत्‍महत्‍या करने वाला छात्र उसी हॉस्‍टल में रहता था, जिसमें नजीब अहमद रहा करता था.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 5:28 PM IST
JNU: जिस हॉस्‍टल में रहता था नजीब, उसी में रहने वाले छात्र ने क्‍लासरूम में लगाई फांसी
जेएनयू की प्रतिकात्मक चित्र
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 5:28 PM IST
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में एक छात्र ने क्लासरूम में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि छात्र MA इंगलिश (सेकेंड इयर) में था. मामले का पता चलते ही उसे तत्‍काल समीप के अस्‍पताल ले जाया गया  लेकिन हॉस्पिटल पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो चुकी थी. तकरीबन साढ़े ग्‍यारह बजे वसंत कुंज थाने को घटना की जानकारी दी गई थी. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. साथ ही मामले की जांच भी शुरू कर दी गई है. बताया जा रहा है कि छात्र ने आत्महत्या करने से पहले अपने एक प्रोफेसर को ईमेल कर इसकी जानकारी दी थी. प्रोफेसर ने ही मामले की जानकारी पुलिस को दी.  गौरलतब है कि छात्र उसी हॉस्‍टल (माही-मांडवी) में रहता था, जिसमें नजीब अहमद रहता था.

पहले भी एक छात्र ने की थी आत्महत्या
इससे पहले साल 2017 में भी जेएनयू के एक 27 वर्षीय छात्र रजनी कृष ने आत्महत्या कर ली थी. उसने दक्षिण दिल्ली के मुनिरका इलाके में डिप्रेशन के चलते कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी. पुलिस के मुताबिक कृष निजी कारणों को लेकर डिप्रेशन में था. बाद में कृष के दोस्तों ने उसका फेसबुक पोस्ट साझा किया, जिसमें उसने एमफिल और पीएचडी के दाखिले में कथित तौर पर भेदभाव का आरोप लगाया था. कृष ने फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि एमफिल और पीएचडी एडमिशन में कोई समानता नहीं है, मौखिक परीक्षा में भी कोई समानता नहीं है.

ये भी पढ़ें-  काराकाट लोकसभा सीट पर हर हाल में होगी मेरी जीत: उपेंद्र कुशवाहा

छिड़ गया था सोशल मीडिया पर विवाद
रजनी कृष की मौत की खबर सामने आते ही सोशल मीडिया पर विवाद छिड़ गया था. जेएनयू के वाइस चांसलर और यूनिवर्सिटी प्रशासन निशाने पर आ गए थे. जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष शेहला रशीद ने मौत के लिए जेएनयू प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया था. शेहला ने रजनी के सोशल मीडिया पर लिखी पोस्ट का सहारा लिया था. शेहला ने आरोप लगाया था कि जेएनयू प्रशासन ने रजनी के परिवार को कोई खबर भी नहीं दी. मालूम हो कि जेएनयू के छात्र नजीब अहमद महीनों से लापता हैं. उनके बारे में अभी तक कोई सूचना नहीं मिल सकी है.

ये भी पढ़ें-  मुंगेर: रंगदारी नहीं देने पर घर के सामने फौजी को मारी गोली
Loading...

ये भी पढ़ें-  सपना चौधरी ने यहां बनवाया टैटू, तस्वीरें देखकर चौंक जाएंगे आप

ये भी पढ़ें-  भाषण न दे पाने पर तेजप्रताप यादव का छलका दर्द, ट्वीट कर कहा-'आई मिस यू पापा'
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार