पॉन्‍टी चड्ढा के बेटे मॉन्‍टी को मिली जमानत, फ्लैटों में धोखाधड़ी का आरोप

शिकायतकर्ताओं ने एफआईआर में मॉन्‍टी चड्ढा पर करीब 100 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है. लोगों का कहना है कि 11 साल के बाद भी उन्‍हें प्लॉट नहीं मिले हैं. लिहाजा मॉन्‍टी पर कार्रवाई करने की मांग की गई है.

News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 11:52 AM IST
पॉन्‍टी चड्ढा के बेटे मॉन्‍टी को मिली जमानत, फ्लैटों में धोखाधड़ी का आरोप
पॉन्‍टी चड्ढा के बेटे मॉन्‍टी चड्ढा को साकेत कोर्ट ने जमानत दी.
News18Hindi
Updated: June 17, 2019, 11:52 AM IST
दिवंगत शराब कारोबारी पॉन्‍टी चड्ढा के बेटे मॉन्‍टी चड्ढा को दिल्ली के साकेत कोर्ट ने जमानत दे दी है. मॉन्‍टी को 50 हजार के मुचलके पर जमानत मिली है. उस पर फ्लैट खरीदारों के साथ धोखाधड़ी का आरोप है. मनप्रीत उर्फ मॉन्‍टी को दिल्ली पुलिस की इकॉनोमिक ऑफेंस विंग (EOW) ने बुधवार रात को गिरफ्तार किया था. इसके अगले दिन उसे कोर्ट में पेश किया गया था.

मॉन्‍टी के खिलाफ फ्लैट खरीदारों ने धोखाधड़ी और जालसाजी का आरोप लगाया था. शिकायतकर्ताओं ने मॉन्‍टी के खिलाफ शिकायत में कहा था कि इसने कई निर्माण कंपनियां बनाकर लोगों से पैसे ऐंठे. मॉन्‍टी की कंपनियों ने फ्लैट देने की स्‍कीम निकाली जिसमें गाजियाबाद और नोएडा में पीड़‍ितों को 8 महीने के अंदर फ्लैट आवंटन का वादा किया गया. लेकिन पूरे पैसे जमा करने के 11 साल बाद भी लोगों को न तो फ्लैट मिला और न ही उनका पैसा वापस किया गया.

100 करोड़ की धोखाधड़ी का आरोप
शिकायतकर्ताओं ने एफआईआर में मॉन्‍टी चड्ढा पर करीब 100 करोड़ रुपये से ज्‍यादा की धोखाधड़ी का आरोप लगाया है. लोगों का कहना है कि 11 साल के बाद भी उन्‍हें प्लॉट नहीं मिले हैं. लिहाजा मॉन्‍टी पर कार्रवाई करने की मांग की गई है. मॉन्‍टी ने महज 19 लाख रुपये में नोएडा में फ्लैट देने की घोषणा की थी.

पिता की मौत के बाद मॉन्‍टी बना चड्ढा साम्राज्‍य का मालिक

बता दें कि नवंबर 2012 में मॉन्टी के पिता शराब कारोबारी पॉन्‍टी चड्ढा और चाचा हरदीप की आपसी गोलीबारी में हुई मौत के बाद मॉन्‍टी चड्ढा के कंधों पर शराब के बड़े कारोबार को संभालने की जिम्‍मेदारी आ गई थी. मॉन्‍टी अपने पिता की तरह ही स्‍कूल ड्रॉप आउट है. हालांकि पिता की मौत के बाद उसने शराब कारोबार की देखभाल शुरू की. इससे पहले मॉन्‍टी नोएडा और गाजियाबाद में दो बड़ी रियल एस्‍टेट कंपनियों को संभाल रहा था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 17, 2019, 11:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...