दिल्ली: AIIMS में अब तक की सबसे भीषण आग, 5 घंटे में पाया गया काबू

News18Hindi
Updated: August 18, 2019, 9:23 AM IST
दिल्ली: AIIMS में अब तक की सबसे भीषण आग, 5 घंटे में पाया गया काबू
एम्स में अबकर की सबसे भीषण आग

दिल्ली (Delhi) स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ने कंट्रोल रूम का नंबर 011-26593308 भी जारी किया है. इस नंबर पर कॉल करके एबी विंग में भर्ती मरीजों से जुड़ी जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2019, 9:23 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली (New Delhi) स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के टीचिंग ब्लॉक में लगी आग पर फायर ब्रिगेड की 39 गाड़ियों ने करीब 5 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार काबू पा लिया गया. यह आग शाम 5 बजे के करीब माइक्रोबायोलॉजी विभाग से शुरू हुई और देखते ही देखते टीचिंग ब्लॉक की पहली और दूसरी मंजिल को अपनी चपेट में ले लिया. आग लगने के बाद टीचिंग ब्लॉक को बंद कर दिया गया. डायरेक्टर फायर ने बताया कि एसी कम्प्रेसर में ब्लास्ट के बाद ये आग फैली.

इस आग के बाद इमरजेंसी वॉर्ड में धुआ भर गया, इमारत से निकलते धुएं का गुबार देख मरीजों, उनके तीमारदारों और स्टाफ में अफरातफरी मच गई. इसके बाद यहां के मरीजों को दूसरे वॉर्ड में शिफ्ट करना पड़ा.

दिल्ली अग्निशमन सेवा के निदेशक विपिन केंतल बताया कि गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी इकाई में धुंआ भरने के बाद 32 मरीजों को सुरक्षित निकाला गया. बचाए गए मरीजों में कुछ जीवन रक्षक प्रणाली पर थे.

एम्स के सूत्रों ने बताया कि आपात सेवा में नए मरीजों की भर्ती नहीं की जा रही है और उन्हें नजदीकी सफदरजंग अस्पताल रेफर किया जा रहा है. एम्स के मीडिया एवं प्रोटोकॉल प्रभाग की अध्यक्ष आरती विज ने कहा, 'दिल्ली अग्निशमन सेवा और एम्स का दमकल विभाग ने आग पर काबू पा लिया है और अब भी काम जारी है. इसमें किसी की जान की हानि नहीं हुई है. मरीजों को एहतियातन नजदीकी एबी विंग से अस्पताल के अन्य इमारतों में स्थानांतरित किया गया है.'

एम्स की ओर से कंट्रोल रूम का एक नंबर भी जारी किया गया है. इस नंबर 011-26593308 पर कॉल करके एबी विंग में भर्ती मरीजों से संबंधित जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

लगभग शाम 5 बजे लगी आग
सूत्रों ने कहा कि आग लैब मेडिसिन विभाग के इमरजेंसी लैब तक फैल गई थी जो माइक्रोलॉजी विभाग की विषाणु विज्ञान इकाई के ठीक बगल में है. यहां पिछले कुछ समय से बिजली का काम चल रहा था और केबल एवं तार वहां रखी हुईं थी. उन्होंने आशंका जताई कि बड़े पैमाने पर मरीजों के रिकॉर्ड नष्ट हो गए हैं, क्योंकि इकाई पूरी तरह से नष्ट हो गई है.
Loading...

पांचवीं मंजिल पर स्थित सर्जरी और यूरोलॉजी विभाग का कार्यालय, कुछ शिक्षकों के कक्ष और कार्यालय भी प्रभावित हुए हैं. इस साल के शुरुआत में एम्स के ट्रॉमा सेंटर में आग लगी थी.

गार्ड ने बताया आंखों देखा हाल
मौके पर मौजूद एम्स के गार्ड ने बताया कि उसने शनिवार शाम को सबसे पहले टीचिंग ब्लॉक में आग को देखा. जिसके बाद उसने कंट्रोल रूम को सूचना दी. खबर मिलते ही कंट्रोल रूम ने आग पर काबू पाने की प्रक्रिया शुरू कर दी. गार्ड ने बताया कि एक बजे डिपार्टमेंट बंद हो जाता है इसलिए ज्यादा स्टूडेंट वहां मौजूद नहीं थे जिससे किसी के घायल होने की सूचना नहीं है. मौके पर दो एनडीआरएफ की टीमें भी पहुंची जिनकी मदद से हालात पर काबू पाया जा सका.



केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने किया ट्वीट
आग लगने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट किया कि- दिल्ली AIIMS में आग लगने की घटना दु:खद है लेकिन संतोष की बात है कि अस्पताल प्रशासन की सतर्कता से समय रहते आग पर काबू पा लिया गया. पूरे मामले को मैं खुद व्यक्तिगत तौर पर मॉनिटर कर रहा हूं. मरीजों को ऐतिहातन दूसरे वार्डों में शिफ्ट किया गया है. इसके साथ ही उन्होंने जानकारी के लिए एक हेल्पलाइन नंबर भी शेयर किया.



धुंए से भर गया इमरजेंसी वार्ड
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली कार्डियो-न्यूरो सेंटर के आईसीयू में भर्ती हैं, जो परिसर में एक अलग इमारत में रखे गए हैं. एम्स के जनरल सेकेट्री राजीव रंजन ने न्यूज18 को बताया कि 'अरुण जेटली जिस ब्लॉक में भर्ती हैं, वह किसी भी तरह से प्रभावित नहीं हुआ है'.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 17, 2019, 8:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...