एर्नाकुलम लोकसभा सीट: कांग्रेस के किले में क्या बीजेपी के कन्नाथनन लगा सकेंगे सेंध

इस बार कुल 13 प्रत्याशी एर्नाकुलम से अपना भाग्य आजमा रहे हैं. बीजेपी ने मौजूदा केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्नाथनन को यहां से उम्मीदवार बनाया है जबकि कांग्रेस ने हीबी इडेन, माकपा ने पी. राजीव, बहुजन समाज पार्टी ने पीए नियामाथुल्ला को टिकट दिया है.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 10:01 AM IST
एर्नाकुलम लोकसभा सीट: कांग्रेस के किले में क्या बीजेपी के कन्नाथनन लगा सकेंगे सेंध
एर्नाकुलम को कांग्रेस का किला माना जाता है. कांग्रेस इस सीट पर 11 बार जीत चुकी है.
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 10:01 AM IST
केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम से 220 किमी दूर एर्नाकुलम को बिज़नेस कैपिटल माना जाता है तो साथ ही ये कमर्शियल हब भी है. केरल का इकॉनॉमिक मॉडल व्यापार पर आधारित है. यहां दुनियाभर की बड़ी कंपनियों ने निवेश किया है. यहां आईटी पार्क की भरमार है. जहां ये एजुकेशन हब होने की वजह से मशहूर है तो वहीं टूरिज़्म के लिहाज से भी केरल लोगों की विशेष पसंद है. लाखों देशी-विदेशी पर्यटक यहां आते हैं क्योंकि यहां की प्राचीन, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहरें आज भी लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करती हैं. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक शंकराचार्य की ये जन्मभूमि भी है.

सियासी तौर पर केरल में दो विचारधाराओं की अबतक लड़ाई देखी गई है. कांग्रेस और वामपंथी दलों का केरल में असर देखा गया है लेकिन खासतौर पर एर्नाकुलम को कांग्रेस का किला माना जाता है. कांग्रेस इस सीट पर 11 बार जीत चुकी है.



केरल में लोकसभा की 20 सीटों में से एक एर्नाकुलम साल 1957 में वजूद में आई थी. इसे त्रावणकोर-कोचीन संसदीय क्षेत्र से अलग कर बनाया गया था. कांग्रेस ने यहां पर एकछत्र राज किया. कांग्रेस नेता केवी थॉमस एर्नाकुलम से कई बार सांसद रह चुके हैं. साल 2009 और 2014 में भी उन्होंने अपनी परंपरागत सीट एर्नाकुलम पर जीत हासिल की. लेकिन इस बार कांग्रेस ने थॉमस को टिकट नहीं दिया है.

इस लोकसभा सीट पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों में कड़ी टक्‍कर है.
इस लोकसभा सीट पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों में कड़ी टक्‍कर है.


कौन हैं प्रत्याशी?
इस बार कुल 13 प्रत्याशी एर्नाकुलम से अपना भाग्य आजमा रहे हैं.
बीजेपी ने मौजूदा केंद्रीय मंत्री अल्फोंस कन्नाथनन को यहां से उम्मीदवार बनाया है जबकि कांग्रेस ने हीबी इडेन, माकपा ने पी. राजीव, बहुजन समाज पार्टी ने पीए नियामाथुल्ला, सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ने वीएम फैजल और समाजवादी फॉरवर्ड ब्लॉक ने अब्दुल खादेर वाझाक्काला को टिकट दिया है.

एर्नाकुलम लोकसभा के तहत विधानसभा की 7 सीटें हैं.
Loading...

केरल में एर्नाकुलम पहला साक्षर जिला है और इसे एजेकुशन हब माना जाता है. एर्नाकुलम को अरब सागर की महारानी के नाम से भी जानते हैं. तटीय इलाका होने की वजह से यहां के लोगों का मुख्य तौर पर पेशा मछली पालन है. इसके अलावा अपनी प्राकृतिक सुंदरता की वजह से एर्नाकुलम पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है.

केरल में एर्नाकुलम पहला साक्षर जिला है और इसे एजेकुशन हब माना जाता है. 23 मई को चुनावी नतीजे आने वाले हैं.
केरल में एर्नाकुलम पहला साक्षर जिला है और इसे एजेकुशन हब माना जाता है. 23 मई को चुनावी नतीजे आने वाले हैं.


साल 2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की कुल आबादी 16 लाख 54 हज़ार 189 है. यहां कुल मतदाता 11 लाख 56 हज़ार 492 हैं जिनमें पुरुष मतदाता 5 लाख 65 हज़ार 809 हैं जबकि महिला मतदाता 5 लाख 90 हज़ार 658 हैं. पिछले लोकसभा चुनाव में यहां 76 प्रतिशत वोटिंग हुई थी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार