चांदनी चौक के इस बूथ पर 19 मई को फिर होगा मतदान

चुनाव आयोग ने गुरुवार को पुनर्मतदान का आदेश दिया है. इससे पहले दिल्‍ली के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी ने आयोग को बूथ नंबर 32 की रिपोर्टर देकर पुनर्मतदान के लिए कहा था.

News18.com
Updated: May 17, 2019, 4:49 PM IST
News18.com
Updated: May 17, 2019, 4:49 PM IST
चुनाव आयोग ने चांदनी चौक के बूथ नंबर 32 के मतदान को निरस्‍त कर दिया है. इस बूथ पर 19 मई को दोबारा मतदान होगा. इस पोलिंग बूथ पर आयोग के अधिकारी अभ्‍यास मतदान के दौरान डाले गए 'परीक्षण वोट' को हटाना भूल गए थे. इसलिए यहां पर दोबारा मतदान कराया जाएगा. अब लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के साथ यहां पर भी वोटिंग होगी.

चुनाव आयोग ने गुरुवार को पुनर्मतदान का आदेश दिया है. इससे पहले दिल्‍ली के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी ने आयोग को बूथ नंबर 32 की रिपोर्टर देकर पुनर्मतदान के लिए कहा था. इस बूथ पर रविवार को सुबह 7:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक मतदान कराया जाएगा.



बता दें कि दिल्‍ली की सात लोकसभा सीटों में से चांदनी चौक के इस बूथ पर पुनर्मतदान की संभावना जताई गई थी. छठे चरण के मतदान के दौरान चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र में 62.69 प्रतिशत मतदान हुआ था. यहां पर इस बार बीजेपी के प्रत्‍याशी हर्षवर्धन सिंह का कांग्रेस के जेपी अग्रवाल और आम आदमी पार्टी के पंकज गुप्‍ता से मुकाबला है. इससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में हर्षवर्धन यहां से विजयी हुए थे.

फरीदाबाद के इस बूथ पर भी दोबारा होगा मतदान

वहीं फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र के पलवल जिले के गांव असावटी में पुनर्मतदान होगा. असावती गांव में 13 मई को बूथ कैप्चरिंग का एक वीडियो वायरल हुआ था. इस वीडियो में एक पोलिंग एजेंट महिलाओं के जबरन वोट डाल रहा था. अब 19 मई को बूथ नम्बर 88 पर दोबारा मतदान होगा. वहीं सरकार ने कार्रवाई करते हुए फरीदाबाद के उपायुक्त को हटा दिया है. उनकी जगह अशोक गर्ग को फरीदाबाद का नए उपायुक्त होंगे. कांग्रेश प्रत्याशी अवतार भडाना ने इस मामले में चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करवाई थी.

ये भी पढ़ें: भाषण न दे पाने पर तेजप्रताप यादव का छलका दर्द, ट्वीट कर कहा-'आई मिस यू पापा'

माइक्रो ऑब्जर्वर सोनल गुलाटी पर ड्यूटी में लापरवाही के चलते 3 साल तक किसी भी चुनावी ड्यूटी पर लगाई रोग लगा दी गई है. बता दें कि विनोद ढांडा ने ट्विटर अकाउंट पर इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है कि ये वीडियो किसी ने भेजा है और हरियाणा के फरीदाबाद का होने का दावा किया है. इससे क्या फर्क पड़ता है कि ये कब का और कहां का है? लेकिन हैरान और दुखी हूं ये देखकर कि सिस्टम कई बार कितना नपुंसक हो जाता है? ये नीच हरकत है.
Loading...

ये भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में बीजेपी नेताओं के काफिले पर हमला, गाड़ियों पर बरसाए गए पत्थर

वहीं इस वीडियो के वायरल होते ही चुनाव आयोग ने फरीदाबाद निर्वाचन आयोग को युवक के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करने के आदेश दिए. फरीदाबाद निर्वाचन विभाग ने चुनाव आयोग के आदेश के बाद तुरंत कार्रवाई की औऱ आरोपी युवक को सलाखों के पीछे पहुंचाया.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...