वलसाड लोकसभा सीट: इस बार भी यही सीट तय करेगी कि केंद्र में किसकी बनेगी सरकार?

इस बार लोकसभा सीट के लिए बीजेपी ने केसी पटेल को खड़ा किया है. वो लगातार तीसरी बार इस सीट से उम्मीदवार हैं. कांग्रेस ने जितूभाई चौधरी पर दांव लगाया है. बहुजन समाज पार्टी के किशोरभाई रमणभाई पटेल इसे त्रिकोणीय मुकाबला बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 11:50 AM IST
वलसाड लोकसभा सीट: इस बार भी यही सीट तय करेगी कि केंद्र में किसकी बनेगी सरकार?
पिछले कुछ साल से वलसाड लोकसभा सीट केंद्र में किसकी सत्‍ता आएगी यह तय करती आ रही है.
News18Hindi
Updated: May 17, 2019, 11:50 AM IST
वलसाड सीट को काफी भाग्यशाली या पवित्र माना जाता है. कहा जाता है कि यहां से सत्ता का रास्ता तय होता है. दिलचस्प है कि राहुल गांधी ने गुजरात में चुनावी अभियान की शुरुआत इसी सीट से की थी. अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित इस सीट पर जिस पार्टी को जीत मिलती है, वही केंद्र में सरकार बनाती है. पिछले कई चुनावों में ऐसा देखने को मिला है. पहले यह सीट बुलसर के नाम से जानी जाती थी. अनुसूचित जनजाति के लिए सुरक्षित होने से ही समझ आता है कि यहां आदिवासी और अनुसूचित जनजाति के लोग बड़ी तादाद में रहते हैं.

यहां पर 74.09 प्रतिशत मतदान हुआ है. 2014 में यह 74.88 था. कांग्रेस को लगता है कि उनके प्रभाव वाले इलाकों मे ज्यादा वोटिंग होना उन्हें फायदे की हालत में पहुंचा रहा है. दूसरी तरफ बीजेपी यहां पर शहरी क्षेत्रों में वोटर्स के रवैये पर नजर लगाए बैठी है. पोलिंग के ठीक बाद मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा था कि हम यहां से सभी 26 सीटें एक बार फिर जीतने वाले हैं.

कौन हैं प्रत्याशी?
इस बार लोकसभा सीट के लिए बीजेपी ने केसी पटेल को खड़ा किया है. वो लगातार तीसरी बार इस सीट से उम्मीदवार हैं. कांग्रेस ने जितूभाई चौधरी पर दांव लगाया है. बहुजन समाज पार्टी के किशोरभाई रमणभाई पटेल इसे त्रिकोणीय मुकाबला बनाने की कोशिश कर रहे हैं.

वलसाड संसदीय सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ा मुकाबला है.
वलसाड संसदीय सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के बीच कड़ा मुकाबला है.


क्या हुआ था पिछली बार
1957 से 1967 के लोकसभा चुनाव तक यहां लगातार कांग्रेस को जीत मिलती रही. 1980 और 1984 में कांग्रेस ने बाजी मारी. 1989 में जनता दल के अरुण भाई पटेल ने चुनाव जीता. इसके बाद 1991 में कांग्रेस में जीती.
Loading...

वलसाड लोकसभा में सात विधानसभा सीटें आती हैं. बीजेपी ने इनमें से चार सीटें जीती थीं. कांग्रेस को तीन सीटों पर जीत मिली थी. 1996, 1998 और 1999 में बीजेपी के टिकट पर मणिभाई चौधरी लगातार सांसद निर्वाचित हुए. इन जीत के बाद केंद्र में भी बीजेपी सरकार बनी. 2004 व 2009 में कांग्रेस के किशन भाई पटेल लगातार दो बार जीते. दोनों बार कांग्रेस सरकार केंद्र में आई. जबकि 2014 की मोदी लहर में वह नहीं जीत सके और बीजेपी के टिकट पर लड़े केसी पटेल ने उन्हें शिकस्त दी. इस बार भी बीजेपी के उम्मीदवार की जीत के बाद उनकी पार्टी ही केंद्र में आई. इसीलिए इस सीट पर ज्यादा नजर रहती है.

पिछली बार मोदी लहर में बीजेपी ने यह सीट जीती थी.
पिछली बार मोदी लहर में बीजेपी ने यह सीट जीती थी.


सामाजिक समीकरण
पिछले यानी 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के केसी पटेल को 6,17,772 बोट मिले थे. कांग्रेस के किशनभाई पटेल को 4,09,768 वोट मिले थे. केसी पटेल ने 2,08, 004 वोटों से जीत दर्ज की थी. पिछली बार जीते और इस बार भी उम्मीदवार 69 साल के केसी पटेल पेशे से डॉक्टर हैं. वह 1995 में पहली बार विधायक बने थे. इस दौरान वह गुजरात सरकार में मंत्री भी रहे. इसके बाद वह 2014 में सांसद बने.

2011 की जनगणना के मुताबिक, वलसाड लोकसभा क्षेत्र की आबादी 23,00,449 है. अनुसूचित जाति की आबादी 1.84 प्रतिशत और 62.69 प्रतिशत अनुसूचित जनजाति की है. 2018 की वोटर लिस्ट के मुताबिक, यहां 16,24,322 वोटर हैं. करीब 6 फीसदी यहां मुस्लिम आबादी है. इस लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत डांग, वलसाड, उमरगांव, वांसडा, पर्डी, धरमपुर, कपराडा विधानसभा सीट आती हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में धरमपुर, वलसाड, पर्डी और उमरगांव से बीजेपी जीती थी. कपराडा, डांग और वांसडा से कांग्रेस को जीत मिली थी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार