होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस की राह कैसे मुश्किल करेगा शशि थरूर का ‘हिंदू पाकिस्तान’!

लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस की राह कैसे मुश्किल करेगा शशि थरूर का ‘हिंदू पाकिस्तान’!

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

'हिंदुत्व और सेकुलरिज्म का घालमेल कांग्रेस पहले भी कर चुकी है. लेकिन मंडल-कमंडल की राजनीति शुरू होने के बाद उसका खेल खर ...अधिक पढ़ें

    मशहूर व्यंग्यकार शरद जोशी ने कांग्रेस के बारे में लिखा था, ‘इतिहास साक्षी है कांग्रेस ने हमेशा संतुलन की नीति को बनाए रखा. जो कहा वो किया नहीं, जो किया वो बताया नहीं. हिंदी की हिमायती रही, अंग्रेजी को चालू रखा. समाजवाद की समर्थक रही, पर पूंजीवाद को शिकायत का मौका नहीं दिया...’ राजनीति में हिंदू-मुस्लिम दोनों को साधे रखने के लिए इन दिनों भी वह संतुलन की इसी नीति पर चलती नजर आ रही है.

    शशि थरूर के 'हिन्दू पाकिस्तान' वाले बयान से कांग्रेस पर सवाल उठ रहे हैं. पूछा जा रहा है कि क्या थरूर के बयान पर कार्रवाई नहीं करने के पीछे मुस्लिमों को वोट के लिए खुश करने की कोई रणनीति है? उधर, थरूर अपने बयान से मुकरे नहीं हैं. उनके मुताबिक उन्होंने बीजेपी और आरएसएस के बारे में जो कहा था, उस पर कायम हैं. वो कह रहे हैं कि ‘मैंने पहले भी कहा है और फिर कहूंगा. पाकिस्तान की स्थापना धर्म के वर्चस्व वाले देश के तौर पर हुई जो अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव करता है और उनको समान अवसरों से उपेक्षित रखता है.’

     शशि थरूर, Shashi Tharoor, बीजेपी, BJP, 2019 का लोकसभा चुनाव, 2019 Lok Sabha Elections,हिंदू पाकिस्तान, Hindu Pakistan, संबित पात्रा, sambit patra,राहुल गांधी, rahul gandhi, कांग्रेस, congress, मणिशंकर अय्यर, mani shankar aiyar, दिग्विजय सिंह, digvijay singh, हिंदू आतंकवाद, hindu terrorism, शशि थरूर के विवादास्पद बयान, controversial statements of shashi tharoor         शशि थरूर (फाइल फोटो)

    हालांकि, कांग्रेस ने शशि थरूर के ‘हिंदू पाकिस्तान’ वाले बयान को खारिज करते हुए कहा कि भारत का लोकतंत्र और इसके मूल्य इतने मजबूत हैं कि भारत कभी पाकिस्तान बनने की स्थिति में नहीं जा सकता. लेकिन पार्टी थरूर पर कार्रवाई से बचती नजर आ रही है. थरूर ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष हैं.

    बुधवार को राहुल गांधी के मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाकात के दौरान मुसलमानों से दूर होने की गलती मानना और उसके बाद थरूर का बयान क्या सिर्फ संयोग है? या फिर मंदिर-मठों में घूमने, खुद को शिवभक्त और जनेऊधारी ब्राह्मण कहने के बाद कांग्रेस इस बहाने 2019 में मोदी को चुनौती देने के लिए सॉफ्ट हिंदुत्व और सेकुलरिज्म का कॉकटेल बना रही है?  सियासी जानकारों का कहना है कि ये पार्टी की 2019 लोकसभा चुनाव से पहले मुस्लिम समाज को संदेश देने की कोशिश भी हो सकती है.

    राहुल गांधी गुजरात और कर्नाटक चुनाव में मंदिरों और मठों में भटके हैं. खुद को कभी शिवभक्त और कभी जनेऊधारी ब्राह्मण बताया है. इससे कांग्रेस पर सॉफ्ट हिंदुत्व की तरफ झुकने की इमेज बन रही है. ऐसे में पार्टी यह बताना चाहती है कि मुस्लिम उसके एजेंडे में हैं और वो किसी भी धर्म विशेष की तरफ झुकी नहीं है.

     शशि थरूर, Shashi Tharoor, बीजेपी, BJP, 2019 का लोकसभा चुनाव, 2019 Lok Sabha Elections,हिंदू पाकिस्तान, Hindu Pakistan, संबित पात्रा, sambit patra,राहुल गांधी, rahul gandhi, कांग्रेस, congress, मणिशंकर अय्यर, mani shankar aiyar, दिग्विजय सिंह, digvijay singh, हिंदू आतंकवाद, hindu terrorism, शशि थरूर के विवादास्पद बयान, controversial statements of shashi tharoor         मणिशंकर अय्यर के विवादित बोल

    फिलहाल तो बीजेपी को बैठे बिठाए कांग्रेस को राष्ट्रवाद के मसले पर घेरने का एक मौका मिल गया है. इस प्रकरण से बीजेपी को कितना फायदा होगा और कांग्रेस को नुकसान?  अगर कांग्रेस को डैमेज होता है तो इसके लिए बड़ा जिम्मेदार राहुल गांधी को माना जाएगा या फिर थरूर को?

    राजनीतिक विश्लेषक आलोक भदौरिया का मानना है “कांग्रेस कभी सॉफ्ट हिंदुत्व की तरफ जाती है और कभी सेक्युलर बनने की कोशिश करती है. यह रणनीति नहीं बल्कि उसका भ्रम और कन्फ्यूजन है. इससे मतदाता भ्रमित होगा और नुकसान कांग्रेस को होगा. उसे एक स्टैंड पर कायम रहना होगा. मणिशंकर अय्यर का गुजरात चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री मोदी पर की गई टिप्पणी और अब थरूर के बयान को मैं कांग्रेस का सेल्फ गोल कहूंगा. यह बयान ऐसे समय आया है जब मोदी और अमित शाह दोनों लोकसभा चुनाव के लिए मैदान में आ चुके हैं. वो इसे भुनाने से परहेज नहीं करेंगे.”

    दिल्ली यूनिवर्सिटी में राजनीति विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर सुबोध कुमार का मानना है "राहुल गांधी जो सॉफ्ट हिंदुत्व और सेकुलरिज्म का घालमेल करने की कोशिश कर रहे हैं उस नीति पर कांग्रेस पहले ही चल चुकी है. लेकिन मंडल-कमंडल की राजनीति शुरू होने के बाद कांग्रेस का खेल खराब हो गया. 'मंडल' चला गया क्षेत्रीय पार्टियों में और 'कमंडल' चला गया बीजेपी में."

     शशि थरूर, Shashi Tharoor, बीजेपी, BJP, 2019 का लोकसभा चुनाव, 2019 Lok Sabha Elections,हिंदू पाकिस्तान, Hindu Pakistan, संबित पात्रा, sambit patra,राहुल गांधी, rahul gandhi, कांग्रेस, congress, मणिशंकर अय्यर, mani shankar aiyar, दिग्विजय सिंह, digvijay singh, हिंदू आतंकवाद, hindu terrorism, शशि थरूर के विवादास्पद बयान, controversial statements of shashi tharoor        दिग्विजय सिंह के बयान कांग्रेस को असहज करते रहे हैं

    कुमार के मुताबिक "हिंदुत्व का वोटबैंक बीजेपी के साथ है. मुस्लिम और दलित भी किसी न किसी अंब्रेला के नीचे हैं. अभी बीजेपी ने कोई ऐसी गलती नहीं की है कि ब्राह्मणों का झुकाव कांग्रेस की तरफ हो जाए और सपा-बसपा जैसी पार्टियों ने कोई गलती नहीं की है कि दलित और मुस्लिम कांग्रेस की तरफ आ जाएं. ऐसे में मुझे नहीं लगता कि अब कांग्रेस की संतुलन बनाने वाली कोई कोशिश सफल होगी."

    बयानों में उलझती कांग्रेस
    -साल 2007 की बात है. गुजरात के नवसारी में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मोदी के लिए 'मौत का सौदागर' शब्द का इस्तेमाल किया था. इसके बाद से कांग्रेस वहां उबर नहीं पाई है. इससे कांग्रेसियों ने कोई सबक नहीं लिया.

    -मणिशंकर अय्यर ने 2014 में मोदी को 'चायवाला' कहा था. जनता ने मोदी को प्रधानमंत्री बना दिया.

    -दिसंबर 2017 में अय्यर ने ही गुजरात चुनाव के दौरान पीएम मोदी को 'नीच किस्म का आदमी'  बोल दिया. इस बयान को बीजेपी ने खूब भुनाया. मोदी ने अपनी सामान्य पृष्ठभूमि का जिक्र करते हुए प्रचार में इसका कई बार जिक्र किया और कांग्रेस पर निशाना साधा. इसे गुजरात का अपमान और गुजरात की अस्मिता से जोड़कर एक भावनात्मक मुद्दा बना दिया. कांग्रेस ने अय्यर को पार्टी से निकाला जरूर लेकिन डैमेज कंट्रोल नहीं कर पाई.

    -रामसेतु के मसले पर वर्ष 2007 में आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (एएसआई) ने अपने हलफनामे में रामायण के पौराणिक चरित्रों के अस्तित्व को ही नकार दिया था. कहा था कि रामसेतु के मानव निर्मित या प्राकृतिक बनावट तय करने के लिए कोई वैज्ञानिक विधि नहीं है. जिसके बाद कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल उठाए गए थे. धार्मिक और राजनीतिक विवाद के बढ़ने के चलते यूपीए-2 सरकार को 29 फरवरी 2008 को सुप्रीम कोर्ट में नया हलफनामा पेश करना पड़ा था.

    -कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने ‘हिंदू आतंकवाद’ और कश्मीर मसले पर अपनी पार्टी को कई बार असहज किया है. इसी साल जनवरी में सिंह ने झाबुआ में कहा 'जितने भी हिंदू धर्म वाले आतंकवादी पकड़े गए हैं, सब संघ के कार्यकर्ता रहे हैं. नाथू राम गोडसे, जिसने महात्मा गांधी को मारा, वह भी आरएसएस का हिस्सा था.’ उन्होंने कहा कि हिंदू आतंकवादी संघ से आते हैं क्योंकि संघ की विचारधारा नफरत फैलाने वाली है.

    हालांकि उन्होंने हिंदू धर्म में काफी पवित्र माने जाने वाली नर्मदा नदी की यात्रा की. इस दौरान उन्होंने कहा कि कांग्रेस और मैं न कभी हिंदू विरोधी थे न आज हूं. मैं सनातनी हूं लेकिन धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों का सख्त विरोधी हूं.

     शशि थरूर, Shashi Tharoor, बीजेपी, BJP, 2019 का लोकसभा चुनाव, 2019 Lok Sabha Elections,हिंदू पाकिस्तान, Hindu Pakistan, संबित पात्रा, sambit patra,राहुल गांधी, rahul gandhi, कांग्रेस, congress, मणिशंकर अय्यर, mani shankar aiyar, दिग्विजय सिंह, digvijay singh, हिंदू आतंकवाद, hindu terrorism, शशि थरूर के विवादास्पद बयान, controversial statements of shashi tharoor        कांग्रेस नेताओं के विवादित बयानों से किसे मिलता है फायदा?

    - कश्मीर की स्वायत्तता के समर्थन में पी. चिदंबरम का बयान हो या फिर सैफुद्दीन सोज का, कांग्रेस बैकफुट पर आई है. हालांकि पार्टी इन नेताओं के बयानों से खुद को अलग करते हुए यह कहती रही है कि 'किसी व्यक्ति की राय जरूरी नहीं कि वह पार्टी की राय हो.' लेकिन विरोधी पार्टियों ने इसका राजनीतिक लाभ उठाने की कोशिश की है.

    Tags: BJP, Congress, SHASHI THAROOR

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें