अब इस यूनिवर्सिटी में मिलेगी इस्लामिक बैंकिंग एण्ड फाइनेंस में MBA की डिग्री

जल्द ही ये कोर्स शुरू हो जाएगा. एडमिशन कमेटी ने दोनो पाठ्यक्रमों को शुरू करने की हरी झंडी दे दी है. कुलपति और एकेडमिक काउंसिल की मुहर लगना बाकी रह गई है.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:06 PM IST
अब इस यूनिवर्सिटी में मिलेगी इस्लामिक बैंकिंग एण्ड फाइनेंस में MBA की डिग्री
फाइल फोटो- एएमयू.
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:06 PM IST
अगर आप मास्टर इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए) करने की सोच रहे हैं तो देश की एक केन्द्रीय यूनिवर्सिटी इसका एक खास कोर्स लेकर आई है. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) ने एमबीए में इस्लामिक बैंकिंग एण्ड फाइनेंस का कोर्स तैयार कर लिया है. इसके लिए यूनिवर्सिटी में 20 सीट रखी गई हैं. जल्द ही सभी सीट पर प्रवेश के लिए परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अगर आप ये सोच रहे हैं कि इस्लामिक बैंकिंग एण्ड फाइनेंस में एमबीए करने के बाद देश में तो इससे नौकरी मिलेगी नहीं. इसके लिए तो फिर अरब देशों में ही जाना पड़ेगा तो आपका ये ख्याल गलत है. देश में भी इस्लामिक बैंक की शुरुआत हो चुकी है. बेशक अभी इस तरह के बैंक की संख्या कम है, लेकिन आगे चलकर ये संख्या बढ़ भी सकती है.

इसी के साथ एएमयू एमबीए इन हॉस्पिटैलिटी एडमिनिस्ट्रेशन भी शुरू करने जा रहा है. एएमयू के पीआरओ उमर पीरजादा ने बताया, “ जल्द ही ये कोर्स शुरू हो जाएगा. एडमिशन कमेटी ने दोनों पाठ्यक्रमों को शुरू करने की हरी झंडी दे दी है. कुलपति और एकेडमिक काउंसिल द्वारा मुहर लगना बाकी रह गई है. पीजी डिप्लोमा इन इस्लामिक बैंकिंग एंड फाइनेंस को एमबीए पाठ्यक्रम में परिवर्तित किया गया है. मौजूदा ट्रेंड को देखते हुए दोनो पाठ्यक्रमों को बेहद महत्वपूर्ण माना जा रहा है.”

अब 5 पाठ्यक्रमों की काउंसलिंग ऑनलाइन

एएमयू काउंसलिंग की प्रक्रिया में एक नया बदलाव होने जा रहा है. पांच पाठ्यक्रमों (बीटेक, बीएलएलबी, एमबीए, बीएड एवं एमएफसी) की काउंसलिंग के लिए अब छात्रों को एएमयू में नहीं आना होगा. अब इन पाठ्यक्रमों की काउंसलिंग ऑनलाइन होगी.

ये भी पढ़ें- ये हैं मुसलमानों की सवर्ण जातियां, जिन्हें मिलेगा आरक्षण का लाभ

एमबीए टेस्ट अब 2 घंटे का
Loading...

मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए), मास्टर ऑफ फाइनेंस एंड कंट्रोल (एमएफसी), मास्टर ऑफ ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट (एमएचआरएम) एवं मास्टर ऑफ इंश्योरेंस एंड रिस्क मैनेजमेंट (एमआईआरएम) पाठ्यक्रमों की प्रवेश परीक्षा अब 3 के बदले 2 घंटे में पूरी होगी. पूछे जाने वाले प्रश्नों की संख्या भी घटा दी गई है. अब 200 के बदले सिर्फ 100 सवाल पूछे जाएंगे.

ये भी पढ़ें- जानें कौन है ये रिटायर्ड अफसर जिनकी मदद से हर साल 20 से 25 मुस्लिम युवा बनते हैं IAS-IPS
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर