पूर्व प्रधानमंत्रियों का संग्रहालय बनवाकर खास संदेश दे रहे हैं पीएम मोदी

खचाखच भरे सभागार में पीएम ने ऐलान कर दिया कि जनता के आशीर्वाद से मैंने ठान लिया है कि सभी पूर्व पीएम का एक म्यूजियम बनेगा.

अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 4:18 PM IST
पूर्व प्रधानमंत्रियों का संग्रहालय बनवाकर खास संदेश दे रहे हैं पीएम मोदी
राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश की पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर लिखी पुस्तक के विमोचन के मौके पर पीएम मोदी.
अमिताभ सिन्हा
अमिताभ सिन्हा | News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 4:18 PM IST
मौका था राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश की पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर पर लिखी पुस्तक के विमोचन का. पीएम मोदी और उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू इस मौके पर मौजूद थे. चंद्रशेखर की मृत्यु के 12 साल बाद उन पर लिखी पुस्तक का विमोचन करते पीएम मोदी तो मानों पुरानी यादों में ही खो गए.

बिना नाम लिए कांग्रेस पर साधा निशाना
बिना कांग्रेस पर निशाना साधे पीएम मोदी ने कहा कि कई पूर्व पीएम को तो सोची-समझी रणनीति के तहत भुला दिया गया. मोदी ने कहा कि यहां तक की पटेल, शास्त्री की क्या छवि बनाई! पीएम ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री अगर जीवित लौट आते तो पता नहीं क्या-क्या लिखा जाता? कोई पीएम मीटिंग में सोता है, कोई बैक ट्रैक करता है. ऐसी ही छवि पहले के प्रधानमंत्रियों की बनाई गई.

खचाखच भरे सभागार में पीएम ने ऐलान कर दिया कि जनता के आशीर्वाद से मैंने ठान लिया है. सभी पूर्व पीएम का एक म्यूजियम बनेगा. पीएम ने पूर्व प्रधानमंत्रियों के सभी परिवारजनों से अपील की कि उनकी चीजें जमा करें. बिना किसी पूर्वाग्रह के सबका म्यूजियम बनेगा.

पूर्व पीएम चंद्रशेखर को किया याद
पीएम मोदी ने कहा कि आज के राजनीतिक परिदृश्य में विदाई के 2 साल बाद भी यादों में जीवित रहना मुश्किल होता है. यादें भी खो जाती हैं लेकिन 12 साल बाद चंद्रशेखर जी आज भी यादों में हैं. पीएम ने हरिवंश जी की चुटकी लेते हुए कहा की देश का वातावरण ऐसा बन चुका हैं और राजनीतिक छुआछूत फैला है. अब इस किताब के बाद हरिवंशजी पर जाने क्या-क्या लेबल लगेंगे.

सुनाए चंद्रशेखर के साथ के किस्से
Loading...

पीएम मोदी ने चंद्रशेखर जी से अपनी मुलाकातों के ऐसे संस्मरण सुनाए कि पूरा सभागार हंसी और तालियों से गूंज उठा. पीएम ने कहा कि चंद्रशेखर जी से मैं 1977 में मिला था. एक दिन वह और भैरों सिंह शेखावत दौरे पर जा रहे थे. चंद्रशेखर जी भी एयरपोर्ट पर पहुंचे थे. भैरो सिंह जी ने आनन-फानन में जो भी उनकी जेब में था, वो मेरी जेब में जल्दी-जल्दी डाल दिया.

चंद्रशेखर जी ने पहुंचते ही उनकी जेब में हाथ डाला. कारण ये कि भैरो सिंह जी गुटका खाते थे और चंद्रशेखर जी उनकी जेब से निकालकर फेंक देते थे. तब मोदीजी को पता चला कि भैरो सिंघजी ने उनकी जेब में क्या डाला और क्यों डाला? पीएम ने कहा कि ये थी दोस्ती. कहां एक जनसंघी और दूसरा कहां समाजवादी.



पीएम मोदी अटल जी और चंद्रशेखर के परस्पर सम्मान का भी जिक्र करना नही भूले. उन्होंने बताया कि अटलजी को चंद्रशेखर गुरुजी बोलते थे. जब चंद्रशेखर जी को इस्तीफा देना था, उस दिन मैं नागपुर मे था. अटलजी और आडवाणी जी का कार्यक्रम था. उन्हें आने में एक घंटा था. जहां मैं था, वहां चंद्रशेखर जी का सीधा फ़ोन आया. मुझे कहा कि गुरुजी को बता दीजियेगा कि मैं इस्तीफा देने जा रहा हूं. ये थी अपने राजनीतिक विरोधी से दोस्ती.

जब कांग्रेस का डंका बजता था, तब उन्होंने विद्रोह किया. शायद विद्रोह बलिया की मिट्टी में है. पीएम मोदी ने कहा कि किताब से चंद्रशेखर को समझने का मौका मिलेगा ही और साथ ही उस कालखंड का भी विषय बताएगा कि कैसे गैर कांग्रेसी नेताओं को उचित सम्मान नहीं मिला. आज छोटा-मोटा लीडर भी 12 किमी की पदयात्रा करेगा तो मीडिया खूब चलाएगा, चंद्रशेखर जी ने गरीबों के लिए यात्रा की और लोग उन्हें भूल गए. जान-बूझकर सोची-समझी रणनीति के तहत चंद्रशेखर जी की यात्रा को करप्शन, पूंजीपतियों के भरोसे करने वाली पदयात्रा करार दिया गया.

वेंकैया नायडू ने सुनाए आडवाणी से जुड़े किस्से
उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू भी चंद्रशेखर के बहाने अपने गुरु आडवाणी को याद करते हुए कहा कि आडवाणी जी कहा करते थे कि सिद्धांत से ज्यादा व्यवहार की शालीनता ज्यादा जरूरी है. सभी राजनीतिक दलों को जनता के बीच बोलने के लिए एक कोड ऑफ कंडक्ट बनाना चाहिए. आउट ऑफ टर्म बोलने का सिस्टम खत्म होना चाहिए. सबको चंद्रशेखर जी से सबक सीखना चाहिए.

पिछले हफ्ते ही चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर समाजवादी पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हुए हैं. अब चंद्रशेखर की पुस्तक का विमोचन कर पीएम ने समाजवादी विचारधारा को सीधा संदेश दिया है कि कांग्रेस कभी उनके नेताओं का महिमा मंडन नहीं होने देगी और उनकी सरकार बिना किसी पूर्वाग्रह के सबको उचित सम्मान और न्याय देगी.
ये  भी पढ़ें:

पाकिस्‍तान को भारत के बदले का पहले से था 'डर'

संसद में रोईं जया बच्चन, बोलीं- लड़कियां क्या अब तो लड़के भी सुरक्षित नहीं
First published: July 24, 2019, 11:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...