लाइव टीवी

News 18 Chaupal: कीर्ति बोले- जो शीला दीक्षित करके गईं उसका फीता काट रहे हैं केजरीवाल

News18Hindi
Updated: December 18, 2019, 1:25 PM IST

'न्यूज़18 इंडिया चौपाल' में कीर्ति आजाद (Kirti Azad) ने कहा, 'जो शीला दीक्षित करके गई थीं, अरविंद केजरीवाल उसका ही फीता काट रहे हैं. जो शख्स अपने गुरु अन्ना हजारे का ना हो सका, वो दिल्ली का क्या होगा.’

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2019, 1:25 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 'न्यूज़18 इंडिया चौपाल' में बुधवार को कांग्रेस नेता कीर्ति आजाद (Kirti Azad) ने शिरकत की. इस दौरान कीर्ति आजाद ने केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘दिल्ली में जो शीला दीक्षित करके गई थीं, अरविंद केजरीवाल उसका ही फीता काट रहे हैं. जो शख्स अपने गुरु अन्ना हजारे का ना हो सका, वो दिल्ली का क्या होगा.’

फ्री बस सेवा पर उठाया सवाल
दिल्ली में महिलाओं के लिए फ्री बस सेवा पर सवाल उठाते हुए कीर्ति आजाद ने कहा, ‘चुनाव से पहले महिलाओं के लिए फ्री बस सेवा दिल्ली सरकार को क्यों याद आई, सत्ता में आते ही क्यों नहीं किया गया. AAP फ्री बिजली मार्च के बाद बंद करने का नोटिफिकेशन क्यों जारी किया, क्या ये चुनाव की वजह से नहीं है?

उन्होंने कहा,  ‘15 साल दिल्ली में कांग्रेस की सरकार थी. शीला दीक्षित के मुख्यमंत्री काल के दौरान जैसा विकास हुआ, केजरीवाल उसे छू तक नहीं सके. झूठ के आधार पर दिल्ली की जनता को बरगलाया गया और शीला जी पर कॉमनवेल्थ गेम्स में 300 करोड़ रुपये का घोटाले का झूठा आरोप लगाया गया. केजरीवाल को दिल्ली की जनता से माफी मांगनी चाहिए.’

कांग्रेस नेता कीर्ति आजाद


कितने शिक्षक किए नियमित
कांग्रेस नेता ने कहा, ‘हम नए स्कूल की बात कर रहे हैं और AAP कमरे बनाने की बात गिना रही है. कीर्ति ने कहा कि केजरीवाल सरकार कह रही है कि हमने स्कूल बहुत अच्छे बना दिए. लेकिन मैं पूछना चाहता हूं कि राजधानी के सरकारी स्कूलों में 33 हजार शिक्षक हैं, उनमें से 16 हजार नियमित हैं. लेकिन आपने कितने नियमित कर दिए? एक हजार मोहल्ला क्लीनिक बनान की बात कही थी, लेकिन अभी तक कितने बने हैं ये जनता को बता दें.बीजेपी क्यों बना रही है हिंदू मुसलमान का मुद्दा?
नागरकिता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हुई हिंसक प्रदर्शन पर उन्होंने कहा कि ‘पुलिस ने 10 लोगों को पकड़ा. पुलिस ने कहा कि जामिया के छात्र नहीं थे. अमानतुल्लाह के रोल पर कोई बयान पुलिस ने नहीं दिया. जब पुलिस नहीं कह रही है तो बीजेपी हिंदू मुसलमान का मुद्दा क्यों बना रही है? किसी विषय पर लोगों का विरोध हो सकता है. देश में लोकतंत्र है, तानाशाही नहीं. ये कहां तक उचित था कि छात्रों को हिंदू-मुसलमान में बांटे. हमने 1983 मे वर्ल्ड कप जीता, टीम में हिंदू, मुसलमन, सिख, ईसाई सब थे. आज देश को दर्द हो रहा है, जो आपने छात्रों के साथ इतना जुल्म किया.’

कांग्रेस नेता ने कहा कि विचारधारा अलग हो सकती है, लेकिन पहले हम भारतीय हैं. वोट अलग-अलग लोगों को दे सकते हैं. लेकिन देश के बारे में पहले सोचना हम सबका कर्तव्य है.

ये भी पढ़ेंः अगर कानपुर में गंगा साफ हो सकती है तो दिल्ली में यमुना क्यों नहीं?: सीएम योगी

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2019, 12:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर