लाइव टीवी

निर्भया कांड: हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी- याचिका का मकसद मामले को लंबा खींचना तो नहीं?

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 3:36 PM IST
निर्भया कांड: हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी- याचिका का मकसद मामले को लंबा खींचना तो नहीं?
दोषी की याचिका पर दिल्‍ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. (प्रतीकात्मक फोटो)

निर्भया कांड (Nirbhaya Gang Rape) के दोषी मुकेश की याचिका पर दिल्‍ली हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान जस्टिस ने तल्‍ख टिप्‍पणी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 3:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape) के दोषी मुकेश की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट (High Court) ने तल्ख टिप्पणी की है. कोर्ट ने कहा कि अदालत में याचिका दाखिल करने के पीछे कहीं मामले को लंबा खींचना तो नहीं है. दरअसल, मुकेश के वकील की दलिलों का जवाब देते हुए कोर्ट ने कहा कि हाईकोर्ट में याचिका (Petition) दाखिल करने के पीछे का मकसद मामले को लंबा खींचना लगता है. मुकेश ने निचली अदालत की ओर से डेथ वारंट जारी किया गया है, जिसके तहत दोषियों को 22 जनवरी को फांसी देना है.

वहीं, इससे पहले दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने दलील देते हुए कहा था कि 22 जनवरी को फांसी देना सम्भव नहीं है. ये नियमों और सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक सही है. लिहाजा ये याचिका प्रीमेच्‍योर (समयपूर्व) है. कोर्ट को कोई निर्देश देने की जरूरत नहीं है. वहीं, जस्टिस मनमोहन ने कहा कि साल 2017 में SC से अर्जी खारिज होने के बाद दोषियों की ओर से अपील दायर करने में जानबूझकर कर देरी की गई, ताकि मामले को लटकाया जा सके.

डेथ वारंट को चुनौती
दरअसल, निर्भया गैंगरेप और हत्‍या के दोषी मुकेश की ओर से दिल्‍ली हाईकोर्ट में डेथ वारंट को चुनौती दी गई थी, जिसपर बुधवार को सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान कोर्ट ने दोषी की ओर से पेश वकील रेबेका जॉन की दलिलों पर बेहद तल्‍ख सवाल किए. मुकेश की तरफ से कहा गया था कि 6 जनवरी को सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन इसलिए दाखिल नहीं हो पाई, क्योंकि जो दस्तावेज तिहाड़ जेल प्रशासन से मांगे गए थे वो समय पर नहीं मिले. इस दलील पर जस्टिस ने सवाल किया- सुप्रीम कोर्ट वर्ष 2017 में फैसला सुना चुका है. साल 2018 में पुनर्विचार अर्जी खारिज हो चुकी है, फिर क्यूरेटिव और दया याचिका दाखिल क्यों नहीं की गई? क्या दोषी डेथ वारंट जारी होने का इतंजार कर रहे थे?


ये भी पढ़ें- 

'शरद पवार' से कर्ज लेकर CM केजरीवाल के खिलाफ मैदान में उतरे स्वामीजीयमुनानगर: बीजेपी नेता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, जेब से मिली एक पर्ची

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 3:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर