लाइव टीवी

निर्भया मामला: जेल में रहकर अक्षय ने कमाए 69,000 रुपए, नियम तोड़ने पर विनय को 11 बार मिली सजा

Anand Tiwari | News18Hindi
Updated: January 16, 2020, 4:11 PM IST
निर्भया मामला: जेल में रहकर अक्षय ने कमाए 69,000 रुपए, नियम तोड़ने पर विनय को 11 बार मिली सजा
(प्रतीकात्मक फोटो)

चारों कैदियों को कभी छोटे-मोटे झगड़ों के लिए परिजनों से मिलने के वक्त में कटौती की सजा मिली तो कभी बड़ा झगड़ा और मारपीट करने के लिए उनके बैरक बदल दिए गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2020, 4:11 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप केस (Nirbhaya Gang Rape Case) में चारों दोषियों की फांसी की तारीख जैसे-जैसे करीब आ रही है, उनकी मौत का डर बढ़ता जा रहा है. मंगलवार को क्यूरेटिव पिटीशन खारिज होने के बाद निर्भया के दोषियों में से एक विनय शर्मा सबसे ज्यादा परेशान और बेचैन देखा गया. चारों दोषियों को मिली मौत की सजा पर असमंजस की स्थिति बरकरार है. जेल के सूत्रों ने बताया कि 26 वर्षीय कैदी को जेल में नियम तोड़ने के लिए सबसे ज्यादा सजा मिली.

परिजनों से मिलने के वक्त में कटौती की सजा
चारों कैदियों को कभी छोटे-मोटे झगड़ों के लिए परिजनों से मिलने के वक्त में कटौती की सजा मिली तो कभी बड़ा झगड़ा और मारपीट करने के लिए उनके बैरक बदल दिए गए. विनय ने जेल में चित्रकला सीखी और सात साल बंद रहने के दौरान उसे जेल के नियम न मानने के लिए 11 बार सजा मिली. इसी दौरान जेल के नियम तोड़ने के लिए पवन को आठ बार, मुकेश को तीन बार और अक्षय को एक बार सजा मिली.

जेल में की गयी कमाई के लिए किसी को नामित नहीं किया

विनय ने 2015 में एक वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम में प्रवेश लिया था, लेकिन वह पढ़ाई पूरी नहीं कर पाया. मुकेश, पवन और अक्षय ने 2016 में कक्षा दस में प्रवेश लिया था, लेकिन कोई भी परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर पाया था. इन कैदियों ने जेल में की गयी कमाई का लाभ लेने के लिए किसी को नामित नहीं किया है. जेल सूत्रों ने बताया कि अगर वे किसी को नामित नहीं करते हैं तो पैसा कैदियों के परिजनों को दे दिया जाएगा.

मुकेश ने जेल में रहते कोई काम नहीं किया
विनय ने जेल में काम करके 39,000 रुपए कमाए, अक्षय ने 69,000 रुपए कमाए और पवन ने 29,000 रुपए कमाई की. जेल सूत्रों ने कहा कि मुकेश ने जेल में रहते कोई काम नहीं किया. अधिकारियों ने कैदियों से पूछा कि क्या वे मृत्युदंड पाने से पहले अंतिम बार अपने परिजनों से मिलना चाहते हैं. इस पर अभी तक कैदियों ने कोई जवाब नहीं दिया है. चारों दोषियों को सप्ताह में दो बार अपने घरवालों से मिलने की अनुमति दी जाती है. विनय के पिता मंगलवार को उससे मिलने आए थे जबकि मुकेश की मां भी उससे मिलने आती रहती है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. 

फांसी की तारीख तय होने के बाद...
पवन के परिवारवाले भी उससे मिलने आते रहे हैं और आखिरी बार वे सात जनवरी को मिलने आए थे. लेकिन अक्षय की बीवी उससे पिछले साल नवंबर में मिलने आयी थी और फांसी की सजा की तारीख घोषित होने के बाद से उसके परिवार का कोई भी सदस्य उससे मिलने नहीं आया है. हालांकि वह फोन पर अपनी पत्नी से नियमित रूप से बात करता है. जेल अधिकारी ने यह जानकारी दी.

ये भी पढ़ें:-

Nirbhaya Case: निर्भया के दोषी विनय के छलके आंसू, पिता से मिलकर बोला- एक बार गले तो लगा लो

फांसी का दिन पास आने के साथ ही निर्भया के दोषियों की बढ़ रही है चिंता, तिहाड़ रखे हुए है कड़ी नज़र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 9:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर