दिल्ली के दोस्तों ने बनाया अनोखा ग्रुप, पेंटिंग से बयां किया खूबसूरत कश्मीर का दर्द

इस ग्रुप के सदस्य चूशूल ने बताया कि भले ही हम आज कश्मीर छोड़ कर दिल्ली में रह रहे हैं, लेकिन कश्मीर छोड़ने का दर्द आज भी है.

Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: October 5, 2018, 10:56 PM IST
दिल्ली के दोस्तों ने बनाया अनोखा ग्रुप, पेंटिंग से बयां किया खूबसूरत कश्मीर का दर्द
सांकेतिक तस्वीर
Rachna Upadhyay | News18Hindi
Updated: October 5, 2018, 10:56 PM IST
सुंदरता की बात करें, तो जेहन में सिर्फ एक नाम आता है कश्मीर. कश्मीर के बाहर दूसरे राज्यों में जा बसे लोगों के दिल में आज भी कश्मीर छोड़ने के दर्द का एहसास है. इसलिए वे लोग किसी न किसी माध्यम से अपनी यादों को ताजा रखते हैं. इसी कोशिश के तहत दिल्ली में रहने वाले और कश्मीर से जुड़े हुए कुछ लोगों ने Art Wanderers नाम से एक ग्रुप बनाया. इस ग्रुप ने दिल्ली के रफी मार्ग पर पेंटिंग एग्जीबिशन (प्रदर्शनी) लगाई है.

प्रदर्शनी में तमाम तरीके की पेंटिंग लगाई गई है, जिसमें कश्मीर के अलग-अलग रूप को दिखाया गया है. चाहे कश्मीर की सुंदरता की बात करे या कश्मीर के दर्द की बात हो, सभी आर्टिस्ट ने अपनी तस्वीर के जरिये कश्मीर के एक नए रूप को दिखाया है. कहने के लिए तो इस ग्रुप के सभी लोग अलग-अलग व्यवसाय करते हैं, लेकिन दिल से जुड़े हुए हैं और पेंटिंग से अपनी इसी दोस्ती में रंग भरते हैं.

ये भी पढ़ें- कोटा में स्वाइन फ्लू से और तीन मरीजों की मौत

इस ग्रुप के सदस्य चूशूल ने बताया कि भले ही हम आज कश्मीर छोड़ कर दिल्ली में रह रहे हैं, लेकिन कश्मीर छोड़ने का दर्द आज भी है. लोग सिर्फ कश्मीर की सुंदरता को देखते हैं, लेकिन हम कश्मीर के दर्द को जीते हैं. नफरत और हिंसा ने कश्मीर को स्वर्ग से नरक बना दिया है.

वहीं, आठ संस्था से जुड़े भूपेंद्र टिक्कू ने बताया कि कश्मीर में जो सुंदरता है, वह पूरी दुनिया में कहीं भी नहीं, लेकिन लोगों ने उस सुंदरता को नफरत और हिंसा में बदल दिया है. हम चाहते हैं कि हमारा कश्मीर वैसा ही बन जाए जैसा कि हमारे बचपन में था. संस्था से जुड़ीं नीरू ने बताया, 'हमने अपनी प्रदर्शनी के जरिये लोगों को एक संदेश देने की कोशिश की है कि कश्मीर को कश्मीर रहने दें, उसे हिंसा, नफरत और भेदभाव का हिस्सा ना बनाएं.'

सबरीमाला केस के विरोध पर बोले पूर्व CJI- आप महिलाओं को मंदिर से दूर नहीं रख सकते

संस्था से जुड़े मिर्जा ने कहा कि हमने अपनी तस्वीरों में वह दर्द दिखाया है, जो दर्द हमने झेलम से दिल्ली तक के सफर में झेला है. इसके साथ ही संस्था से जुड़ी एक और महिला ने बताया कि उन्होंने अपनी कलाकृति के जरिये कश्मीर में महिलाओं की हालात को दिखाने की कोशिश की है. सिर्फ और सिर्फ उनका यही कहना है कि महिलाओं को डर कर नहीं, बल्कि डटकर जीना चाहिए. बता दें कि यह प्रदर्शनी 7 दिनों तक चलेगी. लोग इसे सुबह 11 बजे से 7 बजे के बीच आकर देख सकते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 5, 2018, 10:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...