लाइव टीवी

प्रदूषण पर स्टैंडिंग कमिटी की बैठक में पहुंचे 29 में से सिर्फ 4 सांसद, गौतम गंभीर-हेमा मालिनी भी रहे गायब

News18India
Updated: November 15, 2019, 3:47 PM IST
प्रदूषण पर स्टैंडिंग कमिटी की बैठक में पहुंचे 29 में से सिर्फ 4 सांसद, गौतम गंभीर-हेमा मालिनी भी रहे गायब
इस बैठक में पराली जलाने, निर्माण के दौरान होने वाले प्रदूषण और अन्य मुद्दों पर महत्वपूर्ण चर्चा होनी थी. (फाइल फोटो)

शहरी विकास मंत्रालय ने अधिकारियों के रुख पर जताई नाराजगी, महत्वपूर्ण चर्चा के लिए आयोजित की गई थी बैठक.

  • News18India
  • Last Updated: November 15, 2019, 3:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में दिनों दिन बढ़ते प्रदूषण (Pollution) को लेकर शुक्रवार को आयोजित संसदीय कमेटी की बैठक को अचानक स्‍थगित करना पड़ा. बताया जा रहा है कि बैठक को स्‍थगित करने का कारण सांसदों व अधिकारियों के बैठक में न पहुंचना रहा. इस संसदीय समिति के 29 सांसद सदस्य हैं लेकिन बैठक के लिए सिर्फ 4 सांसद ही पहुंचे. वहीं एमसीडी (MCD) के तीनों कमिश्नर, डीडीए (DDA) के वाइस चेयरमैन और पर्यावरण मंत्रालय के संयुक्त सचिव भी इस बैठक में नहीं पहुंचे. इसके बाद शहरी विकास मंत्रालय की कमेटी ने अधिकारियों के इस रुख को लेकर नाराजगी भी जताई है.

बैठक में इन बिंदुओं पर होनी थी चर्चा
इस उच्च स्तरीय बैठक में पराली जलाने, निर्माण व उद्योगों के चलते हो रहे वायु प्रदूषण, थर्मल पावर से होने वाले प्रदूषण को कम करने के उपायों के बारे में चर्चा होनी थी. इस बैठक में कृषि, शहरी विकास, पंचायती राज, ग्रामीण विकास मंत्रालय समेत यूपी, दिल्ली, पंजाब हरियाणा, राजस्थान के पर्यावरण मंत्रियों और अधिकारियों शामिल होना था.

सभी राज्यों के सचिवों को भेजी थी चिट्ठी
बता दें कि इस बैठक को लेकर पड़ोसी राज्यों के पर्यावरण सचिवों को चिट्ठी भेजी गई थी, जिसमें कहा गया था कि सभी राज्य वायु प्रदूषण के ताजा हालातों पर अपनाए जा रहे उपायों और दीर्घकालीन प्रयासों की विस्तृत रिपोर्ट के साथ 17 नवंबर को बैठक में शामिल हों.

हाईकोर्ट ने लिया संज्ञान, दिल्ली सरकार को फटकार
प्रदूषण को लेकर अब दिल्ली हाईकोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है. कोर्ट ने प्रदूषण पर दिल्ली सरकार सहित अन्य जिम्मेदार विभागों की खिंचाई की है. न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार हाईकोर्ट ने कहा, दिक्कत समाधानों का क्रियान्वयन ठीक तरीके से न करने के कारण है. इस मामले में इच्छाशक्ति की कमी साफ दिखाई दे रही है. अगर हमें दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाना है तो सभी को अपनी भूमिका निभानी पड़ेगी. इसमें नागरिक भी शामिल हैं.



ये भी पढ़ें- जापान की इस टेक्नोलॉजी से प्रदूषण से मिलेगा हमेशा के लिए छुटकारा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 15, 2019, 1:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर