पीएम मोदी का Exclusive Interview : कहा-विकास करने वालों का धर्म और जाति नहीं पूछनी चाहिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पटना के पास पाटलिपुत्र में News18India के पॉलिटिकल एडिटर अमिताभ सिन्हा और ग्रुप कंसल्टिंग एडिटर ब्रजेश कुमार सिंह के साथ ख़ास बातचीत की. इस दौरान पीएम ने राजनीति में वंशवाद को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा.

News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 9:45 PM IST
News18Hindi
Updated: May 15, 2019, 9:45 PM IST
लोकसभा चुनाव अपने समापन की ओर है. रविवार को सातवें और अंतिम चरण का मतदान है. इसमें 59 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे. भारतीय जनता पार्टी 2014 का करिश्मा दोहराने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है. इसी प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार की राजधानी पटना के पास पाटलिपुत्र में News18 के पॉलिटिकल एडिटर अमिताभ सिन्हा और ग्रुप कंसल्टिंग एडिटर ब्रजेश कुमार सिंह से एक्सक्लूसिव बातचीत में वंशवाद से लेकर अपनी जाति तक और टाइम मैगजीन के कवर से लेकर बंगाल में हिंसा तक हर सवाल पर खुलकर बात की. इस दौरान उन्होंने कांग्रेस समेत पूरे विपक्ष पर जमकर निशाना साधा तो अपने काम का भी जिक्र किया. साथ ही कहा कि लोकतंत्र में भरोसा जताने वालों की पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान हिंसा पर खामोशी लोकतंत्र के लिए खतरनाक है. पेश है उनका पूरा  interview...

खतरनाक है ये वंशवाद



News18India के पॉलिटिकल एडिटर अमिताभ सिन्हा और ग्रुप कंसल्टिंग एडिटर ब्रजेश कुमार ने पीएम मोदी से उनके परिवार को लेकर सवाल किया गया. उन्होंने पूछा कि प्रचार के दौरान प्रियंका के बच्चे भी साथ आए थे ऐसे में पीएम अपने परिवार को किस तरह राजनीति से दूर रख पाते हैं? इस पर पीएम मोदी ने जवाब दिया, 'मैं बाबा साहेब का एक विद्यार्थी हूं और उसके नाते मैंने बाबा साहब आंबेडकर को जितना समझा है वो हमेशा कहते थे कि लोकतंत्र का सबसे बड़ा कोई दुश्मन है तो वंशवाद है. ये बहुत खतरनाक होता है और दुर्भाग्य से देश में कांग्रेस भी वंशवाद की तरफ चली गई. कांग्रेस गोत्र के जितने लोग बाहर निकले वो भी वंशवाद की ओर बढ़ते चले गए. ये सबसे बड़ा संकट है, लोकतंत्र के लिए खतरा है, राजनीति लोकतंत्रिक प्रक्रिया से उभरनी चाहिए, कोई भी व्यक्ति उस पार्टी का नेतृत्व करे ये स्थिति बननी चाहिए.'

कश्मीर से ज्यादा बंगाल के चुनावों में हुई हिंसा

पीएम मोदी ने कहा, 'हिंसा-आतंकवाद की बात हो तो सबसे पहले कश्मीर का नाम आता है, उस कश्मीर में पंचायत के चुनाव हुए 30 हज़ार के करीब लोग मैदान में थे  लेकिन कोई हिंसा नहीं हुई.' उन्होंने कहा, 'जो लोग लोकतंत्र पर विश्वास करते हैं और न्यूट्रल हैं उनका मौन सबसे चिंताजनक है. हिंसा, आतंकवाद हो तो कश्मीर का नाम आता है लेकिन उस कश्मीर में पंचायतों के चुनाव हुए 30 हजार के करीब लोग मैदान में थे लेकिन एक भी पोलिंग बूथ पर हिंसा की घटना नहीं हुई. उसी कार्यकाल में बंगाल में पंचायत चुनाव हुए सैकड़ों लोग मारे गए, जो जीतकर आ गए उनके घर जला दिए गए, उनको झारखंड या अन्य राज्यों में जाकर 3-3 महीने मुंह छिपाकर रहना पड़ा, उनका गुनाह यही था जो जीतकर आए थे.'

पीएम ने बंगाल की मुख्यमंत्री को लेकर कहा कि लोकसभा चुनाव के पहले भाजपा के मुख्यमंत्री बंगाल गए तो उनका हेलीकॉप्टर तक लैंड नहीं करने दिया गया. लास्ट मोमेंट पर सभा कैंसल कर दी गईं. अभी परसों भी प्रधानमंत्री की सभा कैंसिल कर दी थी, रात 9 बजे परमिशन मिली. उसके दो दिन पहले अमित भाई शाह की सभा कैंसल कर दी.  उनका रवैया पूरी तरह अलोकतांत्रिक है.

70 साल से मुसलमानों को डराया गया

अंतरराष्ट्रीय मंचों पर देश की साख बढ़ने और अपनी मुस्लिम विरोधी छवि से जुड़े एक सवाल के जवाब में मोदी ने कहा,  'वोट बैंक की राजनीति करने वालों की मोडस ऑपरेंडी देखिए. 70 साल से मुसलमानों को डराने के लिए अलग-अलग समय पर अलग-अलग लोगों को, संस्थाओं को दोषी बनाया गया. इन संस्थाओं और व्यक्तियों को लगातार गाली देकर मुसलमानों में एक डर पैदा किया गया.'

मोदी ने कहा कि होना ये चाहिए था कि मुसलमानों में से नेतृत्व को आगे लेकर आएं. हम अब्दुल कलाम को लेकर आए थे और राष्ट्रपति बनाया था. इस दिशा में अगर वे आगे जाते तो देश की एकता को ताकत मिलती. हम इसलिए ही मंत्र लेकर आए थे -सबका साथ, सबका विकास. लेकिन ये लोग मोदी का नाम सिर्फ धर्म-जाति की राजनीति के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं. विकास करने के लिए लोगों का पंथ, जाति या धर्म नहीं पूछा जाना चाहिए.

जो मेरी छवि बिगाड़ने की कोशिश कर रहे थे, उनकी खुद की छवि ख़राब हो गई

पीएम मोदी ने टाइम मैगजीन की एक स्टोरी में उन्हें 'डिवाइडर इन चीफ' बताए जाने पर भी खुलकर बात की. उनकी 'डिवाइडर' वाली इमेज बनाए जाने से जुड़े सवाल के जवाब में मोदी ने कहा कि बेचारे जो मेरी छवि बिगाड़ने के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं, इसमें उनकी ही छवि खराब हो गई. मोदी ने कहा, 'मैं ये समझता हूं कि बीते 20 साल से मेरी छवि बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है, लेकिन दिन-रात मेहनत के बावजूद उनकी खुद की छवि ख़राब हो गई है. मुझे अब इन लोगों पर दया आती है. आज अगर हर गरीब पोलराइज़ हो गया है और जातिगत बंधनों से बाहर निकलकर सीधा-सीधा मोदी में अपनी छवि देखने लगा है तो किसी को इसमें दुख क्यों हो रहा है. अब गरीब सिर्फ अपना भला नहीं देश का भला भी चाहता है. गरीब अगर जात-पात से बाहर आ गया है, पंथ, संप्रदाय से बाहर आ गया है और अपने बच्चों के भविष्य के लिए आगे आ रहा है तो हमें इस बात पर गर्व करना चाहिए.'

हमने नहीं जनता ने दिया ये नारा

चुनाव प्रचार के दौरान इस बार कई नारे चल रहे हैं. खासकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जहां भी जाते हैं लोग वहां मोदी...मोदी...मोदी के नारे लगाते हैं. लेकिन इस बार एक नारा ऐसा भी जो हर तरफ सुर्खियां बटोर रहा है और वो है- 'आएगा तो मोदी ही'. पीएम मोदी ने कहा है कि ये नारा जनता ने दिया है किसी पीआर एजेंसी ने नहीं. साथ ही उन्होंने कहा कि इस बार का चुनाव जनता लड़ रही है. उन्होंने  कहा, 'आप हैरान होंगे इस बार चुनाव में जितने भी नारे आएं हैं वो सभी जनता की तरफ से आए हैं, हमारी पीआर एजेंसी या हमारी पार्टी ने कोई नारा नहीं गढ़ा. अब (आएगा तो मोदी ही) ये मैंने जनता से सुना, अगर चुनाव जनता लड़ना चाहती है तो ये अभूतपूर्व है.'

अपनी जाति पर विपक्ष को दिया ये जवाब

पीएम मोदी ने कहा, 'किसी ने गुजरात में मेरी जाति नहीं पूछी, वहां किसी को मेरी जाति का पता नहीं. मेरा जाति से कोई लेना देना नहीं है. मेरी जाति गरीब की जाति है, मैं हर गरीब की जाति का हूं और हर गरीब भी मेरी जाति का है. आज़ादी के इतने सालों बाद भी गरीबों की ये हालत देखकर मुझे बड़ा दर्द होता है.'

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि उनके 10 साल के कार्यकाल में 25 लाख घर बनते हैं जबकि मेरे 5 साल के कार्यकाल में डेढ़ करोड़ घर बने हैं. अगर यही काम पहले हुए होता तो गरीब कि आज ये स्थिति नहीं होती. अगर ये सब पहले हुआ होता तो मुझे शौचालय बनवाने की ज़रुरत ही नहीं पड़ती. ये सारे काम आज़ादी के बाद शुरुआती 25 साल में हो जाने चाहिए थे पर गांव तक सड़क पहुंचाने की मेहनत भी मुझे करनी पड़ रही है.

ये भी पढ़ें- 

Exclusive: पीएम मोदी बोले मैं बाबा साहब को मानता हूं इसलिए वंशवाद के खिलाफ हूं

Exclusive: टाइम मैगजीन के 'डिवाइडर इन चीफ' कवर पर क्या बोले पीएम मोदी

Exclusive: 'आएगा तो मोदी ही', ये नारा हमने नहीं जनता ने दिया है : PM मोदी

Exclusive: पीएम मोदी का ममता पर प्रहार, कहा- कश्मीर से ज्यादा बंगाल के चुनावों में हुई हिंसा

Exclusive: PM मोदी ने बताई अपनी जाति, विपक्ष को दिया ये जवाब
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार