लाइव टीवी

हरियाणा और महाराष्ट्र में अच्‍छे प्रदर्शन के बाद भी खुश नहीं हैं राहुल गांधी, ये है वजह

Ranjeeta Jha | News18Hindi
Updated: October 29, 2019, 8:58 PM IST
हरियाणा और महाराष्ट्र में अच्‍छे प्रदर्शन के बाद भी खुश नहीं हैं राहुल गांधी, ये है वजह
पार्टी की अंदरूनी कलह से परेशान हैं राहुल गांधी.

हाल ही में हरियाणा (Haryana) और महाराष्ट्र (Maharashtra) में हुए विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) में कांग्रेस को उम्‍मीद से अधिक सीटें मिली हैं. इसके बाद भी पार्टी के पूर्व राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) खुश नहीं है. जबकि आज भी पार्टी में ओल्‍ड गार्ड बनाम यूथ की भिड़ंत चल रही है, जो कि कांग्रेस के लिए नुकसानदायक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2019, 8:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. हरियाणा (Haryana) और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections) में मिली उम्मीद से ज्यादा सीटों से भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) खुश नहीं है. नतीजों के बाद से अब तक का उनका व्यवहार तो कुछ यही बता रहा है. 2019 लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल ने राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा देते हुए अपने चार पन्ने के पत्र में कई बातें लिखी थीं. उन्होंने लिखा था कि बतौर वायनाड सांसद वो अपनी जिम्मेदारी निभाने के साथ पार्टी के लिए हमेशा एक कर्मठ कार्यकर्ता की तरह खड़े रहेंगे. कहीं न कहीं अब भी राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से हटने के बाद पार्टी के अंदर ओल्ड गार्ड बनाम यूथ टीम की भिड़ंत चल रही है, जो कि पार्टी का नुकसान कर रही है.

अंदरूनी लड़ाई से पार्टी को हुआ नुकसान
राहुल गांधी ने हरियाणा और महाराष्ट्र में कई चुनावी रैलियां कीं, लेकिन चुनाव के दौरान जिस तरह की अंदरूनी कलह से पार्टी गुजर रही थी, उस हिसाब से उम्मीद नहीं थी कि पार्टी इतना बेहतर नतीजा ला सकती है. यही कारण है कि दोनों ही राज्यों में कांग्रेस बहुत लड़ती हुई नहीं दिखी. महाराष्ट्र में कांग्रेस चौथे नंबर की पार्टी रही, लेकिन हरियाणा में कांग्रेस के नंबर उम्मीद से कहीं ऊपर रहे. यहां तक कहा जाने लगा कि अगर आलाकमान हुड्डा पर फैसला जल्दी लेती तो कांग्रेस सरकार बना लेती.



राहुल के भरोसेमंद नेताओं के पर कतरे
बहरहाल, इन सभी आकलन, बयान और हौसला-अफजाई के बीच नतीजे के एक हफ्ते बाद भी राहुल गांधी की तरफ से एक ट्वीट या फिर एक बयान तक नहीं आया है. राहुल गांधी ने भले ही स्टार प्रचारक के नाते हरियाणा और महाराष्ट्र में रैलियां कीं, लेकिन बहुत आक्रामक तरीके से प्रचार में नहीं दिखे. राहुल गांधी की ही पसंद हरियाणा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अशोक तंवर थे, जिन्होंने सोनिया गांधी के आवास के बाहर गाड़ी के ऊपर खड़े होकर हुड्डा के खिलाफ अपना विरोध दिखाया था. जबकि महाराष्ट्र में पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोल कर बैठे संजय निरूपम भी राहुल गांधी के भरोसे के नेता थे. ऐसे में चुनाव से ठीक पहले इन नेताओं ने जितना डेंट पार्टी को दिया उतनी ही उंगलियां राहुल गांधी पर भी उठीं. शायद यही कारण है कि हरियाणा के महेंद्रगढ़ में सोनिया गांधी को रैली करनी थी, जिसे बाद में राहुल गांधी ने किया. जब हुड्डा को ये बात पता चली तो वो रैली में शामिल नहीं हुए.

दिल्‍ली में सोनिया गांधी के नजदीकी को मिला पद
Loading...

कहीं न कहीं अभी राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से हटने के बाद भी पार्टी के अंदर ओल्ड गार्ड बनाम यूथ टीम की भिड़ंत चल रही है. ये अंदरूनी लड़ाई कई बार देखने को भी मिली है. कांग्रेस के जानकरों की मानें तो दिल्ली अध्यक्ष पर फैसला लेने में इसलिए पार्टी को वक्त लगा क्योंकि यहां भी सोनिया गांधी की टीम किसी और नेता को अध्यक्ष पद पर चाहती थी. जबकि राहुल गांधी किसी और को जिम्‍मेदारी देना चाहते थे. आखिरकार इसमें सोनिया गांधी की टीम की जीत हुई.

ये भी पढ़ें:

 नवाज शरीफ की तबीयत हुई बेहद खराब, डॉक्टरों ने बंद की दिल की दवा- रिपोर्ट

EU सांसदों के कश्मीर दौरे के बीच पुलवामा में बोर्ड एग्‍जाम सेंटर के पास आतंकी हमला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 5:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...