दिल्ली की राजनीति पर क्या असर डालेगी राहुल से 3 घंटे की ये मुलाकात?

विदेश दौरे से लौटे राहुल गांधी आज दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के आवास पहुंचे. राहुल 3 घंटे तक उनके परिवार के साथ रहे. राजनैतिक पंडित इस मुलाकात को दिल्ली की राजनीति में दीक्षित खेमे की किसी भावी भूमिका से जोड़कर देख रहे हैं

Ranjeeta Jha
Updated: July 27, 2019, 7:41 AM IST
दिल्ली की राजनीति पर क्या असर डालेगी राहुल से 3 घंटे की ये मुलाकात?
शीला दीक्षित के परिवार के साथ 3 घंटे रहे राहुल गांधी
Ranjeeta Jha
Ranjeeta Jha
Updated: July 27, 2019, 7:41 AM IST
विदेश दौरे से लौटकर राहुल गांधी आज दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के आवास पहुंचे, 19 जुलाई को शीला दीक्षित का निधन हुआ था, राहुल उस समय विदेश दौरे पर थे लेकिन शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित से फोन पर बात करते हुए राहुल ने कहा था कि देश पहुंचकर मिलने आऊंगा. कल विदेश दौरे से लौटे राहुल गांधी आज 3 घंटे से ज्यादा समय तक शीला दीक्षित के परिवार के साथ थे.

शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी
सुबह 10 बजे राहुल गांधी शीला दीक्षित में आवास निज़ामुद्दीन पहुंचे जहां उनके आने की जानकारी शीला दीक्षित के पूरे परिवार को थी, लिहाजा पूरा परिवार वहां मौजूद था. शीला दीक्षित की छोटी बहन, बेटा संदीप दीक्षित, बेटी लतिका और परिवार के सभी सदस्य. राहुल गांधी ने पहुंचकर सबसे पहले शीला दीक्षित के फोटो पर फूल अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी,

मुलाकात पारिवारिक थी, कुछ राजनीतिक चर्चा भी हुई

परिवार वाले बताते हैं कि, आने से 20 मिनट तक राहुल सिर्फ संदीप दीक्षित को देखते रहे, एक शब्द नहीं कहा. उसके बाद राहुल गांधी परिवार के लोगों के साथ अलग कमरे में बैठ गए, जहां उन्होंने सबसे बात की. संदीप दीक्षित ने न्यूज़18 से बात करते हुए कहा कि राहुल गांधी बतौर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जो उनके साथ काम किया वो याद कर रहे थे, दिल्ली के नागरिक होने के नाते एक मुख्यमंत्री द्वारा किये काम को सराहा उन्होंने वही शीला जी के साथ अपनी कुछ निजी यादें भी साझा कीं. वहीं संदीप दीक्षित ने कहा कि ये मुलाकात पूरी तरह पारिवारिक थी, हां कुछ राजनीतिक चर्चा भी हुई. फिर राहुल गांधी ने परिवार के साथ लंच भी किया.

दिल्ली की राजनीति पर असर
राजनीतिक पंडित इस घटनाक्रम को सिर्फ शीला दीक्षित के निधन के बाद परिवार को ढाढस बंधाने तक नही देख रहे, शीला दीक्षित के निधन के पहले जो स्थिति दिल्ली कांग्रेस की थी, पीसी चाको और शीला दीक्षित की राजनीतिक लड़ाई किसी से छुपी नहीं थी,ऐसे में राहुल गांधी का संदीप दीक्षित और शीला दीक्षित के परिवार के साथ घंटों समय बिताना इस बात की ओर इशारा करता है कि आने वाले समय में दिल्ली कांग्रेस में जो भी बदलाव होगा वो शीला दीक्षित कैम्प के हित में होने वाला है.
Loading...

ये भी पढ़ें -
रमा देवी की मांग- बिना शर्त माफी नहीं मांगी तो आजम खान को 5 साल के लिए सस्‍पेंड करें
धोनी के लिए आर्मी चीफ का बड़ा बयान- वे सैनिक के रूप में तैयार, जनता की करेंगे रक्षा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 27, 2019, 6:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...