SC/ST एक्‍ट के विरोध पर BJP सांसद पार्टी पर भड़कीं-'संविधान लागू करो वर्ना कुर्सी खाली करो'

बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने सवर्णों के प्रदर्शन पर कहा कि ऐसा वो लोग करवा रहे हैं जो संविधान को बदलने आए हैं, जो आरक्षण खत्म करने आए हैं!

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 9:12 AM IST
SC/ST एक्‍ट के विरोध पर BJP सांसद पार्टी पर भड़कीं-'संविधान लागू करो वर्ना कुर्सी खाली करो'
बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले
ओम प्रकाश
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 5, 2018, 9:12 AM IST
बहराइच (यूपी) से भाजपा सांसद साध्वी सावित्री बाई फुले के बोल पार्टी के बिल्कुल उलट हो गए हैं. जब उनसे अनुसूचित जाति/जनजाति (अत्याचार निरोधक) एक्ट के खिलाफ हो रहे सवर्णों के प्रदर्शन को लेकर सवाल किया तो वो अपनी ही पार्टी के नेताओं, मंत्रियों पर बरस पड़ीं. फुले ने कहा, 'हमारी सरकार संविधान लागू नहीं कर रही है.' उन्होंने केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के संविधान और राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी के आरक्षण वाले बयान के बहाने अपनी पार्टी को ही कटघरे में खड़ा कर दिया.

hindi.news18.com से बातचीत में फुले ने कहा, “सवर्ण समाज एससी/एसटी एक्ट को लेकर षड़यंत्र की वजह से सड़क पर उतर रहा है. इस एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के संशोधन को उलटते हुए हमारी सरकार ने लोकसभा में बिल पास कर इसकी पुरानी स्थिति को बहाल किया. लेकिन उसे नौवीं अनुसूची में नहीं डाला. इसे डालना चाहिए था. ताकि इसे लेकर कोई कोर्ट न जा सके. एक तरफ सरकार ने इसे पास करवाया और दूसरी तरफ इसे नौवीं अनुसूची में नहीं डाला. उनकी रणनीति ये थी कि बहुजन समाज को खुश भी कर दो और कोर्ट जाने का रास्ता भी छोड़ दो. जिन लोगों ने ऐसी साजिश की है उन्होंने ही कुछ लोगों को सड़क पर उतार दिया कि तुम जाकर हल्ला बोलो, विरोध करो. मुझे लगता है कि कहीं न कहीं बहुजन समाज साजिश का शिकार हो रहा है.”

एससी-एसटी एक्ट, SC-ST act, Savitri Bai Phule, सावित्री बाई फूले, सुप्रीम कोर्ट, Supreme court, बीजेपी, BJP, केन्द्र सरकार, Central government, ब्राह्मण, brahmin, क्षत्रिय, kshatriya, Schedule caste and schedule tribe, अनुसूचित जाति, जन जाति, dalit politics, दलित पॉलिटिक्स, obc, ओबीसी         बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले (File Photo)

आखिर कौन लोग साजिश कर रहे हैं? इस सवाल के जवाब में साध्वी ने कहा “षड़यंत्र वो लोग कर रहे हैं जो कहते हैं कि हम संविधान को बदलने के लिए आए हैं. जो लोग कहते हैं कि हम संविधान को खत्म कर देंगे. जो लोग कहते हैं बहुजन समाज को खत्म करेंगे. जो लोग कहते हैं आरक्षण को खत्म करेंगे. ये उन्हीं का षड़यंत्र है. उन्हीं की वजह से सवर्ण लोग सड़क पर उतर रहे हैं. उन्हीं की वजह से देश भर में बहुजन समाज के साथ अन्याय हो रहा है.”

ये भी पढ़ें: RSS पर इस तरह हमलावर क्यों हैं राहुल गांधी?

बकौल फुले, “मंत्री ने बोला कि हम संविधान को बदलने के लिए आए हैं. कोई कहता है कि हम संविधान की समीक्षा करना चाहते हैं. सुब्रमण्यम स्वामी का बयान था कि हम आरक्षण को ऐसा कर देंगे कि रहना न रहना बराबर होगा. संविधान और आरक्षण को खत्म करने वाली सोच के लोगों की साजिश के तहत ही इस एक्ट का विरोध हो रहा है. इनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हो रही है. इसलिए लोग संविधान की प्रतियां तक जला रहे हैं.”

उन्‍होंने कहा, “ऐसा कहने और करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है यही दुख है. उन्हें बोलने की छूट दी जा रही है. वो संविधान के खिलाफ बोल रहे हैं. आरक्षण के खिलाफ बोल रहे हैं, एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ बोल रहे हैं.”
Loading...
बीजेपी सांसद फुले ने कहा, “जो लोग बहुजन समाज की बात करते हैं उन्हें साजिश के तहत गिरफ्तार किया जा रहा है. नजरबंद किया जा रहा है. ये पूरे देश के बहुजन समाज को उकसाने का काम है. बहुजन समाज के ये दुश्मन गृहयुद्ध करवाना चाहते हैं. हम तो कहते हैं कि भारत के संविधान को लागू करो वरना कुर्सी खाली करो.”

साध्वी ने कहा “हम लोग तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से बोल रहे हैं. लगातार बोल रहे हैं. पार्लियामेंट में बोल रहे हैं. अनुप्रिया पटेल ने बोला, उपेंद्र कुशवाहा ने बोला...पिछड़ी जाति के सांसद बोल रहे हैं. बहुजन समाज के सांसद बोल रहे हैं. इसके बावजूद सबसे ज्यादा वोट देने वाले समाज की अनदेखी की जा रही है और जो तीन प्रतिशत लोग हैं वो उत्पात मचा रहे हैं. बहुजन समाज समझ चुका है, आने वाले चुनाव में पता चल जाएगा.”

भारत, दलित, सावित्री बाई फुले, भारतीय जनता पार्टी, भारतीय संसद, लखनऊ, भारत में आरक्षण, उत्तर प्रदेश, India, Dalit, Savitri Bai Phule, Bharatiya Janata Party, Indian Parliament, Lucknow, Reservation in India, Uttar pradesh, Scheduled Castes and Scheduled Tribes‬, ‪Scheduled Caste and Scheduled Tribe (Prevention of Atrocities) Act, 1989, Bahujan samaj party, mayawati, narendra modi, dalit leader, dr br ambedkar statue, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम, 1 9 8 9, बहुजन समाज पार्टी, मायावती, नरेंद्र मोदी, दलित नेता, डॉ आरबी आंबेडकर प्रतिमा, Lok Sabha, Bahraich      फुले ने एससी/एसटी मसले पर शुरू की बगावत! (File Photo)

क्या आप बीजेपी छोड़ने वाली हैं इसलिए ऐसा बोल रही हैं? इस सवाल के जवाब में फुले ने कहा, “मैं अपने अधिकार की बात कर रही हूं, बीजेपी छोड़ने की नहीं? संविधान की प्रतियां जलाई जा रही हैं. ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हो रही है. ये साजिश नहीं तो क्या है? सबको ये सोचना चाहिए कि हम संविधान के तहत सुरक्षित हैं.

फुले ने कहा "हम संविधान के तहत सांसद हैं. संविधान सुरक्षित रहा तो दोबारा मुझे सांसद बनने से कोई नहीं रोक सकता. मैं पार्टी और लोकसभा में बराबर बात रख रही हूं. उसके बाद भी अनसुना किया जा रहा है. संविधान हमारा सुरक्षित रहे. आरक्षण बरकरार रहे. जब तक देश में पूरी तरह से संविधान लागू नहीं होगा मैं अपनी बात उठाती रहूंगी. मैं इन बातों के लिए अपनी मुहिम जारी रखूंगी.”

ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: ये है आरएसएस, बीजेपी का दलित प्लान! 
Loading...

और भी देखें

Updated: November 15, 2018 08:10 AM ISTकुतुब मीनार से डबल है इस ब्रिज की ऊंचाई
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर