लाइव टीवी

बढ़ते प्रदूषण के चलते 5 नवंबर तक दिल्ली के स्कूल बंद, केजरीवाल सरकार का निर्णय

News18Hindi
Updated: November 1, 2019, 3:57 PM IST
बढ़ते प्रदूषण के चलते 5 नवंबर तक दिल्ली के स्कूल बंद, केजरीवाल सरकार का निर्णय
सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है. दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के स्तर को सीवीयर प्लस कैटेगरी में रखा गया है.

सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कहा कि पराली जलाने के चलते दिल्ली में बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया गया है. सुबह और शाम के समय प्रदूषण का असर सबसे ज्यादा होता है और यह बच्चों के स्वास्‍थ्य पर बुरा प्रभाव डाल रहा है जिससे यह फैसला लिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 1, 2019, 3:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में बढ़ते प्रदूषण (Pollution) स्तर को देखते हुए केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने सभी स्कूलों को पांच नवंबर तक के लिए बंद कर दिया है. शुक्रवार को सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा कि पराली जलाने के चलते दिल्ली में बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए स्कूलों को बंद करने का निर्णय लिया गया है. सुबह और शाम के समय प्रदूषण का असर सबसे ज्यादा होता है और यह बच्चों के स्वास्‍थ्य पर बुरा प्रभाव डाल रहा है जिससे यह फैसला लिया गया है.




दिल्ली में पब्लिक हेल्‍थ इमरजेंसी घोषित
वहीं शुक्रवार को ही सुप्रीम कोर्ट के एक पैनल ने दिल्ली-एनसीआर में पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित कर दी है. दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण के स्तर को सीवीयर प्लस कैटेगरी में रखा गया है. पर्यावरण प्रदूषण रोकथाम और नियंत्रण ने हेल्थ इमरजेंसी घोषित होने पर सर्दियों के पूरे मौसम पटाखे जलाने पर बैन लगा दिया है. वहीं कंस्ट्रक्शन पर लगी रोक को भी पांच नंवबर तक के लिए बढ़ा दिया गया है.
Loading...

दिल्ली, गाजियाबाद, नोएडा के हालात को देखते हुए उठाए कदम
दिल्ली के लोधी रोड, मेजर ध्यानचंद स्टेडियम इलाके में वायु प्रदूषण में PM 2.5 का लेवल एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार 500 के खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. वहीं यूपी के गाजियाबाद में ये आंकड़ा 487 है. नोएडा में भी ये आंकड़ा 500 को छूने की ओर बढ़ रहा है. बता दें कि उत्तर प्रदेश के आठ शहर खतरनाक वायु प्रदूषण की चपेट में हैं. इसके अलावा हरियाणा के गुरुग्राम और सिरसा में भी हालात अच्छे नहीं हैं.

ये भी पढ़ेंः प्रदूषण में पराली का योगदान मात्र 10 से 30%, तो सिर्फ किसानों पर ही FIR क्यों?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 1, 2019, 2:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...