शीला दीक्षित क्यों दिल्ली वालों के दिलों में हमेशा राज करेंगी

कांग्रेस की कद्दावर नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन हो गया है. शीला दीक्षित लगातार 15 सालों तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 5:14 PM IST
शीला दीक्षित क्यों दिल्ली वालों के दिलों में हमेशा राज करेंगी
कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का निधन हो गया है
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: July 20, 2019, 5:14 PM IST
कांग्रेस की कद्दावर नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 साल की उम्र में निधन हो गया है. शीला दीक्षित फिलहाल दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष थीं. बीते लोकसभा चुनाव में भी शीला दीक्षित दिल्ली की उत्तरी-पूर्वी लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में थीं. शीला दीक्षित लोकसभा चुनाव में हार जरूर गईं लेकिन उन्होंने अपनी शैली से लोगों को काफी प्रभावित किया.  प्रियंका गांधी के रोड शो में भी जिस तरह से शीला-शीला के नारे लग रहे थे उससे दिल्ली में उनकी लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है. आज जबकि शीला दीक्षित इस दुनिया में नहीं हैं, फिर भी दिल्ली में किए अपने कामों के जरिए वह सदा दिल्ली वालों के दिल में रहेंगी

दिल्ली की सीएम रहते शीला दीक्षित ने नार्थ-ईस्ट दिल्ली में कई विकास के काम किए थे. इलाके के लोग झुग्गियों और कच्ची कोलनियों के लिए शीला दीक्षित के द्वारा किए गए कामों की आज भी चर्चा करते हैं. शीला दीक्षित ने दिल्ली में अपना राजनीतिक पारी की शुरुआत भी उत्तर-पूर्वी दिल्ली से हीं की थी.

शीला दीक्षित क्यों याद किए जाएंगे..

बता दें कि शीला दीक्षित पंजाब के कपूरथला में जन्मी थीं. वह एक पंजाबी फैमिली से आती हैं. उनकी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली के जीसस एंड मैरी स्कूल और विश्वविद्यालय की पढ़ाई मिरांडा हाउस कॉलेज से हुई. शादी से पहले उनका नाम शीला कपूर हुआ करता था. बाद में उन्होंने वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और स्वतंत्रता सेनानी उमाशंकर दीक्षित के पुत्र विनोद कुमार दीक्षित से शादी कर ली और शीला दीक्षित हो गईं.

शीला दीक्षित ने दिल्ली में अपना राजनीतिक पारी की शुरुआत भी उत्तर-पूर्वी दिल्ली से हीं की थी.


बता दें कि उमाशंकर दीक्षित, गणेश शंकर विद्यार्थी के साथ आजादी के आंदोलन में भाग लिया था. वे उन्नाव जिले के रहने वाले थे. उनके पुत्र और शीला दीक्षित के पति विनोद कुमार दीक्षित आईएएस अधिकारी थे और शीला दीक्षित के मिरांडा हाउस में पढ़ने के दौरान दोनों को प्रेम हुआ था.
शीला दीक्षित ने अपने 'ससुरजी' से ही राजनीति का 'ककहरा' सीखा. जब 1969 में इंदिरा गांधी को कांग्रेस से निकाला गया तो इंदिरा गांधी का साथ देने वालों में उमाशंकर दीक्षित भी शामिल थे. इसके बाद जब इंदिरा गांधी ने सत्ता में वापसी की तो उन्हें उनकी वफादारी का ईनाम मिला और 1974 में उन्हें देश का गृहमंत्री बना दिया गया.
Loading...

मजबूत इच्छाशक्ति की महिला

बाद में उमाशंकर दीक्षित कर्नाटक के गवर्नर बने. संजय गांधी युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर जोर देते थे. ऐसे में शीला दीक्षित एक अच्छा विकल्प बनीं. इसके बाद 80 के दशक में ही एक रेल यात्रा के दौरान शीला दीक्षित के पति विनोद कुमार दीक्षित की मौत हो गई. जिसके बाद शीला दीक्षित ने बच्चों और परिवार की राजनीतिक विरासत दोनों को ही बखूबी संभाला.

1984 के आम चुनावों में जब इंदिरा गांधी की हत्या के बाद कांग्रेस के समर्थन में राजनीतिक लहर चली तो शीला दीक्षित ब्राह्मण बहुल कन्नौज सीट से चुनकर लोकसभा पहुंचीं. गांधी परिवार से शीला दीक्षित की नजदीकियों का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि जब इंदिरा गांधी की हत्या की खबर सुनकर राजीव गांधी कोलकाता से दिल्ली के लिए जा रहे थे तो उनके साथ उस विमान में प्रणब मुखर्जी के साथ शीला दीक्षित भी थीं और इन्हीं ने उनके प्रधानमंत्री बनाए जाने की रणनीति बनाई थी.

फाइल फोटो


गांधी परिवार की खास

शीला दीक्षित राजीव गांधी मंत्रिमंडल में राज्यमंत्री बनीं. 1991 में उनके ससुर उमाशंकर दीक्षित का देहांत हो गया, जिसके बाद शीला दीक्षित पूरी तरह से दिल्ली में ही बस गईं. 1991 में फिर से नरसिम्हा राव के नेतृत्व में कांग्रेस की सत्ता में वापसी हुई लेकिन अब गांधी परिवार के करीबियों का उतना सम्मान नहीं रहा था तो शीला दीक्षित मंत्रीपद से दूर ही रहीं.

जब 1998 में सोनिया गांधी ने कांग्रेस की कमान संभाली तो पुराने वफादारों की भी वापसी हुई. 1998 में शीला दीक्षित को कांग्रेस ने पूर्वी दिल्ली से बीजेपी के लालबिहारी तिवारी ने उन्हें हरा दिया. इसी दौर में कुछ दिन के लिए विधानसभा चुनावों में बीजेपी की सरकार बनी थी और सुषमा स्वराज कुछ दिनों के लिए दिल्ली की मुख्यमंत्री बनी थीं. लेकिन जल्द ही बीजेपी की सरकार गिरी और चुनावों में कांग्रेस को सत्ता मिली.

लोकसभा चुनाव हारने के बाद विधानसभा में गोल मार्केट से चुनी गईं शीला दीक्षित पर कांग्रेस ने भरोसा दिखाया और उन्हें दिल्ली की सत्ता सौंप दी. इसके बाद शीला दीक्षित ने हैट्रिक मारी और तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री चुनी गईं. इसके बाद अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी ने 2013 में शीला दीक्षित को पार्टी से बेदखल कर दिया. बाद में केरल की राज्यपाल बनीं लेकिन 2014 में NDA सरकार आने के बाद उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

ये भी पढ़ें-

Sheila Dikshit: इंदिरा-सोनिया के बाद कांग्रेस की सबसे मजबूत महिला नेता, ऐसा था राजनीतिक सफ़र

इन पांच बैंक में FD कराने पर मिलेगा सबसे ज्यादा मुनाफा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 20, 2019, 5:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...