अखिलेश से गठबंधन में मायावती ने यूं मारी बाज़ी

सपा और बसपा के बीच गठबंधन की घोषणा में भले ही दोनों पार्टियों को 38-38 की बराबर सीट दिख रही हों, लेकिन अगर तह तक जाएंगे तो ये आंकड़ा 38 और 35 का है.

Anil Rai | News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 4:57 PM IST
अखिलेश से गठबंधन में मायावती ने यूं मारी बाज़ी
नेटवर्क 18 क्रिएटिव.
Anil Rai
Anil Rai | News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 4:57 PM IST
उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा के गठबंधन की घोषणा होने के साथ ही एक बात तय हो गई कि मायावती इस गठबंधन की नेता हैं. इशारों-इशारों में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने जहां मायावती को गठबंधन की तरफ से पीएम उम्मीदवार बता दिया, वहीं आंकड़ों में भी बसपा नंबर एक दिख रही है.

दरअसल गठबंधन की घोषणा में भले ही दोनों पार्टियों को 38-38 की बराबर सीट दिख रही हों, लेकिन अगर तह तक जाएंगे तो ये आंकड़ा 38 और 35 का है, जिससे साफ है कि मायावती को गठबंधन में सपा से तीन सीट ज्यादा मिली हैं.

सूत्रों की मानें तो सतीश चंद मिश्रा और अखिलेश यादव के बीच दो दिन पहले हुई एक बैठक में तय किया गया था कि किसी भी तरह ये संदेश न जाए कि सपा नंबर दो की पार्टी है. इसलिए आज की प्रेसवार्ता में सबसे पहले 38-38 सीटें दोनों पार्टियों को देकर ये संदेश देने की कोशिश की गई कि दोनों पार्टियां बराबरी पर हैं. उसके बाद प्रेसवार्ता के आखिर में मीडिया को ये बताया गया कि सपा अपने कोटे से आरएलडी के लिए एक और सीट देगी यानि आरएलडी की सीटों की संख्या तीन हो जाएगी.



इसके साथ ही सपा अपनी 38 सीटों में से एक-एक सीट निषाद पार्टी और पीस पार्टी को देगी. ये अलग बात है कि चुनाव के बाद ये दोनों छोटे दल गठबंधन का हिस्सा बने रहें, इसीलिए ये दोनों सपा के चिह्न पर ही चुनाव लड़ेंगे. यानी अब गठबंधन का गणित साफ हो गया. मायावती 38, सपा 35 आरएलडी तीन, कांग्रेस दो, पीस पार्टी एक और निषाद पार्टी एक.

ये भी पढ़े - 'स्टेट गेस्ट हाउस कांड' की वजह से बढ़ी थी दूरी, 25 साल बाद साथ आ रही हैं SP-BSP

कांग्रेस भले ही गठबंधन में शामिल नहीं हुई है, लेकिन मायावती और अखिलेश दोनों जानते हैं कि मोदी को दिल्ली की कुर्सी से बेदखल करने के लिए कांग्रेस का साथ जरूरी है. ऐसे में सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ उम्मीदवार खड़ाकर दोनों नेता चुनाव बाद गठबंधन के रास्ते को बंद नहीं करना चाहते हैं. इससे पहले भी सपा इन दोनों सीटों पर कांग्रेस को वॉकओवर देती रही है.

ये भी पढ़ें - सपा-बसपा गठबंधन: जानिए किसके हिस्से में जा सकती है कौन सी लोकसभा सीट?
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...