लाइव टीवी

बड़ी मूर्तियों में छोटे अंगों को बनाना होती है असली कलाकारी- सुतार

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: October 26, 2018, 4:18 PM IST
बड़ी मूर्तियों में छोटे अंगों को बनाना होती है असली कलाकारी- सुतार
फोटो- राम वी सुतार और उनके बेटे अनिल सुतार.

ऐसा लगता है मानों धातु और मिट्टी रामवी सुतार के हाथों में आने के बाद आकार लेने लगते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2018, 4:18 PM IST
  • Share this:
हरियाणा के कुरुक्षेत्र में खड़ा कृष्ण-अर्जुन का रथ हो या अमृतसर(पंजाब) में लगी 150 फीट ऊंची तलवार और गुजरात में बन रही सरदार पटेल की आदमकद मूर्ति. इन्हें देखकर ऐसा लगता है मानों धातु और मिट्टी रामवी सुतार के हाथों में आने के बाद आकार लेने लगते हैं.

मुम्बई छोड़कर नोएडा में आकर बसा ये कलाकार कई महापुरुषों की मूर्तियों बना चुके हैं. जल्द ही शिवाजी महाराज की 400 फीट ऊंची व आंबेडकर की 250 फीट ऊंची प्रतिमा को भी तैयार करेंगे.

गुरुवार की शाम मूर्तिकार रामवी सुतार को टैगोर अवार्ड 2016 देने की घोषणा की गई है. रामवी सुतार के बेटे अनिल सुतार ने न्यूज18 हिन्दी को बताया, “खुद पर्यटन मंत्री महेश शर्मा ने नोएडा स्थित घर पर आकर ये सूचना दी. इससे पहले सुतार को 1999 में पदमश्री और 2016 में पदम भूषण मिल चुका है.”

अनिल के अनुसार उनके पिता 1947 से मूर्तियां बना रहे हैं. उनकी 100 लोगों की टीम है. सरदार पटेल की मूर्ति के बारे में उन्होंने बताया, “गुजरात में नर्मदा नदी के किनारे बन रही मूर्ति 522 फीट ऊंची है. मूर्ति के चबूतरे की ऊंचाई 85 फीट है.”

मूर्ति के चेहरे, आंख, कंधे और पैर के बारे में बात करते हुए अनिल ने बताया, “पिताजी का मानना है कि किसी भी बड़ी मूर्ति बनाने के दौरान उसके छोटे-छोटे अंग बहुत मायने रखते हैं. ऐसा ही सरदार पटेल की मूर्ति बनाने के समय हुआ. जब तक बड़ी मूर्ति के छोटे अंगों का आकार सही न हो तो मूर्ति लाइव सी नहीं लगती है.

इसीलिए सरदार पटेल की मूर्ति का चेहरा 70 फीट का है. आंखों की पुतली 1.5 मीटर के डायमीटर की है. कंधे 140 फीट चौड़े हैं. मूर्ति का सेंडल 80 फीट लम्बा है. ये सब वो चीजें हैं जो किसी भी बड़ी मूर्ति में साफ-साफ दिखाई दी जानी चाहिए.”

ये भी पढ़ें- 'लेनिन, पेरियार की मूर्ति ही क्यों, संसद भवन भी तोड़ो'
Loading...

उनका कहना है, “मूर्ति को मजबूती देने के लिए कंक्रीट, लोहा और कांसे का ज्यादा इस्तेमाल किया गया है. कांसे में 88 प्रतिशत तांबा, 8 प्रतिशत टिन और 4 प्रतिशत जिंक का इस्तेमाल किया गया है.”

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नोएडा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2018, 4:03 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...