लाइव टीवी

सिर्फ अयोध्या केस ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट को चार दिन में सुनाने हैं ये सात अहम फैसले

Sushil Pandey | News18Hindi
Updated: November 8, 2019, 11:08 AM IST
सिर्फ अयोध्या केस ही नहीं, सुप्रीम कोर्ट को चार दिन में सुनाने हैं ये सात अहम फैसले
पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज एके पटनायक जाँच कर रहे थे कि क्या सीजेआई गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत कोई साजिश थी?

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में 40 दिन तक लगातार सुनवाई चलने के बाद अब फैसले की घड़ी है. समझा जा रहा है कि सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच अगले हफ्ते इस मुद्दे पर फैसला सुना सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 8, 2019, 11:08 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi) आगामी 17 नवंबर को पद से रिटायर हो रहे हैं. यदि शनिवार-रविवार और छुट्टियों को हटा दें तो उनके पास आधिकारिक काम करने के लिए सिर्फ चार दिन बचे हैं. इन चार दिनों में सुप्रीम कोर्ट में चल रहे सात ऐसे बड़े मामलों के फैसले आने हैं, जो धर्म, रक्षा (Defence) और राजनीति (Politics) से जुड़े हैं. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि शुक्रवार के बाद सुप्रीम कोर्ट जब 13 नवंबर को खुलेगा, तो किस मामले में कैसा फैसला आएगा.

अयोध्या-बाबरी मस्जिद मामला

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि के विवादित 2.77 एकड़ जमीन के स्वामित्व के लिए हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों द्वारा दायर की गई अपील पर सुप्रीम कोर्ट में 40 दिन तक लगातार सुनवाई चली. सीजेआई रंजन गोगोई की अध्यक्षता में पांच जजों वाली पीठ ने सुनवाई पूरी होने के बाद इस मामले पर 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित रख लिया था. इस मामले में दोनों पक्षों ने इतिहासकारों, ऐतिहासिक यात्रियों, गैजेटियर, अंग्रेज के जमाने से चले आ रहे जमीन संबंधी कागजातों के साथ अपनी-अपनी आस्था का पक्ष भी रखा.

राफेल रिव्यू पिटीशन

सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील प्रशांत भूषण, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने राफेल फाइटर प्लेन सौदे से संबंधित रिव्यू पिटिशन दायर की थी. यह याचिका सुप्रीम कोर्ट के द्वारा राफेल मामले में ही पिछले साल 14 दिसंबर को दिए गए फैसले के विरोध में दाखिल की गई थी. तब सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील में भ्रष्टाचार संबंधी आरोप पर जांच के आदेश देने से इनकार कर दिया था.

File Photo-CJI Ranjan Gogoi


राहुल गांधी पर अवमानना का मुकदमा
Loading...

इसी राफेल मामले में अदालत द्वारा फैसला सुरक्षित कर लेने के बाद तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाधी ने मीडिया में अदालत के हवाले से दावा किया था कि ‘चौकीदार (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) चोर है’. इस पर बीजेपी की नेता मीनाक्षी लेखी ने राहुल गांधी द्वारा अपने शब्द अदालत के होने का दावा करने को अदालत की अवमानना मानते हुए मुकदमा किया. सीजेआई रंजन गोगोई इस मामले पर भी अपना फैसला सुनाएंगे.

सबरीमाला रिव्यु पिटीशन

दरअसल 28 सितंबर, 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने केरल स्थित सबरीमाला मंदिर में रजस्वला (10 से 50 साल की ऐसी स्त्रियां, जिन्हें मासिक धर्म/पीरियड आते हों या फिर आ सकने की संभावना हो) को मंदिर में प्रवेश पर लगी रोक को हटा दिया था. इस फैसले के खिलाफ 65 याचिकाएं दायर की गईं थी. इस मामले में सीजेआई गोगोई पांच जजों की समीक्षा बेंच के साथ यह तय करेंगे कि सुप्रीम कोर्ट के पुराने फैसले को यथावत रखना है या उसे बदल कर नया फैसला सुनाना है.

क्या RTI चीफ जस्टिस पर लागू होगा?

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने चार अप्रैल को सीजेआई के आरटीआई के अंतर्गत आने पर फैसला सुरक्षित कर लिया था. पांच जजों की संविधान पीठ सुप्रीम कोर्ट के महासचिव द्वारा दिल्ली हाईकोर्ट के सीजेआई को आरटीआई में लाने के फैसले (2010) के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी. रिटायर होने से पहले रंजन गोगोई के अहम फैसले में से एक यह भी होगा.

(फाइल फोटो)


फाइनेंस एक्ट 2017 की वैधता

10 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने रेवेन्यू बार असोसिएशन द्वारा दायर याचिका पर फैसला सुरक्षित कर लिया था. याचिका में फाइनेंस एक्ट 2017 के उन प्रावधानों को चुनौती दी गई थी, जिनसे विभिन्न न्यायिक ट्रिब्यूनलों जैसे एनजीटी, इनकम टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल, नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल आदि की ताकत और संरचना प्रभावित हो रही थी.

CJI के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत

पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज एके पटनायक जांच कर रहे थे कि क्या सीजेआई गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत कोई साजिश थी? जस्टिस अरुण मिश्रा, आरएफ नरीमन और दीपक गुप्ता की विशेष पीठ ने जस्टिस पटनायक की नियुक्ति की थी. खबरों के मुताबिक जस्टिस पटनायक ने जांच पूरी कर अपनी रिपोर्ट अदालत को सौंप दी है. यह फैसला भी अपने आप में ऐतिहासिक होगा.

ये भी पढ़ें.

उम्र 19 साल और मुकदमे 175, जी हां, ये है पुणे पुलिस के लिए सिरदर्द बना करोड़पति चोर

Delhi Air Pollution: ऑड-इवन में इस एक गलती के लिए चुकाने पड़े 61 लाख रुपये

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 10:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...