लाइव टीवी

दिल्ली में सेना और रॉ के दफ्तरों पर आतंकी संगठनों ने रची हमले की साजिश: खुफिया सूत्र

News18Hindi
Updated: October 24, 2019, 9:06 AM IST
दिल्ली में सेना और रॉ के दफ्तरों पर आतंकी संगठनों ने रची हमले की साजिश: खुफिया सूत्र
दिल्ली में हमले की साजिश रच रहे हैं आतंकी

खुफिया सूत्रों की मानें तो इआतंकी संगठन (Terrorist Group) जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा ने दिल्ली (Delhi) में सेना (army) और रॉ (Raw) मुख्यालयों पर हमले की साजिश रची है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 24, 2019, 9:06 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पाकिस्तान (Pakistan) के आतंकी संगठन (Terrorist Group) जमात-उद-दावा और लश्कर-ए-तैयबा भारत (India) में बड़े हमले की फिराक में हैं. खुफिया सूत्रों की मानें तो इन आतंकी संगठनों ने दिल्ली (Delhi) में सेना (army) और रॉ (Raw) मुख्यालयों पर हमले की साजिश रची है. खुफिया सूत्रों द्वारा जारी अलर्ट में कहा गया कि येआतंकी संगठन अक्टूबर के अंत में दिल्ली को निशाना बना सकते हैं. इस अलर्ट के बाद रॉ और आर्मी के बड़े अफसरों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. साथ ही मुख्यालयों पर अतिरिक्त सुरक्षाकर्मियों को लगाया गया है.

बता दें कि जमात-उद-दावा का चीफ हाफिज सईद (Hafiz Saeed) है, जिसे अमेरिका, यूनाइटेड नेशन (UN) और यूरोपियन यूनियन ने आतंकी घोषित किया है. इसी संगठन ने मुंबई हमले की साजिश रची थी. जिसमें 166 लोगों की जान गई थी. खुफिया अलर्ट के बाद सुरक्षा एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है. सूत्रों का दावा है कि आतंकी पुलिसकर्मियों के रेजिडेंशनल इलाकों और सेना के दफ्तरों को निशाना बना सकते हैं.

FATA ने पाकिस्तान की थी आलोचना
यह खुफिया सूचना ऐसे समय आई है, जब पाकिस्तान को टेरर फंडिंग और आंतक के खिलाफ कार्रवाई न करने को लेकर फाइनैंशल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के एशिया पसिफिक ग्रुप (एपीजी) से तगड़ा झटका लगा है. FATF का मानना है कि पाकिस्तान ने यूएनएससी की 1267 प्रतिबंधों को लागू करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं. इन प्रतिबंधों में हाफिज सईद और लश्कर, जेयूडी और एफआईएफ समेत कई आतंकी संगठनों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी शामिल है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 9:04 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...