मुस्लिमों के लिए सुपर-30 का आनंद कुमार है ये, अब तक बनाए 100 से ज्यादा आईएएस-आईपीएस

ये जान लिजिए कि हमारे मापदण्ड पर आने वाला दूसरे क्षेत्र का टॉपर जम्मू-कश्मीर में बनी हमारी लिस्ट के 33वें उम्मीदवार से कमजोर है.

नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: May 1, 2018, 10:27 AM IST
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन | News18Hindi
Updated: May 1, 2018, 10:27 AM IST
बिहार में सुपर-30 के नाम से मशहूर आनंद कुमार का नाम तो हर किसी ने सुना होगा. वही आनंद कुमार जिनके पढ़ाए ज्यादा से ज्यादा बच्चे आईआईटी में पहुंचते हैं. लेकिन आज हम आपको मिलवा रहे हैं मुस्लिम युवाओं के लिए सुपर-30 के आनंद कुमार से. जी हां, इनका नाम है डॉ. सैय्यद महमूद जफर से. डॉ. जफर 1997 से जक़ात फाउंडेशन चला रहे हैं. लेकिन 2008 से इसी फाउंडेशन की मदद से मुस्लिम युवाओं को सिविल सर्विस की तैयारी करा रहे हैं. डॉ. जफर की मानें तो अब तक 100 से ज्यादा मुस्लिम युवा आईएएस और आईपीएस बन चुके हैं.


इसी वर्ष 2 ईसाई युवाओं सहित 26 मुस्लिम युवाओं ने सिविल सर्विस की परीक्षा पास की है. डॉ. जफर से न्यूज18 हिन्दी की टीम ने मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने बताया कि उनके सुपर-30 में जम्मू-कश्मीर के युवा भी जलवा बिखेर रहे हैं.

जम्मू और कश्मीर के युवाओं में आईएएस और आईपीएस बनने की बहुत योग्यता है. हम परीक्षा पास करने वाले सभी युवाओं को नहीं ले सकते हैं. हमारी अपनी भी कुछ मजबूरी हैं. वर्ना ये जान लिजिए कि हमारे मापदण्ड पर आने वाला दूसरे क्षेत्र का टॉपर जम्मू-कश्मीर में बनी हमारी लिस्ट के 33वें उम्मीदवार से कमजोर है. ये कहना है जक़ात फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. सैय्यद जफर महमूद का.

आपको बता दें कि जक़ात फाउंडेशन सिविल सर्विस की तैयार करने वाले बच्चों की मदद करती है. इसके लिए फाउंडेशन सिविल सर्विस की प्री परीक्षा के बराबर एक लिखित परीक्षा और इंटरव्यू आयोजित करती है. न्यूज18 हिन्दी से खासबीत में डॉ. जफर ने बताया कि ‘इस बार जम्मू-कश्मीर से 250 लड़के-लड़कियों ने हमारी परीक्षा में हिस्सा लिया था. जिसमे से 33 बच्चे इंटरव्यू के लिए बुलाए गए थे.

हमने सभी के इंटरव्यू लिए. 33 बच्चों में से कोई भी ऐसा नहीं था कि जिसे हम पीछे छोड़ दें और उसे सिविल सर्विस की तैयारी में मदद न करें. लेकिन हमारे संसाधन सीमित हैं, इसलिए सभी को लेना मुमकिन नहीं है. हम आमतौर पर हर साल जम्मू-कश्मीर से 10 से 12 युवाओं को तैयारी कराते हैं.’

मां-बाप को समझा दो, मैं भी आईएएस बनना चाहती हूं
Loading...
डॉ. जफर बताते हैं कि कई बार लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के दौरान लड़कियां भी हमसे संपर्क करती हैं. उनका कहना ये होता है कि हम भी सिविल सर्विस की तैयारी करना चाहते हैं, लेकिन हमारे मां-बाप से हमे इजाजत दिलवा दो. ऐसे ही कुछ किस्से उन्होंने जम्मू-कश्मीर के भी बताए.


कोचिंग के लिए मुम्बई से इंटरव्यू देने आई है सालिहा

नए बैच के लिए जक़ात फाउंडेशन में लिखित परीक्षा के बाद अब इंटरव्यू का दौर चल रहा है. इंटरव्यू देने के लिए आई ऐसी ही एक छात्रा सालिहा से बात की न्यूज18 हिन्दी ने. बातचीत में सालिहा ने बताया कि वह मुम्बई में रहती है. पढ़ाई भी वहीं से की है. लेकिन अब सिविल सर्विस की तैयारी करना चाहती है. इसके लिए जक़ात की मदद पाने के लिए कोशिश कर रही है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर