होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /अगर आप बना रहे हैं वाहन चेकिंग का वीडियो, तो ट्रैफिक पुलिस नहीं लगा सकती मोबाइल को हाथ!

अगर आप बना रहे हैं वाहन चेकिंग का वीडियो, तो ट्रैफिक पुलिस नहीं लगा सकती मोबाइल को हाथ!

दिल्ली पुलिस के लिए डेढ़ लाख कटे ई-चालान अब मुसीबत बन गए हैं

दिल्ली पुलिस के लिए डेढ़ लाख कटे ई-चालान अब मुसीबत बन गए हैं

Motor vehicle Act : ट्रैफिक चालान (Traffic Challan) काटते वक्त पुलिस करे दुर्व्यवहार तो करें मोबाइल से रिकॉर्डिंग (Vide ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. जब से संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट (Motor vehicle Act) लागू हुआ है, चालान (Challan) की दरें भारी-भरकम हो गई हैं. पुलिस भी पहले के मुकाबले ज्यादा सक्रिय दिख रही है. चौक-चौराहों पर खड़ी होकर जांच कर रही है. तमाम जगहों से पुलिस (Traffic Police) के दुर्व्यवहार की खबरें और वीडियो आ रहे हैं. ऐसे में आपके कुछ अधिकार भी हैं. कोई भी वाहन चालक पुलिसकर्मी के साथ बातचीत के दौरान कैमरा इस्तेमाल कर सकता है. इस पर कोई पाबंदी नहीं है. पुलिसकर्मी को फोन (Mobile Phone) और कैमरा (Camera) आदि  छीनने और तोड़ने का अधिकार नहीं है. एक आरटीआई (RTI) के जवाब में हरियाणा (Haryana) पुलिस ने यह जानकारी दी है.

    फरीदाबाद निवासी RTI एक्टिविस्ट अनुभव सुखीजा ने वाहन चालकों के अधिकार को लेकर हरियाणा पुलिस में एक आरटीआई डाली. पुलिस ने बताया कि वाहन चलाते समय अगर किसी चालक के पास ड्राइविंग लाइसेंस (Driving licence) और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) आदि नहीं है तो चालक मोबाइल पर पुलिसकर्मी को कागजात दिखा सकता है. वाहन चलाते समय गाड़ी में हॉकी, क्रिकेट बैट, विकेट आदि सामान रखने पर पाबंदी नहीं है. लेकिन अवैध हथियार रखना दंडनीय अपराध है.

    मोटर व्हीकल एक्ट, Motor vehicle Act, ट्रैफिक चालान, Traffic Challan, ट्रैफिक पुलिस, Traffic Police, वीडियो रिकॉर्डिंग, video recording, मोबाइल फोन, Mobile Phone, कैमरा, Camera, आरटीआई, RTI, हरियाणा पुलिस, Haryana police, ड्राइविंग लाईसेंस, Driving licence, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, RC, हॉकी, क्रिकेट बैट, विकेट, Hockey, cricket bat, wicket, फरीदाबाद, faridabad, vehicle checking, वाहन चेकिंग
    पुलिस से बातचीत के दौरान मोबाइल से कर सकते हैं रिकॉर्डिंग (File Photo)


    किसे मिल सकती है सीट बेल्ट से छूट
    आरटीआई के एक सवाल के जवाब में ट्रैफिक पुलिस ने बताया है कि वाहन चलाते समय चालक व चालक के साथ बराबर में बैठे व्यक्ति के लिए सीट बेल्ट लगाना अनिवार्य है. लेकिन अगर कोई महिला गर्भवती है या चोट आदि है तो मानवता के आधार पर सीट बेल्ट से छूट मिल सकती है.

    थाने में खड़ा कर सकते हैं वाहन
    अगर कोई व्यक्ति पुलिस थाने में किसी काम के लिए जाता है तो अपने वाहन को थाने में निर्धारित जगह पर खड़ा कर सकता है. आरटीआई के मुताबिक कानून में स्पष्ट नहीं है कि डॉक्टर, वकील या प्रेस का लोगो लगाना गलत है. लेकिन यदि अगर कोई व्यक्ति अपने निजी वाहन पर भारत सरकार या राज्य सरकार का लोगो लगाता है तो उसके खिलाफ मोटर व्हीकल एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी.

    गाली देने और मारपीट का अधिकार नहीं
    पुलिसकर्मी हाथ से इशारा करके वाहन रुकवा सकता है. चेक कर सकता है. अगर कोई चालक पुलिसकर्मी द्वारा दिए गए इशारे पर अपना वाहन नहीं रोकता है तो उसके खिलाफ उचित कार्रवाई का अधिकार है. लेकिन पुलिसकर्मी किसी व्यक्ति को न तो गाली दे सकता है और न मारपीट कर सकता है. पुलिसकर्मी को वाहन के प्रदूषण स्तर का सर्टिफिकेट चेक करने का अधिकार है.

    मोटर व्हीकल एक्ट, Motor vehicle Act, ट्रैफिक चालान, Traffic Challan, ट्रैफिक पुलिस, Traffic Police, वीडियो रिकॉर्डिंग, video recording, मोबाइल फोन, Mobile Phone, कैमरा, Camera, आरटीआई, RTI, हरियाणा पुलिस, Haryana police, ड्राइविंग लाईसेंस, Driving licence, रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट, RC, हॉकी, क्रिकेट बैट, विकेट, Hockey, cricket bat, wicket, फरीदाबाद, faridabad, vehicle checking, वाहन चेकिंग
    ट्रैफिक पुलिस को चालान काटने का अधिकार है न कि मारपीट करने और गाली देने का  (File Photo)


    बिल चेक करने का अधिकार
    अगर कोई वाहन चालक अपने निजी वाहन में कमर्शियल उद्देश्य के लिए कोई सामान ले जाता है तो पुलिसकर्मी को उसका बिल चेक करने का अधिकार है. पुलिसकर्मी अगर किसी वाहन चालक को गाड़ी के कागजात चेक करने के लिए रुकवाता है तो चालक कागजात पुलिसकर्मी को दिखाने का जिम्मेदार होगा.



    ये भी पढ़ें: किसान पेंशन योजना: हर महीने 3000 रुपये पाने के लिए नहीं देना होगा एक भी रुपया
    किसानों के बैंक अकाउंट में पहुंचे 4-4 हजार रुपये, अगर आपको नहीं मिले पैसे तो करें ये काम!

    Tags: Haryana news, Mobile Phone, Police, RTI, Traffic Department

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें