दिल्लीः 'डोर स्टेप डिलीवरी' सर्विस के पहले ही दिन 25 हज़ार लोगों ने की कॉल

इस पहल में खास भूमिका गोपाल मोहन की रही है जो कि प्रौद्योगिकी और भ्रष्टाचार निरोधक मुद्दों पर केजरीवाल के सलाहकार भी हैं. वह इस योजना पर पिछले तीन सालों से काम कर रहे थे.

आईएएनएस
Updated: September 11, 2018, 9:22 AM IST
दिल्लीः 'डोर स्टेप डिलीवरी' सर्विस के पहले ही दिन 25 हज़ार लोगों ने की कॉल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
आईएएनएस
Updated: September 11, 2018, 9:22 AM IST
दिल्ली सरकार ने सोमवार को 40 सार्वजनिक सेवाओं की 'डोर स्टेप डिलीवरी' शुरू कर दी. राष्ट्रीय राजधानी में रहने वाले लोगों से इसे अच्छी प्रतिक्रिया मिली और कुछ ही घंटों में 369 ऑर्डर मिल गए. दिल्ली सरकार ने एक बयान में कहा कि दिल्ली सचिवालय में सेवा का शुभारंभ करने वाले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अगले कुछ दिनों तक घंटों की दर में सेवा पर नजर रखेंगे.

सेवा शुरू होने के कुछ घंटों में ही हॉटलाइन नंबर 1076 पर कॉल की भरमार हो गई. सरकार द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, दोपहर डेढ़ बजे तक 1,200 कॉल आ चुकी थी और 200 ऑर्डर मिल चुके थे. शाम छह बजे तक 2,728 फोन आ चुके थे, जिनमें 1,286 कॉल सीधे जुड़ गई और बाकी पर ऑपरेटर ने वापस कॉल किया.

ये भी पढ़ेंः PWD घोटाला: केजरीवाल ने साले को सरकारी कॉन्ट्रैक्ट दिलाया? सुनवाई आज

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, "कुल 21,000 बार कॉल करने की कोशिशें की गईं, लेकिन हाई ट्रैफिक की वजह से कॉल्स नहीं लग पाईं. ऑपरेटर इन सभी नंबरों पर वापस कॉल करेंगे." लिए गए कुल ऑर्डर्स में से सात मामलों में दस्तावेज इकट्ठे भी कर लिए गए हैं.

हालांकि पहले दिन आई कॉलों की संख्या की तुलना में अन्य दिनों में कम कॉलें आएंगी, क्योंकि कई कॉलरों ने सिर्फ उत्साह में या इस बात की पुष्टि करने के लिए कॉल किया था कि सेवा शुरू हो चुकी है या नहीं.

ये भी पढ़ेंः आप के 5 पुराने नेताओं ने केजरीवाल को दिया फिर खड़े होने का मंत्र

इस पहल में खास भूमिका गोपाल मोहन की रही है जो कि प्रौद्योगिकी और भ्रष्टाचार निरोधक मुद्दों पर केजरीवाल के सलाहकार भी हैं. वह इस योजना पर पिछले तीन सालों से काम कर रहे थे. गोपाल मोहन दिल्ली सरकार की वाई-फाई और सीसीटीवी योजनाओं पर भी बहुत नजदीकी से काम कर रहे हैं.
Loading...
मोहन ने कहा कि ऑनलाइन सेवाओं से प्रत्येक नागरिक के सहज नहीं होने के कारण योजना बनानी जरूरी था. उन्होंने कहा, "दिसंबर 2015 में जब इसकी योजना बनी तो ऑनलाइन सिस्टम में मात्र 7-8 फीसदी लोग ही सहज थे, लेकिन विभिन्न कारणों से इसे लागू नहीं किया जा सका."
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर