उन्नाव रेप पीड़िता सीरियस ब्लड इंफेक्शन से जूझ रही है, लेकिन हालत स्थिर

उन्नाव रेप पीड़िता (Unnao rape Victim) की हालत जस की तस बनी हुई है. बीते 5 अगस्त को ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के बाद उन्नाव रेप पीड़िता को लखनऊ (Lucknow) के किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय (KGMU) से दिल्ली (Delhi) के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ट्रामा सेंटर (AIIMS Trauma Centre) में लाया गया था. पीड़िता को अभी भी आईसीयू (ICU) में ही रखा गया है.

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 13, 2019, 10:29 PM IST
उन्नाव रेप पीड़िता सीरियस ब्लड इंफेक्शन से जूझ रही है, लेकिन हालत स्थिर
उन्नाव रेप पीड़िता की हालत जस की तस बनी हुई है
Ravishankar Singh
Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: August 13, 2019, 10:29 PM IST
उन्नाव रेप पीड़िता (Unnao rape Victim) की हालत जस की तस बनी हुई है. बीते 5 अगस्त को ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के बाद उन्नाव रेप पीड़िता को लखनऊ (Lucknow) के किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (KGMU) से दिल्ली (Delhi) के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ट्रामा सेंटर (AIIMS Trauma Centre) में लाया गया था. पीड़िता को अभी भी आईसीयू (ICU) में ही रखा गया है. उन्नाव रेप पीड़िता को लेकर एम्स के तरफ से कोई भी आधिकारिक बयान अभी तक नहीं आया है. पीड़िता को अभी भी लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर ही रखा गया है.

एम्स ट्रामा सेंटर के कई वरिष्ठ डॉक्टर्स पीड़िता के स्वास्थ्य पर गहनता से नजर रख रहे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि पीड़िता सीरियस ब्लड इंफेक्शन से जूझ रही हैं. ब्लड इंफेक्शन के कारण पीड़िता पर एंटीबायोटिक दवाओं का असर अप्रभावी हो गया है.

एम्स ट्रामा सेंटर के कई वरिष्ठ डॉक्टर्स पीड़िता के स्वास्थ्य पर गहनता से नजर रख रहे हैं.


पीड़िता गंभीर संक्रमण के दौर से गुजर रही है

पीड़िता के ब्लड कल्चर टेस्ट से पता चला है कि उसके खून में गंभीर संक्रमण हो गया है. ब्लड कल्चर रिपोर्ट सामने आने के बाद एम्स के डॉक्टरों की चिंता बढ़ गई. पीड़िता की ब्लड रिपोर्ट में एंटरोकोकस बैक्टीरिया (Enterococcous bacteria) पाए गए हैं. इस तरह के बैक्टीरिया लोगों के मुंह और योनि में पाए जाते हैं. ये बैक्टीरिया बहुत लचीले होते हैं. इसलिए वे गर्म, नमकीन या अम्लीय वातावरण में भी जीवित रह सकते हैं.

एम्स के डॉक्टर्स पूरी कोशिश कर रहे हैं कि पीड़िता के शरीर के अन्य भागों में यह बैक्टीरिया नहीं फैले. अगर यह बैक्टीरिया शरीर के अन्य भागों में भी फैलता है तो यह जीवन के लिए खतरा पैदा कर सकता है. अभी तक इस कोशिश में एम्स के डॉक्टरों की काफी हद तक कामयाबी हासिल हुई है.

आरोपी विधायक पर सीबीआई का कसा शिकंजा
Loading...

इधर सीबीआई (CBI) ने उन्नाव रेप के मुख्य आरोपी और बीजेपी से निष्काषित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep singh sengar) पर शिकंजा कस दिया है. मंगलवार को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट (tees hazari court delhi) ने भी उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में कथित मौत के मामले में आरोप तय कर दिए हैं.

उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की न्यायिक हिरासत में कथित मौत के मामले में आरोप तय कर दिए हैं.


दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के जिला सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने पीड़िता के पिता को साल 2018 में सशस्त्र अधिनियम के तहत आरोपी बनाने और हमला करने के मामले में सेंगर और अन्य के खिलाफ आरोप तय कर दिए हैं. इस मामले में सेंगर के साथ 10 और आरोपियों के खिलाफ भी आरोप तय किए गए हैं.

बीते शुक्रवार को भाी इस मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने मुख्य आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ रेप, पॉक्सो, अपहरण की धाराओं में आरोप तय किए थे. सेंगर को इसी महीने लखनऊ से तिहाड़ जेल शिफ्ट किया गया था. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद इस मामले की सुनवाई अब दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में चल रहा है.

तीस हजारी कोर्ट में 45 दिनों में ट्रायल में पूरा करना है
बता दें कि इस महीने के शुरुआत में ही सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव रेप कांड से जुड़े पांच मामले को तीस हजारी कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया था. पीड़िता के साथ हुए रोड एक्सीडेंट का मामला फिलहाल यूपी पुलिस के पास ही है. 28 जुलाई 2019 को उन्नाव रेप पीड़िता को रायबरेली के पास ट्रक ने टक्कर मार दी थी, जिसमें पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो गई थी. सीबीआई ने रोड एक्सीडेंट की जांच भी अपने हाथ में ले ली है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के मुताबिक तीस हजारी कोर्ट को यह मामला 45 दिन के ट्रायल में पूरा करना है.

रेप पीड़िता लड़की ने 4 जून 2017 को आरोप लगाया था कि उसका बीजेपी के विधायक कुलदीप सेंगर के घर पर बलात्कार किया गया.


 4 जून 2017 को पीड़िता ने रेप का आरोप लगाया था
रेप पीड़िता लड़की ने 4 जून 2017 को आरोप लगाया था कि उसका बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर के घर पर बलात्कार किया गया. पीड़िता ने उस समय कहा था कि वह अपने एक पड़ोसी के साथ नौकरी दिलाने में मदद के लिए विधायक के पास गई थी. रेप का आरोप लगाने के बाद से ही पीड़िता गायब हो गई थी.

11 जून 2017 को पीड़िता की गुमशुदगी की रिपोर्ट उसके परिवार वालों ने दर्ज कराई थी. 20 जून 2017 को पीड़िता यूपी के औरैया जिला के एक गांव से मिली. 22 जून 2017 को यूपी पुलिस ने पीड़िता को कोर्ट में पेश किया, जहां पर पीड़िता का बयान दर्ज हुआ. पीड़िता ने अपने बयान में कहा था कि यूपी पुलिस ने एफआईआर में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का नाम नहीं लेने दिया.

ये भी पढ़ें:

उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के मामले में कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ आरोप तय

यूपी की सड़कों पर नमाज पढ़ने या आरती करने पर लगेगा प्रतिबंध, लागू होगा अलीगढ़, मेरठ 'मॉडल'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 13, 2019, 9:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...