लाइव टीवी

दिल्ली: तीस हजारी के बाद कड़कड़डूमा कोर्ट में भी जमकर बवाल, बार एसोसिएशन ने किया हड़ताल का आह्वान

News18Hindi
Updated: November 2, 2019, 11:00 PM IST
दिल्ली: तीस हजारी के बाद कड़कड़डूमा कोर्ट में भी जमकर बवाल, बार एसोसिएशन ने किया हड़ताल का आह्वान
दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच जोरदार संघर्ष की खबर है

तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) परिसर में पार्किंग (Parking) को लेकर वकीलों और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के बीच विवाद. झड़प के बाद घायल वकीलों को सेंट स्टीफन हॉस्पिटल ले जाया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 2, 2019, 11:00 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) की तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) में पुलिस (Police) और वकीलों (Lawyers) के बीच जमकर झड़प (Scuffle) हुई. इस झड़प में 10 पुलिसकर्मी और कुछ वकील घायल हो गए, जबकि 17 वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया. अधिकारियों और प्रत्यक्षदशियों ने इस बारे में बताया है.

पुलिस ने बताया कि घायलों में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी जिला) हरिंदर कुमार, कोतवाली और सिविल लाइंस थाने के प्रभारी और पुलिस उपायुक्त (उत्तरी) के ऑपरेटर भी हैं. वकीलों ने आरोप लगाया कि उनके चार सहयोगी घायल हो गए. इसमें एक पुलिस की गोलीबारी में घायल हुआ. हालांकि, पुलिस ने इनकार किया कि उसने गोली चलाई. वहीं तीस हजारी कोर्ट में हुए हंगामें का 'आंच' कड़कड़डूमा कोर्ट तक पहुंच गई. वकीलों ने कड़कड़डूमा कोर्ट में भी जमकर बवाल किया. किसी तरह पुलिस ने मामला शांत कराया.

बताया जा रहा है कि पार्किंग को लेकर वकीलों और पुलिस के बीच ये विवाद शुरू हुआ है. तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए यहां कई जिलों से फोर्स मौजूद है. मौके पर पुलिसबलों की भारी तैनाती कर दी गई है.

कुछ गाड़ियों में भी आग लगाई गई है. इस दौरान फायरिंग की भी खबर है. कवरेज कर रहे कुछ पत्रकारों के साथ मार-पीट भी की गई है. ऐसी खबर है कि इस झड़प में दो से ज्यादा वकील घायल भी हो गए हैं, जिसे पास के सेंट स्टीफन हॉस्पिटल ले जाया गया है. दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच इस हिंसक झड़प के बाद दिल्ली पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स में कैदियों की एक गाड़ी में आग लगा दी गई है. आग बुझाने के लिए दमकल की कई गाड़ियां पहुंची. दमकल विभाग के मुताबिक, तीस हजारी कोर्ट से कॉल मिलने पर 4 गाड़ियां मौके पर भेजी गई हैं.

दमकल विभाग के मुताबिक तीस हजारी कोर्ट में कॉल मिलने पर 4 गाड़ियां मौके पर भेजी गई हैं.
दमकल की 4 गाड़ियां मौके पर भेजी गई हैं.


न्यूज 18 हिंदी से बात करते हुए तीस हजारी कोर्ट के एक वकील राहुल सिंह कहते हैं, 'पार्किंग को लेकर विवाद शुरू हुआ, जिसमें दिल्ली पुलिस ने एक वकील को लॉकअप में बंद कर दिया. उस वकील को लॉकअप में बंद करने से दूसरे वकील नाराज हो गए और हंगामा शुरू हो गया. इसके बाद कोर्ट परिसर में ही लॉकअप के बाहर वकीलों और पुलिसवालों के बीच झड़प शुरू हो गई. बाद में वकीलों ने पुलिस पर और पुलिस ने वकीलों पर हमले किए.

बार एसोसिएशनों ने किया एक दिवसीय हड़ताल का आह्वान
बार एसोसिएशनों ने घटना की निंदा की और चार नवंबर को राष्ट्रीय राजधानी की सभी जिला अदालतों में एक दिवसीय हड़ताल का आह्वान किया. तीस हजारी बार एसोसिएशन के सचिव जयवीर सिंह चौहान ने बताया कि एक वकील की कार, पुलिस की जेल वैन को छू गई, जिसके बाद वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच बहस हो गई. चौहान ने आरोप लगाया, ‘इसके बाद उन्हें हवालात ले जाया गया और बुरी तरह पीटा गया. थाना प्रभारी आए लेकिन भीतर जाने नहीं दिया गया. मध्य और पश्चिमी जिले के जिला न्यायाधीश, छह अन्य न्यायाधीशों के साथ वहां गए लेकिन वकील को नहीं निकलवा पाए.’ उन्होंने दावा किया कि न्यायाधीश जब जा रहे थे तो 20 मिनट बाद पुलिस ने चार राउंड गोलियां चलाई.

वकीलों के साथ बार काउंसिल ऑफ दिल्ली
बार काउंसिल ऑफ दिल्ली के अध्यक्ष के सी मित्तल ने कहा, ‘हम तीस हजारी अदालत में पुलिस द्वारा वकीलों पर बर्बर और बिना किसी उकसावे के हमले की कड़ी निंदा करते है. एक वकील की हालत नाजुक है. हवालात में एक वकील को पीटा गया. पुलिस ने घोर लापरवाही दिखाई. उन्हें बर्खास्त करना चाहिए और उनपर मुकदमा चलना चाहिए. हम दिल्ली के वकीलों के साथ खड़े हैं.’

असम बार काउंसिल की सदस्य पर पुलिस ने किया हमला
असम बार काउंसिल की सदस्य खुशबू वर्मा कुछ काम से वहां आयी थीं. उन्होंने आरोप लगाया कि घटना के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मियों ने उनपर हमला किया. उन्होंने दावा किया, ‘एक भी महिला पुलिसकर्मी मौजूद नहीं थी.’

(भाषा इनपुट के साथ)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 4:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...